Hindi News »Self-Help »Knowledge» Paytm News: Harvard Business School To Teach Paytm Success Story

हार्वर्ड बिजनेस स्कूल पढ़ाएगा Paytm की कहानी, जानिए क्यों

अमेरिका के टॉप बिजनेस स्कूल्स में शुमार हार्वर्ड बिजनेस स्कूल ई-वॉलेट कंपनी Paytm की सफलता की कहानी एक केस स्टडी के रूप में अपने स्टूडेंट्स को पढ़ाने जा रहा है। जल्द ही इस केस स्टडी को हार्वर्ड के कोर्स में आधिकारिक तौर पर शामिल किया जाएगा।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 30, 2017, 04:47 PM IST

  • नॉलेज डेस्क।अमेरिका के टॉप बिजनेस स्कूल्स में शुमार हार्वर्ड बिजनेस स्कूल ई-वॉलेट कंपनी Paytm की सफलता की कहानी एक केस स्टडी के रूप में अपने स्टूडेंट्स को पढ़ाने जा रहा है। जल्द ही इस केस स्टडी को हार्वर्ड के कोर्स में आधिकारिक तौर पर शामिल किया जाएगा।
    भारत में नोटबंदी के बाद Paytm काफी तेजी से लोकप्रिय हुआ है। इसके बिजनेस में भी कई गुना इजाफा हुआ है। इतने कम समय में Paytm ने ये कैसे किया, यही बताने के लिए हार्वर्ड बिजनेस स्कूल ने अपने कोर्स में इसे शामिल करने का फैसला किया है। यह केस स्टडी ‘Paytm: बिल्डिंग अ पैमेंट्स नेटवर्क’ के नाम से पढ़ाई जाएगी। गौरतलब है कि Paytm को विजय शेखर शर्मा ने शुरू किया था।
    आगे की स्लाइड्स में जानिए Paytm की कहानी...
  • > Paytm के CEO विजय शेखर शर्मा ने 2001 में 2 लाख रुपए जुटा कर One-97 नाम की कंपनी की शुरुआत की, जो मोबाइल से जुड़ी वैल्यू ऐडेड सर्विसेस देती थी। ज्यादा अनुभव न होने के कारण कंपनी की हालत एक साल में ही खराब होने लगी।
  • > 2004 तक कंपनी लगभग दिवालिया हो गई और विजय के पास खाने तक के पैसे नहीं बचे। पर इस दौरान मोबाइल के क्षेत्र में ग्रोथ हुई और ज्‍यादातर लोग अपना काम मोबाइल पर करने लगे। इससे उनकी कंपनी को भी धीरे-धीरे ग्रोथ मिली और 2005 में पहली बार कंपनी प्रॉफिट में आई।
  • >2011 में विजय ने इस कंपनी का नाम बदलकर Paytm रख दिया। इसका आइडिया भी बड़ा दिलचस्प है। दरअसल, किराने का सामान या ऑटो वाले को पैसे देते वक्त छुट्टे (खुल्ले) पैसे की दिक्कत ने उनको Paytm जैसी कंपनी बनाने के लिए प्रेरित किया। 
  • >Paytm की सफलता के लिए 2016 में विजय को 'न्यूजमेकर ऑफ द ईयर' का अवॉर्ड भी मिला। 
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Knowledge

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×