पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • स्वास्थ्य केंद्र टंकी मरौदा में एक नवजात लापरवाही के चलते 7 प्रतिशत तक झुलसा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इलाज के दौरान लापरवाही, 200 वॉट बल्ब के आगेे आधे घंटे रखा नवजात 7% झुलसा

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर /भिलाई. ग्रामीण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र टंकी मरौदा में एक नवजात 7 प्रतिशत तक झुलस गया। जन्म के बाद उसे साइनोसिस होने पर बल्ब की रोशनी से सिंकाई करने का प्रयास किया गया। 200 वाॅट का बल्ब आधे फीट से भी कम दूरी पर रखने से नवजात का सीना झुलस गया। परिजनाें के हंगामे के बाद तुरंत उसे जिला अस्पताल दुर्ग रेफर किया गया जहांं उसका उपचार किया जा रहा है।
- जानकारी के अनुसार टंकी मरोदा निवासी गर्भवती महिला उर्वशी देवांगन को रविवार रात लगभग 1 बजे ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र टंकी मरोदा में भर्ती करवाया गया।
- जहां डिलीवरी के बाद सुबह डाक्टर ने चेकअप किया जिसमें नवजात को साइनोसिस की परेशानी बताई गई। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इन्क्यूबेटर न होने पर नवजात को बल्ब की रोशनी में रखा गया।
- ज्यादा देर तक 200 वॉट बल्ब के आगे रखने पर नवजात झुलस गया। बच्चा 7 प्रतिशत तक झुलसा बताया जा रहा है।
- बच्चे के अधिक रोने पर परिजनों ने ड्यूटी डाक्टर को जानकारी दी। जानकारी दिए जाने के आधे घंटे बाद भी डॉक्टर के नहीं पहुंचने पर परिजन नाराज हो गए और हंगामा मचा दिया।
रात को नहीं पहुंची 102
- परिजनों के अनुसार रात लगभग 12 बजे तबीयत खराब होने पर 102 पर कॉल लगाया गया। पर किसी ने अटैंड नहीं किया। इसके बाद 108 पर कॉल लगाया जहां से फिर 102 को बुलाने की बात कही गई।
- परेशान परिजन तत्काल आटो कर उसे पास के ही ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य लेकर पहुंचे थे। जहां डिलीवरी करवाई गई।
- नवजात के पिता सुशील देवांगन ने कहा-हम लगातार डाक्टर व ड्यूटी पर तैनात नर्स को बच्चे के अधिक रोने के बारे में बताते रहे। पर उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया। जिसके बाद ऐसी स्थिति बनी। इधर बच्चे की मां व पिता ने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से करने की बात भी कही है।
हमारा प्रयास बच्चे को स्वस्थ रखने का था..
इंचार्ज डॉक्टर डॉ. अनिल कदम के मुताबिक, हमने पहले ही हाई रिस्क को देखते हुए दुर्ग जिला अस्पताल ले जाने के लिए कहा था। साइनोसिस की परेशानी के कारण बल्ब से रोशनी दी गई। इसमें हमारी तरफ से पूरा प्रयास नवजात को स्वस्थ रखने के लिए किया गया, बच्चे की स्किन पर इफेक्ट है तत्काल जिला अस्पताल रेफर भी कर दिया है।
लापरवाही बरती, शिकायत करेंगे..
नवजात के पिता सुशील देवांगन के मुताबिक, बच्चे के इलाज में लापरवाही बरती गई है। बार बार डॉक्टर को बुलाने पर भी वे नहीं आए। हम इसकी शिकायत करेंगे।
आगे की स्लाइड्स में देखें, मामले से जुड़ीं फोटोज...
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें