पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

14 हजार पंपों को नहीं मिल रही बिजली

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बेमेतरा। सरकार ने करोडों खर्च करके किसानों के सिंचाई पंपों को सीधे बिजली सप्लाई करने की योजना अटल ज्योति जिले में लागू की थी। इस योजना के तहत जिले में एक हजार किलोमीटर तक खंभे बिछाए गए हैं। पंपों को सीधे बिजली सप्लाई करने वाले इंसुलेटर व डिस्क इंसुलेटर तार व घटिया खंभों के कारण बिजली सप्लाई कई दिनों से ठप है। बिजली सप्लाई नहीं होने के कारण पावर पंप बंद हैं। बिजली विभाग की इस अव्यवस्था से परेशान सैकड़ों की तादात में किसान बिजली दफ्तर का चक्कर लगा रहे हैं। ज्ञात हो कि सौ करोड़ की लागत से एक हजार किलोमीटर संभागीय क्षेत्र में तार खींचे गए हैं। किसानों का कहना है कि बिजली सप्लाई होते ही इंसूलेटर फट जाते हैं। इस तरह के इंसूलेटर हजारों की संख्या में है, मीलों खंभों में लगे हैं। इन इंसुलेटर को बदलने से ही बिजली की सप्लाई सामान्य हो सकती है। किसानों का कहना है कि इंसुलेटर बदलने में काफी वक्त लगेगा तब तक पावर पंपों पर निर्भर किसानों के अरबों रुपए के फसल नष्ट हो जाने की आशंका है। इंसूलेटर ठीक करने के लिए किसान आफिस का चक्कर लगाकर अधिकारियों पर दबाव बना रहे हैं दूसरी तरफ अधिकारी किसानों के गुस्से को देखकर इंसूलेटर ठीक करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। ऐसी जानकारी मिली है कि बिजली अधिकारी ग्रामीण क्षेत्र के घरेलू बिजली सप्लाई को बंद कर किसानों को देने रहे हैं तथा प्रशासन को घरेलू बिजली में फाल्ट होने की जानकारी देकर अटल ज्योति योजना के फाल्ट से बचने की कोशिश कर रहे हैं। अटल ज्योति योजना के फाल्ट को ठीक नहीं कर सकने तथाकिसानों का सामूहिक आक्रोश से बचने के लिए ज्यादातर अधिकारी शहर में निवास बना लिए हैं ताकि वे किसानोंे के आक्रोश से बच सके। इसका दुष्प्रभाव यह पड़ रहा है कि जिले में करीबन 15 हजार सिंचाई पावर पंप बंद हैं। कुछ किसान नेताओं का आरोप है कि अटल ज्योति योजना के तहत बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किया गया है यही वजह है कि इंसूलेटर व डिस्क इंसुलेटर बिजली सप्लाई के साथ ही फट जा रहे हैं। किसानों को पावर पंप के लिए बिजली नहीं मिलने से उनमें लगातार आक्रोश बढ़ता जा रहा है. आसपास के बिजली दफ्तरों में किसान हो हल्ला मचा रहे हैं। जिले की स्थिति धीरे-धीरे विस्फोटक होती जा रही है। जिले का यही हाल है. सुधार व संचार अधिकारी आरके श्रीवास्तव का कहना है कि यह स्थिति पूरे जिले की है। राज्य स्तर के अधिकारियों को वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया गया है। श्री श्रीवास्तव का कहना है कि राज्य स्तर के अधिकारियों ने ठेकेदार को इंसूलेटर व डिस्क इंसूलेटर बदलने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि सबसे अधिक समस्या बटार फीडर में था जहां सुधार कर लिया गया है, जहां-जहां पर इंसूलेटर व डिस्क इंसूलेटर के खराब होने की सूचना है वहां-वहां बदलने को कहा जा रहा है। उनका कहना है कि चरण बद्ध तरीके से खराब सामग्री को बदला जा रहा है। गांवों में हो रही बिजली कटौती से परेशानी ग्रामीण क्षेत्र में लगातार हो रही विद्युत कटौती से ग्रामीणों में रोष बनता जा रहा है। विद्युत कटौती से फसलों को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। वही पर्याप्त बारिश नहीं होने के कारण हैंड पंप से पानी आना बंद होने से ग्रामीण को और आक्रोशित कर रहा है। इस संबंध में ग्राम कंतेली में बिजली की अघोषित कटौती के बारे में जानकारी देते हुए लेख राम ने बताया कि बिजली की अघोषित कटौती से फसलों को नुकसान हो रहा है। भूपेन्द्र प्रसाद पाण्डेय ने बताया कि पानी की कमी के कारण खेतों में रोपाई का काम भी पिछड़ गया है। इन लोगों ने बताया कि पर्याप्त बारिश के अभाव में भू-जल स्तर नीचे चले जाने से गांव के हैंड पंप से पानी नहीं निकल पा रहा है। पानी के लिए लोगों को झगड़ा करना पड़ रहा है। सब स्टेशन क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले हीरा चंद साहू, अरुण परगनिहा, रामचंद्र साहू, शिव कुमार, राम शंकर पाल ने विद्युत विभाग के संभागीय यंत्री को दिए शिकायत पत्र में बताया कि गांव में होने वाले प्रतिदिन कटौती सुबह 5 से रात 11 बजे तक रहती है। इसके अलावा भी कटौती किया जाता है। जिसके कारण सिंचाई की समस्या रहता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें