• Hindi News
  • National
  • गांव किसान पर आधारित होगा बजट : भगत

गांव-किसान पर आधारित होगा बजट : भगत

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जानकारियों से किसानों को होगा फायदा: बृजमोहन
केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री सुदर्शन भगत सोमवार को इंदिरा गांधी कृषि विवि जोरा में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेला पहुंचे। इस दौरान मंत्री भगत ने केंद्रीय बजट और किसानों की आत्महत्या के सवाल पर खुलकर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तय किया है कि इस बार का केंद्रीय बजट किसान आधारित होगा। इसमें गांवों पर विशेष रूप से फोकस होगा।

सरकार किसानों की आय दोगुना करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को खेती-बाड़ी के साथ पशुपालन करना जरूरी है। सरकार इसके लिए हरसंभव मदद करेगी। मंत्री भगत ने कृषि को रोजगार के लिए अपार संभावनाओं वाला क्षेत्र बताते हुए कहा कि अनाज, दलहन, तिलहन और फल-फूलों की खेती के अलावा पशुपालन के क्षेत्र में भी रोजगार के अच्छे अवसर मिल रहे हैं। देशभर में किसानों की मौत पर सुप्रीम कोर्ट की नोटिस पर भगत ने कहा कि यह न्यायालय का मामला है, लेकिन हम किसानों की मौत न हो और उनका नुकसान न हो, इस पर ध्यान दे रहे हैं। हमारा फोकस इस बात पर है कि किसानों के विकास के लिए सरकार काम करे। उन्होंने छत्तीसगढ़ में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेले की सराहना करते हुए कहा कि मेले से निश्चित रूप से किसानों को लाभ होगा। मेले में उन्होंने सरगुजा, सूरजपुर और बलरामपुर जिले के 50 प्रगतिशील किसानों को जिला स्तरीय उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार से सम्मानित किया।

राज्य के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि मेले का आयोजन इसलिए किया जाता है ताकि किसानों को खेती-किसानी की पर्याप्त जानकारी मिल सके और वे अच्छा उत्पादन कर अपनी आय बढ़ा सकें। यह मेला किसानों को आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाने का माध्यम बनेगा। इस अवसर पर संसदीय सचिव तोखन साहू, छत्तीसगढ़ वनौषधि बोर्ड के अध्यक्ष रामप्रताप सिंह, सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अध्यक्ष मोहन एंटी, इंदिरा गांधी कृषि विवि कुलपति डॉ. एसके पाटिल, छत्तीसगढ़ कामधेनू विवि कुलपति डॉ. वीके मिश्रा और प्रबंध संचालक मंडी बोर्ड नरेन्द्र शुक्ला समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

भास्कर न्यूज | रायपुर

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री सुदर्शन भगत सोमवार को इंदिरा गांधी कृषि विवि जोरा में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेला पहुंचे। इस दौरान मंत्री भगत ने केंद्रीय बजट और किसानों की आत्महत्या के सवाल पर खुलकर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तय किया है कि इस बार का केंद्रीय बजट किसान आधारित होगा। इसमें गांवों पर विशेष रूप से फोकस होगा।

सरकार किसानों की आय दोगुना करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को खेती-बाड़ी के साथ पशुपालन करना जरूरी है। सरकार इसके लिए हरसंभव मदद करेगी। मंत्री भगत ने कृषि को रोजगार के लिए अपार संभावनाओं वाला क्षेत्र बताते हुए कहा कि अनाज, दलहन, तिलहन और फल-फूलों की खेती के अलावा पशुपालन के क्षेत्र में भी रोजगार के अच्छे अवसर मिल रहे हैं। देशभर में किसानों की मौत पर सुप्रीम कोर्ट की नोटिस पर भगत ने कहा कि यह न्यायालय का मामला है, लेकिन हम किसानों की मौत न हो और उनका नुकसान न हो, इस पर ध्यान दे रहे हैं। हमारा फोकस इस बात पर है कि किसानों के विकास के लिए सरकार काम करे। उन्होंने छत्तीसगढ़ में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेले की सराहना करते हुए कहा कि मेले से निश्चित रूप से किसानों को लाभ होगा। मेले में उन्होंने सरगुजा, सूरजपुर और बलरामपुर जिले के 50 प्रगतिशील किसानों को जिला स्तरीय उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार से सम्मानित किया।

खबरें और भी हैं...