पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • करदाताओं के साथ बकायादारों का होगा सम्मान

करदाताओं के साथ बकायादारों का होगा सम्मान

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के बड़े कर दाताओं का निगम में सम्मान किया जाएगा। खास बात ये कि इस मंच पर बड़े बकायादार भी शामिल होंगे और उन्हें भी सम्मानित किया जाएगा ताकि गांधीगिरि कर उनसे भी टैक्स लिया जा सके। इस सम्मान समारोह की तैयारी की जा रही है।

निगम में संपत्तिकर, समेकितकर, जलकर व दुकान किराए का 15 करोड़ रुपए बकाया है। इसे वसूलने के लिए निगम से करीब 14 बार नोटिस जारी किया जा चुका है। बकायादारों को नाम सार्वजनिक करने की भी चेतावनी दी जा चुकी है, इसके बावजूद बकायादार टैक्स जमा करने पहल नहीं कर रहे हैं। इन बकायादारों से अब निगम ने गांधीगिरि से टैक्स वसूलने की तैयारी की है।

टैक्स पेयर के सामने बैठाकर बकायादारों को गुलदस्ता व मोमेंटो प्रदान किया जाएगा। इसके लिए ऐसे बकायादारों की सूची तैयार की जा रही है, जिनका बकाया एक लाख से अधिक है व बीते पांच सालों से टैक्स जमा नहीं किया है। इन बकायादारों को सम्मान समारोह के लिए बाकायदा आमंत्रण भेजकर बुलाया जाएगा। बकायादारों को बुलाने जोनल के राजस्व अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी जाएगी।

15 करोड़ रुपए बकाया है
शहर के बड़े टैक्स पेयर के साथ बकायादारों को भी सम्मानित किया जाएगा। इसके लिए तैयारी की जा रही है। निगम में 15 करोड़ रुपए का टैक्स बकाया है,लेकिन बार-बार नोटिस के बाद भी बकायादार अनदेखी कर रहे हैं। अश्वनी देवांगन, आयुक्त, नगर निगम

नोटबंदी के बाद टैक्स के रूप में आए थे 7 करोड़
नोटबंदी के दौरान पुराने नोट से टैक्स लेने की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में टैक्स जमा किए गए थे। इससे 14 दिन में ही निगम को 7 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ था। लेकिन इसके बाद दोबारा टैक्स जमा होने की गति थम गई है। जनवरी में भी निगम ने सभी वार्डों में टैक्स वसूली के लिए शिविर लगाए थे। यहां छोटे बकायादारों ने ही टैक्स जमा किया।

नगर निगम की सूची में 450 से ज्यादा नाम शामिल
निगम जिन पुराने व बड़े बकायादारों का सम्मान करने की तैयारी कर रही है। इसमें 450 से ज्यादा लोगों के नाम शामिल है। सम्मान समारोह के दौरान सार्वजनिक तौर पर यह भी बताया जाएगा कि इन्हे कितने दफे नोटिस जारी किया जा चुका है। सूची में शामिल लोगों का टैक्स बकाया 1 लाख से 3 लाख रुपए तक है। लिस्टिंग का कार्य तेजी से राजस्व विभाग में जारी है।

नहीं पहुंचे तो घर जाकर किया जाएगा सम्मान
निगम के आमंत्रण के बाद भी अगर बकायादार इस कार्यक्रम में नहीं पहुंचते हैं, तो निगम अफसर वार्ड पार्षद के साथ खुद उसके घर पहुंचेंगे। बकायादार के घर पर भी उन्हें गुलदस्ता भेंटकर असहयोग की भावना व अड़ियल रवैए के लिए सम्मानित किया जाएगा। हालांकि इसके पहले टैक्स जमा करने का एक आखिरी मौका भी दिया जाएगा।

कर वसूलने गांधीगिरि
खबरें और भी हैं...