• Hindi News
  • Rape Wth Girl In Government Aashram Indignation And Blockade In Kanker

बच्चियों से दुष्कर्म: कांकेर में आक्रोश और चक्काजाम

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कांकेर। ग्राम झलियामार स्थित कन्या आश्रम में नाबालिग छात्राओं के साथ हुए दुष्कर्म मामले के विरोध में मंगलवार को जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा आयोजित जिला बंद शहर व जिले में पूर्णत: सफल रहा। बंद का समर्थन चैंबर आफ कामर्स समेत अन्य संगठनों ने किया।
कांग्रेस द्वारा 9 जनवरी को प्रदेशव्यापी बंद का आह्वान किया गया है। बंद के दौरान कांग्रेसियों ने थाना के सामने मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह का पुतला दहन किया। पुतला दहन के साथ कांग्रेसियों ने चक्काजाम भी किया जिसको लेकर कांग्रेसियों तथा पुलिस के बीच झूमाझटकी भी हुई।
प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसियों ने आरोपियों को उन्हें सौंपने की मांग की ताकि वे उसे सजा दे सके। मंगलवार को कांग्रेसी बंद करवाने सुबह 8 बजे से सड़क पर निकल गए थे जो दोपहर तक मोटरसाइकिल में शहर में घूमते रहे। बंद के दौरान बड़ी दुकानों के साथ पान ठेला, चाय की दुकानें भी बंद रहे। मेडिकल तथा पेट्रोल पंप को बंद से दूर रखा गया था। कांग्रेसियों ने पुराने बस स्टैंड स्थित शराब की दुकान को भी बंद करवाई।
बंद को सफल बनाने में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नरेश ठाकुर, नगर पालिका अध्यक्ष पवन कौशिक, पूर्व मंत्री गंगा पोटाई, शिव नेताम, पूर्व विधायक श्यामा धुव्रा, आरती श्रीवास्तव, कांति नाग, पूजा बोरकर, स्वर्णलता सिंह, नितिन पोटाई, अनूप शर्मा, मनोज जैन, यासीन कराणी, मतीन खान, नरेश बिछिया, अजय सिंह रेणु, हेम गजबल्ला, राजकुमार चोपड़ा, आकाश राव, बाबा गढ़पाले, चमन साहू, प्रवीण, इशहाक खान आदि जुटे रहे।
मेला भी रहा बंद
मेला में पहुंचे व्यापारियों ने भी कांग्रेसियों के बंद का समर्थन करते दोपहर तक अपनी दुकानें बंद रखी। बंद से मेला का व्यवसाय भी प्रभावित हुआ और मेले में रौनक दिखाई नहीं पड़ी। व्यापारी दुकेश साहू, मुस्तफा भाई, मदन साहू, बेनू सिन्हा, नोहर सिन्हा, संतोष सोनी ने कहा आव्हान पर उन्होंने दोपहर तक बंद का समर्थन किया है।
बंद के दौरान यात्री हुए परेशान
भानुप्रतापपुर। झलियामारी कन्या आश्रम कांड के विरोध में कांग्रेस का नगर बंद पूर्णत: सफल रहा तथा बड़ी दुकानों के अलावा छोटे छोटे ठेले खोमचे भी नहीं खुले। मेडिकल तथा पेट्रोल पंप को बंद से दूर रखा गया था। बंद के कारण यात्रियों को भोजन तो दूर चाय-पानी तक नसीब नहीं हुआ। मजबूरन उन्हें भूखे प्यासे ही सफर करना पड़ा। बंद को सफल बनाने ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष विमला ठाकुर, मानक दरपट्टी, बीरेंद्र सिंह ठाकुर, सुनील पाढ़ी, सुरेश सचदेव, जयसिंह नरेटी, पूर्णचंद पाढ़ी, पंकज वाधवानी आदि सक्रिय थे।
घिनौने कृत्य के लिए सरकार भी जिम्मेदार
