• Hindi News
  • National
  • पूर्व छात्रनेता को स्टेशन में दिल का दौरा पड़ा, डेढ़ घंटे इलाज नहीं मिला और मौत

पूर्व छात्रनेता को स्टेशन में दिल का दौरा पड़ा, डेढ़ घंटे इलाज नहीं मिला और मौत

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर स्टेशन में संपर्क क्रांति एक्सप्रेस का इंतजार कर रहे कांग्रेस नेता तथा रविशंकर विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर यादव (62) को दिल का दौरा पड़ा और स्टेशन से निकलने से पहले ही उनकी मृत्यु हो गई। यादव को प्लेटफार्म नंबर-5 पर दौरा पड़ा। उन्हें प्लेटफार्म नंबर-1 तक लाने में 45 मिनट लग गए। लोगों का कहना है कि वक्त पर प्राथमिक उपचार नहीं मिलना उनकी मौत की वजह बना।

चंद्रशेखर यादव के साथी छात्रनेता अभी कांग्रेस और भाजपा, दोनों ही दलों की राजनीति में सक्रिय हैं और महत्वपूर्ण पदों पर भी हैं। यादव को डा. चरणदास महंत का समर्थक माना जाता था। संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से नई दिल्ली जाने के लिए वे दोपहर 12 बजे स्टेशन पहुंचे थे। प्लेटफॉर्म नंबर-5 पर ट्रेन का इंतजार कर रहे थे, तभी अचानक गिरे और अचेत हो गए। सहयात्रियों ने इसकी सूचना स्टेशन प्रबंधन को दी। उन्हें स्टेशन से बाहर निकालने में ही 45 मिनट लग गए।

डाक्टर डेढ़ घंटे बाद : करीब पौन घंटे में स्टेशन के वीआईपी गेट तक लाने के 10 मिनट बाद 108 एंबुलेंस पहुंची। उसके करीब 20 मिनट बाद, यानी लगभग डेढ़ घंटे में रेलवे के डाक्टर पहुंचे। लेकिन तब तक यादव का निधन हो चुका था। इससे परिजन आक्रोशित हो गए और स्टेशन में हंगामा भी किया। इस दौरान मौके पर पहुंची जीआरपी ने पोस्टमार्टम के लिए ले जाने को कहा तो परिजनों ने कड़ा विरोध किया और कहा कि दिल का दौरा पड़ा है, इसलिए पोस्टमार्टम जरूरी नहीं है। यह लिखित में लेने के बाद जीआरपी ने शव परिजनों को सौंपा।

रेलवे में इमरजेंसी सेवा फेल
रायपुर स्टेशन पर 28 जनवरी को दोपहर ढाई बजे काटाबांजी जाने वाली एक महिला ट्रेन पर चढ़ते समय चक्कर खाकर गिरी और बेहोश हो गई। सहयात्रियों ने चेन खींचकर ट्रेन रोके रखी, फइर आनन-फानन में महिला को वीआईपी गेट तक पहुंचाया। लेकिन तब भी गेट पर एंबुलेंस नहीं थी। 15 मिनट के बाद परिजन अाए और निजी वाहन से यात्री को हॉस्पिटल ले गए। तब जाकर उसे इलाज मिल पाया।

खबरें और भी हैं...