पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • रविवि में हिंदी की जगह अंग्रेजी पर्चा, एलएलएम की परीक्षा रद्द

रविवि में हिंदी की जगह अंग्रेजी पर्चा, एलएलएम की परीक्षा रद्द

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एलएलएम प्रथम सेमेस्टर के तहत 30 जनवरी हुए दूसरा पर्चे की परीक्षा अब दोबारा होगी। पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, उस दिन हुए पर्चे को रद्द कर फिर से परीक्षा लेने की तैयारी कर रहा है। भारत का संविधान एवं नई चुनौतियां भाग-1, नामक इस पर्चे में सारे सवाल इंग्लिश में पूछे गए थे। प्रश्नपत्र में हिंदी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया गया था। जिसकी वजह से हिंदी मीडियम वाले परीक्षार्थियों को परेशानी हुई। छात्रों ने हंगामा किया और आंसरशीट को कोरा छोड़कर ही बाहर निकल गए। मामला विवि प्रबंधन के पास पहुंचा। अफसरों ने बताया कि इस पर्चे की परीक्षा फिर से होगी। इसकी सूचना जल्द जारी होगी।

एलएलएम की परीक्षा 25 जनवरी से शुरू हुई। सोमवार को इसका आखिरी पर्चा था। इस बीच 30 जनवरी को हुए दूसरा पर्चा विवादित हो गया। हिंदी मीडियम वाले छात्रों ने परीक्षा का विरोध किया और इसे छोड़कर परीक्षा हॉल से बाहर निकल गए। इस बीच इंग्लिश मीडियम के तीन-चार छात्रों ने परीक्षा दी। छात्रों ने इंग्लिश में मिले प्रश्नपत्र की शिकायत विवि के अधिकारियों से की। इसके अगले ही दिन छात्र संगठन भी मैदान में उतर गए। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) के कार्यकर्ताओं ने विवि पहुंचकर जमकर हंगामा किया।

परीक्षा रद्द करने और लापरवाही बरतने वाले अफसरों पर कार्रवाई की मांग की। अब विवि ने विवादित पर्चे की परीक्षा फिर से आयोजित करने की तैयारी की है। अफसरों ने बताया कि परीक्षा दोबारा होगी। परीक्षा कब होगी, इस संबंध में सूचना जल्द जारी होगी। किसकी वजह से यह लापरवाही हुई इसकी जांच की जा रही है। संबंधित अफसर पर कार्रवाई होगी।

शिक्षकों ने कहा था दूसरा पर्चा नहीं दे सकते
रविवि में 30 जनवरी को एलएलएम प्रथम सेमेस्टर के तहत दूसरे विषय की परीक्षा थी। परीक्षा 11 बजे से होने वाली थी। परीक्षार्थी निर्धारित समय पर रविवि के कला भवन स्थित परीक्षा हॉल में पहुंचे। परीक्षा शुरू हुई। तब यहां परीक्षार्थियों के बीच इंग्लिश भाषा में लिखे सवाल वाला पर्चा बांटा गया। परीक्षार्थियों ने परीक्षा हॉल में मौजूद शिक्षकों से कहा कि यह पर्चा शायद गलती से बांटा गया है। इसमें हिंदी भाषा में सवाल नहीं दिए हैं। दूसरा पर्चा दें। तब शिक्षकों ने कहा कि दूसरा कोई पर्चा तैयार नहीं है। इसी प्रश्नपत्र के आधार पर परीक्षा देनी होगी। फिर बात केंद्राध्यक्ष तक पहुंची। 45 मिनट तक जब इस दिशा में कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई तो परीक्षार्थी कोरा आंसरशीट छोड़कर परीक्षा हॉल से बाहर निकल गए।

खबरें और भी हैं...