चारामा। झलियामारी आदिवासी कन्या आश्रम दुष्कर्म के विरोध में चारामा नगर पूर्णत: बंद रहा। बंद का समर्थन कांग्रसियों के साथ साथ नगर के व्यापारी, सभी सामाजिक संगठन एवं आम लोगों ने भी किया। नगर के सभी स्कूलों के छात्र छात्राओं ने शाला बहिष्कार कर दुष्कर्मियों को देने की मांग करते रैली निकाली।
कांग्रेसियों ने कोरर चौक में मुख्यमंत्री रमन सिंह का पुतला दहन कर आक्रोश व्यक्त किया। विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने कहा इस घिनौने कृत्य के लिए राज्य सरकार भी कही न कही जिम्मेदार है। शासन द्वारा बालिका छात्रावासों में समय समय पर निरीक्षण नहीं किए जाने के कारण यह घटना हुई है।
लगता है आरोपियों के साथ उच्च अधिकारियों ने सौदेबाजी कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया है। आरोपियों के साथ साथ उन सभी लोगों को भी कड़ी सजा मिलनी चाहिए जिन्होंने ग्राम स्तर पर ही मामले को पैसे लेकर दबाने का प्रयास किया था।
बंद को सफल बनाने में कांग्रेस एवं आदिवासी समाज के कार्यकर्ताओं का विशेष योगदान रहा। जिसमें विजय ठाकुर, धर्मेंद्र मेहता, ठाकुरराम कश्यप, बसंत यादव, नरेंद्र यादव, महेंद्र नायक, कैलाश खत्री, पुरुषोत्तम गजेंद्र, जीवन ठाकुर, लक्ष्मीकांत गावड़े, सत्तार खान, शशि सेन, भीखुभाई चावड़ा शामिल थे।
अपराध ने पूरे छत्तीसगढ़ को कर दिया कलंकित
नरहरपुर। ग्राम झलियामारी के आदिवासी बालिका आश्रम में हुई घटना को लेकर ब्लाक कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर नगर बंद रहा। सरकारी कार्यालय व शैक्षणिक संख्याओं को छोड़ नगर के व्यापारी प्रकोष्ठ व आमजनों ने बंद के समर्थन देते हुए अपने अपने दुकानें बंद रखी।
घटना से उद्वेलित होकर ब्लाक कांग्रेस कमेटी ने मंगलवार को नया बस स्टैंड चौक में प्रदेश सरकार के खिलाफ नारे बाजी करते मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह, सांसद सोहन पोटाई व विधायक सुमित्रा मारकोले का पुतला फूंका।
ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष परदेशी निषाद ने कहा घटना की नैतिक जिम्मेदारी लेते मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए। घटना की जितनी निंदा की जाए वह कम है। जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष मांडवी दीक्षित ने आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग करते कहा कि प्रदेश में दुष्कर्म, हत्या, लूटपाट, डकैती जैसे जघन्य अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं।
आश्रम में हुई घटना ने नरहरपुर ब्लाक तो क्या पूरे छत्तीसगढ़ को कलंकित कर दिया है। राज्य सरकार को इस घटना का जवाब देना होगा क्योंकि आर्थिक बदहाली के दौर से गुजरने वाले मां बाप उम्मीद से अपने बच्चों को पढ़ने के लिए आश्रमों में भेजते हैं लेकिन प्रशासन को बच्चों की देखरेख व सुरक्षा की परवाह ही नहीं है।
इस प्रकरण को दबाने की कोशिश करने वाले अधिकारियो को सीधे बर्खास्त करना चाहिए ताकि प्रदेश में और किसी के साथ इस प्रकार की पुनरावृत्ति न हो।
इस दौरान प्रमुख रूप से टकेश्वर सिन्हा, मोतीराम साहू, धर्मेंद्र कौशिक, जगदीश ध्रुव, श्रीमती गौरी शर्मा, शिवचरण मंडावी, सुशीला ध्रुव,खिलावन निषाद, कैलाश पगारिया, रामचंद सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे।