पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किलर ने बना रखी थी 2 और गर्लफ्रेंड, एक महीनों से गायब तो ये है आशंका

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर. सुदंरनगर में माता-पिता की हत्या कर उन्हें दफन करने वाले उदयन की दो और गर्लफ्रेंड का पता चला है। एक लड़की महीनों से गायब है। पुलिस अब उसकी तलाश में जुट गई है। पुलिस को आशंका है आकांक्षा की तरह उसने अपनी दूसरी गर्लफ्रेंड की हत्या तो नहीं कर दी। उसके बारे में जानकारी जुटायी जा रही है। क्या है मामला...
 
दोनों गर्लफ्रेंड MP की रहने वाली
-पुलिस को तहकीकात के दौरान यह पता चला है कि दोनों गर्लफ्रेंड MP की रहने वाली हैं।
-एक का पता चल गया है। दूसरी लड़की का नाम तो सामने आ गया है, लेकिन वह कहां है? यह जानकारी नहीं मिल पा रही है।
-जांच में मिली जानकारी के अनुसार वह लगातार उनसें बातें करता था।
-पुलिस कॉल डिटेल के आधार पर एक लड़की तक पहुंची।
-आरोपी ने दोनों युवती को अमेरिका में नौकरी लगाने का झांसा दिया था।
-उन्हें बताया था कि वह विदेश में कारोबार करता है। जहां वह उनकी नौकरी लगा देगा।
-दोनों से आरोपी की बहुत नजदीकियां भी थी। 
 
आशंका है कि पासपोर्ट फर्जी है
-इस बीच उदयन दास का एक और फर्जीवाड़ा सामने आया है।
-बांकुरा पुलिस ने आरोपी के पास से माता-पिता का पासपोर्ट जब्त किया है। उसने 2012 में बनवाया जबकि उनकी हत्या 2010 में कर दी थी।
-पासपोर्ट की जांच की जा रही है। उसमें  विदेश मंत्रालय की भी सील है। पुलिस को आशंका है कि पासपोर्ट फर्जी है।  
-पासपोर्ट की रिपोर्ट आने के बाद उस दिशा में जांच आगे बढ़ेगी। फिलहाल आरोपी के खिलाफ धाेखाधड़ी का केस सिविल लाइन थाने में दर्ज किया।
-आरोपी ने 2012 में चेक पर अपनी मां इंद्राणी का फर्जी साइन कर 1 लाख 30 हजार रुपए निकाले थे।
-अभी उसी मामले में अपराध कायम किया गया है।  डीडी नगर थाने में हत्या के मामले के बाद फर्जीवाड़े का पहला मामला दर्ज किया गया।
 
जांच में कई अहम दस्तावेज मिले
-टीआई वीरेंद्र चतुर्वेदी के मुताबिक एसआईटी की जांच में कई अहम दस्तावेज मिले है। 
-आरोपी ने 6 साल में इंद्राणी के पेंशन के 9 लाख 61 हजार रुपए फर्जी साइन के जरिये  निकाले हैं। 
-यहां तक उनके नाम का आवेदन देकर खाते को रायपुर से भोपाल ट्रांसफर कर दिया।
-उन्होंने बताया कि इस मामले में और दस्तावेज इकट्ठा किए जा रहे है। बैंक को इसके लिए पत्र लिखा गया है।
-दस्तावेज के आधार पर आगे की जांच की जाएगी।
 
फर्जी साइन करके उदयन के पैसा निकालने के प्रमाण
-पुलिस अफसरों ने बताया कि फेडरल बैंक की गोलबाजार शाखा में इंद्राणी और वीरेंद्र दास का ज्वाइंट अकाउंट था।
-दोनों ही बैंकों में इनके नाम से फर्जी साइन करके उदयन के पैसा निकालने के प्रमाण मिले हैं।
-पुलिस ने दस्तावेज जब्त कर लिए हैं। इनमें से कई दस्तावेज ऐसे हैं, जिन्हें संबंधित को खुद उपस्थित होकर जमा करना हाेता है इसके बावजूद उदयन ने खेल कर दिया। उसने  खुद ही जमा किया।
-रविवार को भोपाल गई पुलिस की टीम रायपुर लौटी।
-इटारसी निगम से फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र जब्त किया गया है जो सुंदर नगर के मकान को अपने नाम पर करने के लिए उदयन ने उपयोग किया है।
-दस्तावेज मिलने के बाद सिविल लाइन पुलिस उदयन के खिलाफ चौथा केस दर्ज करेगी। 
 
पेंशन के लिए ऐसे किया फर्जीवाड़ा 
- 2011 से 2016 तक पेंशन का पैसा निकाला गया। 
- 2012 में चेक में इंद्राणी का साइन करके निकाला 1.30 लाख। 
- 2013 में खाते में पेंशन का पैसा आना हुआ बंद। 
- 2013 में ही इंद्राणी का खाता हुआ भोपाल ट्रांसफर। 
- 2014 में बैंक में जाकर इंद्राणी के जीवित होने का दिया प्रमाण। 
- 2015 जनवरी में एरियस के साथ खाते में आया 7.31 लाख। 
- 2015 के आखिरी में भोपाल में खुलवाया अपने नाम से खाता। 
- 2016 में फर्जी साइन करके अपने खाते में ट्रांसफर किया पैसा।
 
पुलिस को गुमराह करने हत्या के बाद लिखा पत्र 
-बांकुरा पुलिस की जांच में पता चला है कि उदयन ने पिछले साल अक्टूबर में भोपाल पुलिस को पत्र लिखा था कि उसने आकांक्षा से प्रेम विवाह किया है लेकिन उसके घर वाले राजी नहीं है।
-उसे जबरदस्ती साथ ले गए है। तब से आकांक्षा गायब है। वह आकांक्षा के बारे में पता कर रहा है, लेकिन उसे अब तक कोई जानकारी नहीं मिली है।
-आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए पत्र लिखा था। ताकि कोई उस पर शक न करें।
-बांकुरा पुलिस आरोपी के इस बयान की तस्दीक कर रही है। भोपाल पुलिस को पत्र लिखकर इसकी जानकारी मांगी है। 
 
आगे की स्लाइड्स में देखें, फोटो..
खबरें और भी हैं...