पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Chhattisgarhi Became The Administrative Dictionary

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बन गया छत्तीसगढ़ी का प्रशासनिक शब्दकोष, 16 जुलाई को पहला भाग किया जाएगा सार्वजनिक

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रायपुर।इस तरह छत्तीसगढ़ी शब्दों की जानकारी नहीं होने की बात कर काम करने से बचने वाले अफसरों के पास अब कोई बहाना नहीं रहेगा। यानी अब काम करने में सुस्त अफसर या कर्मचारी के बारे में लिखा जा सकेगा-ये कोढ़िया हे।



छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग ने तीन भागों में यह शब्दकोष तैयार किया है। हर भाग में 2500 शब्द हैं। इस तरह कुल 7500 शब्दों के साथ पूर्ण यह शब्दकोष प्रशासन को छत्तीसगढ़ी में चलाने में सहायक होगा।



दूसरा और तीसरा भाग भी तैयार है। इन्हें आने वाले दिनों में सार्वजनिक किया जाएगा। प्रशासनिक अमले को काम करने में परेशानी न हो इसके लिए छत्तीसगढ़ी शब्दों के साथ हिंदी और अंग्रेजी के शब्द भी दिए गए हैं। स्थानीय शब्दावली नहीं होने से राज्य के किसी भी विभाग में छत्तीसगढ़ी में कामकाज नहीं हो पा रहा है जबकि 11 जुलाई 2008 को ही छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा दिया जा चुका है।





विधानसभा में साहित्यकारों की वर्कशाप लगाकर इस शब्दकोष को तैयार करने का काम हुआ। विधानसभा और साहित्यकारों की सहमति के बाद छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग ने शब्दकोष को परिमार्जित और प्रकाशित किया। राजभाषा विधेयक में इस बात का स्पष्ट उल्लेख किया गया है कि हिंदी के बाद छत्तीसगढ़ी को राजभाषा के रूप में अंगीकृत की जा सकेगी।



अब भाषा के लिए प्रयास





राजभाषा बनाने के बाद मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल इस कोशिश में लगे हैं कि छत्तीसगढ़ी को भाषा का दर्जा दिलाया जाए। इसके लिए केंद्र की आठवीं अनुसूची में छत्तीसगढ़ी को शामिल कराने के लिए राज्य सरकार को ताकत लगानी होगी। अग्रवाल ने कहा कि राज्य सरकार अपनी ओर से कोई कसर बाकी नहीं रखेगी।





कब-क्या हुआ





11 जुलाई 2008 को छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा



14 अगस्त 2008 को छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग गठित



03 सितंबर 2010 को राजभाषा विधेयक को विधानसभा से मंजूरी



हैलोजन लाइट जैसा काम



छत्तीसगढ़ी में प्रशासनिक काम करने वालों के लिए यह शब्दकोष हैलोजन लाइट की तरह काम करेगा। हिंदी और अंग्रेजी के शब्द भी साथ देने से किसी अफसर को परेशानी नहीं होगी।



पं.दानेश्वर शर्मा,अध्यक्ष छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग छत्तीसगढ़ी को राज-काज की भाषा बनाने की सारी बाधाएं दूर हो गई हैं। ईमानदारी से जो प्रयास करेगा, वह प्रशासनिक काम छत्तीसगढ़ी में कर सकेगा। इसमें असंसदीय शब्दों को भी परिभाषित करने का प्रयास किया गया है।ञ्जञ्ज डॉ. सुरेंद्र दुबे, सचिव छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग



आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

और पढ़ें