• Hindi News
  • National
  • जैन बगीचे में निपुणा शिशु स्नेहयशा का प्रवचन सुनने जुटे समाज के लोग

जैन बगीचे में निपुणा शिशु स्नेहयशा का प्रवचन सुनने जुटे समाज के लोग

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजनांदगांव| जैन बगीचे में चातुर्मास के लिए पधारी निपुणा शिशु स्नेहयशा कहा कि प्रश्न मैं कहां से आया हूंω हमारी विकास यात्रा की शुरुआत निगोद से शुरू होता है, जब एक आत्मा मोक्ष जाती है तब एक जीव को मनुष्य जीवन मिलता है। एक अरब जीव जब पृथ्वी में अवतरित होते हैं उनमें से 99 करोड़ जीव तिर्यंच गति में जाते हैं। बचे एक करोड़ जीव में 99 लाख जीव नरक में जाते हैं। एक लाख जीव में 99 हजार जीव असंज्ञी पंचेन्द्रिय में जाते हैं। एक हजार जीव में 900 जीव अकर्म भूमि में और 100 में 10 जीव अनार्य देश में पैदा होते हैं। 10 में 1 जीव मनुष्य जीवन को प्राप्त करता है। इतना अनमोल मनुष्य जीवन जो कि एक अरब में एक जीव को मिलता है। असली हीरा सूर्य की रोशनी से गरम नहीं होता वैसे ही आत्मारूपी हीरे की परख कर हर परिस्थिति में समभाव रखने का प्रयास हमारे जीवन को आगे ले जाने में सहायक होगी। क्योंकि जिंदगी ना मिलेगी दोबारा।

खबरें और भी हैं...