पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Centre Locked Just After Inauguration By Minister

उद्घाटन करने के बाद जैसे गए मंत्री जी लटक गया ताला

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर। आंबेडकर अस्पताल में शुक्रवार की सुबह स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल ने टीबी के नए वार्ड का लोकार्पण किया। वे केवल 10 मिनट वहां रहे। विधानसभा सत्र में शामिल होने के लिए उनके निकलते ही अस्पताल प्रबंधन ने नए वार्ड में ताला लगा दिया। मेडिसिन विभाग में चार से ज्यादा टीबी के मरीज भर्ती हैं। अस्पताल प्रबंधन ने ऐसा क्यों किया, किसी को समझ नहीं आ रहा।
कालीबाड़ी स्थित टीबी अस्पताल बंद होने के बाद आंबेडकर अस्पताल में इस तरह के स्पेशल वार्ड की जरूरत महसूस की जा रही थी। क्योंकि टीबी के मरीजों के संपर्क में आने पर बाकी लोगों को भी संक्रमण का खतरा होता है।
यूरोपीय कमीशन ने 25 बेड का वार्ड बनाने के लिए 35 लाख रुपए दिए थे। शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्री ने वार्ड को मरीजों के लिए समर्पित किया। उन्होंने कहा कि नया वार्ड शुरू होने से एमडीआर के मरीजों को सुविधा होगी। द्वितीय पंक्ति के दवा लेने वाले मरीजों को यहां भर्ती किया जाएगा।
मरीजों को सात दिन भर्ती कर डॉट्स प्लस के तहत वर्ग चार की दवा दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री ज्यों ही अस्पताल से निकले, अस्पताल प्रबंधन ने वार्ड में ताला लगा दिया। टीबी के मरीजों का पहले की तरफ मेडिसिन वार्ड में ही इलाज होता रहा।
सामान्य मरीजों से टीबी के मरीज दूर रहे, इसके लिए टीबी वार्ड बनाया गया है। जानकार अभी भी इस वार्ड को सुरक्षित नहीं मान रहे हैं। जहां पर टीबी वार्ड बना है, उसके ठीक नीचे कैफेटेरिया है। मरही माता मंदिर चौक से डेंटल कॉलेज व रजबंधा मैदान के लिए मुख्य मार्ग भी है।
वार्ड एक नजर में
कुल बेड- 25
लागत- 35 लाख रुपए
लोकेशन- कैफेटेरिया के ऊपर
मरीज आएंगे, तब खुलेगा
जिला अस्पताल से रिफर होकर आने वाले स्टेज दो के टीबी मरीजों को वार्ड में भर्ती किया जाएगा। अभी तक सिम्स बिलासपुर में इस तरह के मरीजों को भर्ती किया जा रहा था। मरीज आएंगे, तब वार्ड खुलेगा।
-डॉ. टीके अग्रवाल, स्टेट नोडल अधिकारी टीबी