• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raigarh
  • 150 साल बाद बदलेंगे राजापारा जगन्नाथ मंदिर की प्रतिमाएं

150 साल बाद बदलेंगे राजापारा जगन्नाथ मंदिर की प्रतिमाएं

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजापारा स्थित जगन्नाथ मंदिर में 150 साल बाद प्रतिमाएं बदली जाएगी। प्रतिमा की स्थापना के लिए मंदिर में विशेष पूजा शुरू हो चुकी है। रविवार की मंदिर से कलश यात्रा निकली जो विभिन्न चौक-चौराहों से होते हुए वापस मंदिर में आकर समाप्त हुई। श्री जगन्नाथ मंदिर राजापारा में पहली बार भगवान जगन्नाथ की प्रतिमा बदली जाएगी। इसके लिए नई प्रतिमाएं पुरी लाई जा चुकी है।

3 मार्च की अल सुबह मंदिर में नई प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा होगी, जिसके लिए मंदिर में प्राणप्रतिष्ठा समारोह चल रहा है। शनिवार को अंकुरारोपण होने के बाद रविवार को कलश यात्रा निकाली गई। इसमें कलश को सिर पर रखकर महिलाओं ने नगर भ्रमण किया।



मंदिर में नई प्रतिमाओं की स्थापना के बाद पुरानी प्रतिमाओं को जमीन में दफना दी जाएगी।

राजापारा स्थित मंदिर से कलश से निकली महिलाएं नगर भ्रमण के बाद वापस मंदिर पहुंची।

मंदिर से कलश से लेकर निकली महिलाओं ने किया नगर भ्रमण, हवन हुआ शुरू
4 दिन चलेगा यज्ञ
प्राण प्रतिष्ठा समारोह में प्रतिमाओं की स्थापना के लिए चार दिनों तक महायज्ञ चलेगा। इसकी शुरुआत रविवार को हो गई। समापन दो मार्च को होगा। नीम की लकड़ी से बनी प्रतिमाओं को इसी दिन दिव्य स्नान कराने के बाद जगन्नाथ पुरी की तर्ज पर नगर का भ्रमण कराने के बाद मंदिर में प्रतिष्ठापित किया जाएगा।

कार्यक्रम पर नजर
दिन समय कार्यक्रम

30 जनवरी सुबह 8 बजे यज्ञ होगा शुरू

31 जनवरी सुबह 8 बजे हवन पूजन

1 फरवरी सुबह 8 बजे वेदीपूजन

2 फरवरी सुबह 8 बजे चतुर्धामूर्तियों का दिव्य स्नान।

3 फरवरी सुबह 4 बजे प्राण प्रतिष्ठा

दोपहर 1 बजे महाआरती एवं भंडारा।

3 मार्च को पूजा का समापन
3 मार्च की सुबह 4 बजे मंदिर में प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। 3 मार्च को महाआरती एवं भंडारे के साथ दोपहर 1 बजे पूजा का समापन होगा। पुरी में औसतन हर बारह साल में प्रतिमाओं को बदला जाता है।

धर्म
खबरें और भी हैं...