Hindi News »Self-Help »Knowledge» Top 10 Fast Trains Of The World

600 किमी की रफ्तार से दौड़ेगी ये ट्रेन, देखिए टॉप 10 हाई स्पीड Trains

नॉलेज डेस्क। आज से ठीक 52 साल पहले यानी 1 अक्टूबर, 1964 को जापान ने अपनी पहली बुलेट ट्रेन सर्विस ‘शिन्कासेन’ की शुरुआत की थी। यह ट्रेन आज भी 210 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से जापानी शहर टोक्यो और ओसाका के बीच चल रही है। इसके बाद से पूरी दुनिया में हाइ स्पीड ट्रेन चलाने की होड़ सी हो गई। जापान की इस ट्रेन की लॉन्चिंग के करीब 50 साल बाद भारत में अब जाकर सेमी हाई-स्पीड ट्रेन ‘टेल्गो’ चलाने की कवायद चल रही है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Oct 01, 2016, 12:05 AM IST

  • नॉलेज डेस्क।  आज से ठीक 52 साल पहले यानी 1 अक्टूबर, 1964 को जापान ने अपनी पहली बुलेट ट्रेन सर्विस ‘शिन्कासेन’ की शुरुआत की थी। यह ट्रेन आज भी 210 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से जापानी शहर टोक्यो और ओसाका के बीच चल रही है। इसके बाद से पूरी दुनिया में हाई स्पीड ट्रेन चलाने की होड़ सी हो गई। जापान की इस ट्रेन की लॉन्चिंग के करीब 50 साल बाद भारत में अब जाकर सेमी हाईस्पीड ट्रेन ‘टेल्गो’ चलाने की कवायद चल रही है।
     
    ऐसी होगी सबसे तेज ट्रेन

    >  दुनिया की सबसे फास्ट ट्रेन जापान मेग्लेव होगी।
    >  इसकी अधिकतम स्पीड 603 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। 
    >  इस ट्रेन की सभी टेस्टिंग हो चुकी है। 
    >  इंजीनियरिंग का कमाल- यह कभी डिरेल नहीं हो सकती।
    >  यह एयर पॉल्युशन नहीं करती है।
    >  यह पूरी तरह से साउंड प्रूफ है। 
    >  बिना पहियों की यह ट्रेन आधुनिक मैग्नेटिक सिस्टम से पैदा हुए फोर्स से चलती है। 
    >  यह अपने मैग्नेटिक ट्रैक से 10-cm उपर चलती है। इस कारण इसमें फ्रिक्शन नहीं होता। झटके नहीं लगते। 
    >  इस ट्रेन के ट्रैक को बनाने में लगने वाले समय के कारण यह 2027 तक यात्रियों के लिए उपलब्ध होगी। 
     
    कैसे चलती है बुलेट ट्रेन?

    > बुलेट ट्रेन्स को मेग्लेव ट्रेन्स भी कहा जाता है। मेग्लेव का मतलब होता है मेग्नेटिक लेविगेशन। इसमें पहिए नहीं होते। ट्रेन के ट्रैक और बोगी में इलेक्ट्रो मैग्नेट लगे होते हैं, जो ट्रेन को ट्रैक से थोड़ा ऊपर हवा में रखते हैं। इससे फ्रिक्शन नहीं होता और ट्रेन को तेज स्पीड मिलती है। 
    >जब ट्रेन चलती है तब इन इलेक्ट्रो मैग्नेट्स में इलेक्ट्रिक करंट फ्लो होता है। इससे यह मैग्नेट ट्रेन को तेज फोर्स के साथ आग बढ़ाते हैं। 
    >बुलेट ट्रेन्स में कोई इंजिन नहीं होता। पॉवर सप्लाय के लिए केवल इलेक्ट्रिक मोटर्स लगी होती हैं। 

    आगे की स्लाइड्स में जानिए दुनिया की टॉप-10 हाई स्पीड ट्रेन्स के बारे में...
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Knowledge

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×