• Dharm
  • Upasana
  • chant this miraculous mantra of ramraksha Stotra for progress and success
--Advertisement--

नौजवान बोलें रामरक्षास्तोत्र का यह चमत्कारी मंत्र, मिलेगी तरक्की व कामयाबी

19 को रामनवमी के मौके पर यह चमत्कारी मंत्र बोले तो मनचाही तरक्की व कामयाबी मिलेगी।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 03:50 PM IST
रिलिजन डेस्क. भगवान राम मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाते हैं। श्रीराम चरित्र खासतौर पर आज की युवा पीढ़ी को जीवन की आपाधापी में कर्म, विचार और व्यवहार में संतुलन, संयम व अनुशासन से कामयाबी के अद्भुत सूत्र व प्रेरणा देता है।
भगवान राम ने युवाकाल में ही मर्यादा और शक्ति के बेहतर गठजोड़ व तालमेल से अयोध्या से लेकर लंका तक तमाम विपरीत और कठिन हालात में सफलता व यश बटोरा।
श्रीराम को याद करते हुए ही रामरक्षास्तोत्र के विशेष मंत्र का हर रोज ध्यान युवाओं को आज के भाग-दौड़ भरे जीवन के उतार-चढ़ाव में मायूसी व असफलता से बचाने वाला माना गया है। वैसे तो रामरक्षास्तोत्र का पूरा पाठ मंगलकारी है, किंतु वक्त की कमी या किसी अन्य वजह से ऐसा करना संभव न हो तो यहां बताए जा रहे एक विशेष मंत्र का श्रीराम की पंचोपचार पूजा के बाद करना भी शुभ होगा। रामनवमी (19 अप्रैल), मंगलवार या हर रोज रामभक्त श्रीहनुमान के सामने इस मंत्र का स्मरण तो मनचाही मुरादें पूरी करने वाला माना गया है।
- सुबह स्नान के बाद श्रीराम मंदिर या घर के देवालय में भगवान राम संग माता सीता और लक्ष्मण की प्रतिमा को शुद्ध गंगा जल से स्नान कराने के बाद चंदन, पीताम्बरी वस्त्र, कमल का फूल या अन्य कोई भी सुगंधित फूल व फल या पकवानों का भोग लगाएं।
- किसी स्वच्छ आसन पर बैठ धूप व दीप लगाकार नीचे लिखा यह मंत्र विशेष स्मरण करें -
संनद्ध: कवची खङ्गी चापबाणधरो युवा।
गच्छन् मनोरथान् नश्च राम: पातु सलक्ष्मण:।।
- मंत्र स्मरण के बाद श्रीराम स्तुति और आरती करें। श्रीराम को अर्पित चंदन मस्तक व कंठ पर लगाएं। यह विचार और बोल में मर्यादा के साथ कर्मों में भी पवित्रता लाता है। यह मंत्र रोग-दोष भगाने वाला भी माना गया है।