करवा चौथ आज, बाजार में बढ़ी रौनक

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पति की लंबी उम्र के लिए रखे जाने वाला करवा चौथ व्रत पर्व रविवार को मनाया जाएगा। इस मौके पर महिलाएं दिनभर निर्जला व्रत रखेंगी और रात को चांद देखने के बाद अपना व्रत खोलेंगी। बाजार में भी इस व्रत पर्व के पहले दिन रौनक दिखने लगी है। करवा चौथ को लेकर महिलाओं में खासा उत्साह है। अभी से महिलाएं तैयारी में जुटी हैं। रविवार की सुबह महिलाएं निर्जला व्रत का संकल्प लेंगी। दिनभर व्रत रहते हुए शाम को चंद्र देव का दर्शन कर कच्चा दूध व गंगा जल से अर्घ्य देंगी। पूजा के बाद पर्व आधारित कथा सुनी जाएगी और फिर चलनी की ओट से चांद फिर पति का दीदार करेंगी। पूजा के बाद पति उन्हें पानी या जूस पिलाकर व्रत की पारणा करवाएंगे। अखंड सौभाग्य प्राप्ति की कामना करते हुए सुहागिनें श्रद्धा और विश्वास के साथ रविवार को करवाचौथ का व्रत रखेंगी।

करवा चौथ से जुड़ी धार्मिक मान्यता-व्रत को लेकर ऐसी मान्यता है कि द्वापर युग में महाभारत की लड़ाई से पहले भगवान श्रीकृष्ण के निर्देश पर सुहाग की रक्षा के लिए करवा चौथ का सबसे पहले व्रत द्रौपदी ने रखा था। तब से इस तिथि पर निर्जला व्रत रखकर चंद्र आराधना की जाती है। विशेष रूप से यह व्रत उत्तरप्रदेश, पंजाब में मनाया जाता है। प्रदेश में उत्तर भारतीय महिलाएं बड़ी संख्या में हैं, इस लिहाज से शहर के बाजारों व कालोनियों में भी करवा चौथ की रौनक दिखती है।

बाजार में खरीदारी करतीं महिलाएं।

कॉलोनियों में सामूहिक रूप से होगी पूजा
करवा चौथ की पूजा ज्यादातर सामूहिक रूप से की जाती है। इस मौके पर शहर के मोहल्ले और कॉलोनियों में जगह-जगह पर इकट्ठा होकर महिलाएं पूजा अर्चना करेंगी। इस दिन करवा बदलने की मान्यता है महिलाएं एक दूसरे से करवा यानी एक तरह का मिट्टी का कलश आपस में बदलती हैं। शहर के चक्रधर नगर बंगला पारा, दरोगा पारा, गांधी गंज सहित अन्य जगहों में महिलाएं सामूहिक रूप से व्रत पूजन कर पति की लंबी उम्र की कामना करेंगी।

आस्था का उपवास
खबरें और भी हैं...