• Hindi News
  • If Like Writing, You Can Become As A Content Writer

अगर लिखने का है शौक तो आप भी बन सकते हैं कंटेंट राइटर, पढ़ें कैसे

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
(सांकेतिक फोटो)
किसी खास वेबसाइट के प्रमोशन के लिए लिखा गया कंटेंट, कंटेंट राइटिंग के अंतर्गत आता है। कंटेंट राइटर के रूप में आपको कोई की-वर्ड यानी एक विषय दिया जाता है, जिस पर सीमित या तय शब्दों में आपको लिखना होता है।
छोटी से छोटी बात को जानने के लिए हम गूगल पर सर्च करते हैं, जिसका जवाब सर्च इंजन पर उपलब्ध लाखों वेबसाइट्स दे देती हैं। ऐसे में इन वेबसाइट्स के लिए कंटेंट राइटिंग का काम करने वाले पेशेवरों के लिए अवसरों की भरमार हो गई है। एक अनुमान के अनुसार, आने वाले समय में भारत में ऑनलाइन राइटिंग की डिमांड काफी पढ़ने वाली है। इसे देखते हुए आप भी इस क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते हैं। यदि आपने पत्रकारिता की पढ़ाई की है और लिखने का शौक रखते हैं तो एक बेहतर विकल्प के रूप में कंटेंट राइटिंग का क्षेत्र आपका इंतजार कर रहा है।
क्या है कंटेंट राइटिंग
किसी खास वेबसाइट के प्रमोशन के लिए लिखा गया कंटेंट इसके अंतर्गत आता है। मसलन कंटेंट राइटर के रूप में आपको कोई की-वर्ड यानी एक विषय दिया जाता है, जिसमें सीमित या तय शब्दों में उस विषय पर लिखना होता है। कंटेंट राइटिंग कई प्रकार की हो सकती है, जिसमें से कुछ ये हैं-
टेक्निकल राइटिंग
टेक्नोलॉजी और इनोवशन के फील्ड से जुड़ी कंपनियों को अपने प्रॉडक्ट और उनके फंक्शन के बारे में ग्राहक को लगातार अपडेट करना होता है। इस मुश्किल काम को टेक्निकल राइटर सरल शब्दों के माध्यम से आसान बना देते हैं। टेक्निकल राइटर को टेक्नोलॉजी से संबंधित विषयों पर लिखना होता है।
वेब कंटेंट राइटर
प्रिंट की तुलना में इलेक्ट्रॉनिक माध्यम में लिखना कठिन माना जाता है। वेब राइटर की लेखनी सरल होनी चाहिए और इसमें प्वाइंट्स का भी यथासंभव इस्तेमाल होना चाहिए।
साइंस राइटिंग
रिसर्च और डवलपमेंट के कामों में तेजी आने से साइंस राइटर की डिमांड तेजी से बढ़ने लगी है। खासकर साइंस राइटर, साइंटिस्ट और रिसर्चर को उनके रिसर्च पेपर तैयार करने, साइंस जर्नल के लिए आिर्टकल लिखने, थीसिस आदि तैयार करने में मदद करते हैं। साइंस राइटर बनने के लिए जरूरी है कि आपकी संबंधित विषयों पर अच्छी पकड़ हो।
क्या जरूरी है योग्यता
कंटेंट राइटिंग में मास कम्युनिकेशन की डिग्री वाले प्रोफेशनल्स को अधिक महत्व दिया जाता है। टेक्निकल राइटिंग के लिए टेक्निकल सब्जेक्ट के अलावा कम्प्यूटर नॉलेज जरूरी है।
कैसे हैं रोजगार के अवसर
आईटी के बढ़ते प्रभाव की वजह से आज दुनियाभर में वेबसाइटों की बाढ़ आ गई है इसलिए रोजगार की सबसे ज्यादा संभावनाएं वेबसाइट डेवलपमेंट से जुड़ी कंपनियों में होती है। इसके अलावा पब्लिशिंग हाउस और आईटी, टूरिज्म व अन्य क्षेत्रों से जुड़ी कंपनियों में भी कंटेंट राइटर की जरूरत होती है।
शुरुआती वेतन और पैकेज
कंटेंट राइटर के रूप में आप शुरुआत में 15 से 20 हजार रुपए हर महीने कमा सकते हैं। इसके अलावा आप फ्रीलांसिंग या पार्ट टाइम काम करके प्रति लेख 200 से लेकर 1,000 रुपए तक कमा सकते हैं।
यहां से कर सकते हैं कोर्स
  • सेंट जेवियर्स इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन, मुंबई
  • आर के फिल्म्स एंड मीडिया अकादमी, नई दिल्ली
  • आईआईएमएम, नई दिल्ली
  • टीडब्ल्यूबी इंस्टीट्यूट, बेंगलुरु
  • सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, पुणे
  • जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली