पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raigarh
  • नगर निगम के घोटालेबाजों पर अब होगी निलंबन की कार्रवाई

नगर निगम के घोटालेबाजों पर अब होगी निलंबन की कार्रवाई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम की बहुचर्चित घोटाले में अब डेढ़ साल बाद विभागीय कार्रवाई होने जा रही है। निगम में हुए करोड़ों रुपए के घोटाले में जिन जिन अधिकारियों व कर्मचारियों को आरोपी बनाया गया है। अब उन्हें निलंबित करने की तैयारी की जा रही है। निगम अधिकारियों की माने तो जो शासन स्तर से होंगे उन्हें राज्य शासन द्वारा की जाएगी वहीं जिन्हें निगम कमिश्नर को निलंबित करने का अधिकार है उन्हें आयुक्त द्वारा निलंबित की जाएगी। मौजूदा समय में इस मामले के दो आरोपी जेल में है। वहीं तात्कालीन आयुक्त प्रमोद शुक्ला सहित चार अन्य लंबे समय से फरार चल रहे हैं जिन्हें पुलिस पकड़ने में नाकामयाब साबित हो रही है। न्यायालय से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद से ये आरोपी फरार हैं। ऐसे में निगम के द्वारा फरार आरोपियों में पूर्व एकाउंटेंट अनिल वैध, फिटर त्रिलोक चंद शर्मा, वाहन विभाग प्रभारी खूबचंद चौधरी के साथ प्रमोद जोगी को भी कार्यालय में उपस्थित होने का नोटिस जारी किया गया, लेकिन कई नोटिस के बाद भी आरोपी उपस्थित नहीं हुए। ऐसे में संबंधितों पर विभागीय कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है।

े हैं निगम के घोटालेबाज - निगम में हुए अलग अलग घोटाले में अलग अलग आरोपी बनाए गए है। इस मामले में तात्कालीन आयुक्त प्रमोद शुक्ला, एई एसएन अगरिया, तात्कालीन एकाउटेंट अनिल वैध, फिटर त्रिलोक चंद शर्मा, वाहन विभाग प्रभारी खूबचंद चौधरी व प्रमोद जोगी को आरोपी बनाया गया। कुछ दिन पहले ही पुलिस ने एई एसएन अगरिया को उनके गृहग्राम से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं प्रमोद जोगी ने न्यायालय में सरेंडर किया। इसके अलावा शेष आरोपी फिलहाल फरार है। इन आरोपियों के द्वारा अग्रिम जमानत की याचिका भी लगाई गई, लेकिन न्यायालय ने मामले की सुनवाई करते हुए अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी, तब से ये सभी आरोपी फरार चल रहे है।

शापिंग कॉम्पलेक्स अपात्रों को दुकान आवंटन कर की गड़बड़ी।

कंटेनर खरीदी में गड़बड़ी।

क्लोरिन टेबलेट खरीदी में गड़बड़ी।

जीआई पाइप फिटिंग व खरीदी में गड़बड़ी।

दैनिक वेतन भोगियों के नियमितिकरण में गड़बड़ी।

हैंडपंप एवं स्पेयर पार्ट्स खरीदी में गड़बड़ी।

बारबेट वायर व आरसीसी पोल खरीदी में गड़बड़ी।

पदोन्नति की कार्रवाई में व्यापक अनियमितता।

ईडब्ल्यूएस की भूमि आवंटन में गड़बड़ी।

पुलिस की टीम कर रही सीएसपी के नेतृत्व में जांच
नगर निगम में हुए घोटाले की जांच पुलिस प्रशासन की ओर से सीएसपी के नेतृत्व में एक टीम कर रही है। जिसमें चार से पांच पुलिसकर्मी है। जांच पूरी होने के बाद सभी आरोपियों पर अलग अलग घोटाले में अलग अलग आरोपियों के खिलाफ गबन व धोखाधड़ी समेत कई तरह के अपराध पंजीबद्ध किया गया है, लेकिन पुलिस की यह टीम आरोपियों को पकड़ने में नाकाम साबित हो रही है। पुलिस अधिकारी दावा करते फिर रहे हैं कि आरोपियों के ठिकानों पर लगातार दबिश दी जा रही है, लेकिन हकीकत इसके उलट है। अगर पुलिस कोशिश करती तो सभी आरोपी आज सलाखों के पीछे होते।

ये हैं निगम में घोटाले के मामले
खबरें और भी हैं...