• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Raipur
  • News
  • झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
--Advertisement--

झलियामारी दुष्कर्म: फास्ट ट्रैक कोर्ट ने तीन गुनहगारों को दी उम्रकैद की सजा मासूम बच्चीयों को मिला 205 में इंसाप,कानून के सहारे

झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया।

Dainik Bhaskar

Nov 01, 2013, 12:07 AM IST
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया

कांकेर. झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया। आठ आरोपियों में तीन को उम्र कैद, चार को पांच-पांच साल और एक को चार वर्ष की सजा हुई है। इसके साथ ही अदालत ने पीड़ित 15 बालिकाओं को बतौर क्षतिपूर्ति सात-सात लाख रुपए शासन को देने का आदेश दिया है।

न्यायाधीश महादेव कातुलकर ने मुख्य आरोपी शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटी व आश्रम के चौकीदार दीनानाथ नागेश को दुष्कर्म तथा अन्य मामले का और आश्रम अधीक्षिका भभीता मरकाम को षड़यंत्र रचने और मन्नूराम व दीनानाथ का सहयोग करने का दोषी पाया। तीनों को उम्रकैद की सजा हुई है।

फोटो- भभीता

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी खबर-

झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया

उपसरपंच सुकालु राम, पंच लच्छु राम, बीईओ एसएस नवर्जी तथा एबीईओ जितेंद्र नायक को पांच साल और शिक्षाकर्मी सागर कतलाम को चार साल की सजा हुई है। दोषियों के वकील संदीप श्रीवास्तव ने कहा कि कोर्ट के फैसले के खिलाफ बिलासपुर हाईकोर्ट में वे अपील करेंगे। 

फोटोदाएं लच्छुराम और बाएं दीनानाथ

झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया

उल्लेखनीय है कि झलियामारी बालिका आश्रम की छात्राओं से वहां पदस्थ शिक्षाकर्मी मन्नूराम तथा चौकीदार दीनानाथ दो साल से दुष्कर्म कर रहा था। 13जनवरी को थाने में रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बाद मामले का खुलासा हुआ

फोटो- दाएं मन्नुराम और बाएं सुकालुराम
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
दो साल तक छात्राओं की लूटी अस्मत 
 
कांकेर जिले के झलियामारी बालिका आश्रम में पढ़ने वाली छात्राओं के साथ वहां पदस्थ शिक्षाकर्मी मन्नूराम गोटी तथा चौकीदार दीनानाथ नागेश दो साल से दुष्कर्म कर रहा था।
 
मामले का खुलासा उस समय हुआ, जब इस साल 13 जनवरी को जिला प्रशासन ने दोषियों के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज कराई। आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। जिला एवं सत्र न्यायालय में आरोप तय होने के बाद केस को तीन मई से फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का फैसला किया गया। 
 
फोटो- दाएं नवर्जी बाएं जितेंद्र
 
X
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
झलियामारी दुष्कर्म मामले में बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 205 दिन में फैसला सुना दिया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..