--Advertisement--

MBA, BCA के लिए बेस्ट है पायोनियर इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज

प्रदेश का एक उत्कृष्ठ अध्ययन संस्थान के तौर पर उभर रहा है इंदौर का पायोनियर इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज।

Danik Bhaskar | Jul 15, 2016, 03:32 PM IST
एजुकेशन डेस्क। मध्यप्रदेश के शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी एवं वर्ष 1996 में स्थापित इंदौर शहर के अध्ययन संस्थानों में से एक पायोनियर इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज 'उत्कृष्ठ अध्ययन संस्थान' के नाम से जाना जाता है।
पायोनियर इंस्टीट्यूट स्थापना वर्ष से ही शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर विकास की ऊंचाइयां छू रहा है। यह संस्थान प्री-नर्सरी स्तर से लेकर 12वीं तक के अध्ययन में सभी बच्चों के सर्वांगीण विकास करने में प्रयासरत है। संस्थान में समय-समय पर खेलकूद गतिविधियों के अतिरिक्त वार्षिक सम्मेलन 'उद्भव' के दौरान टैलेंट हंट, फैशन शो आदि का भी आयोजन किया जाता रहा है।
संस्थान द्वारा स्कूली शिक्षा के पश्चात उच्च शिक्षा में भी छात्रों के भविष्य निर्माण में अपना योगदान देते आ रहा है। संस्थान ग्रैजुएट स्तर, पोस्ट ग्रैजुएट एवं पीएचडी तक की शिक्षा के लिए निरंतर उत्कृष्ठ अध्ययन के लिए प्रतिबद्ध है। संस्थान द्वारा छात्र/छात्राओं को समर ट्रेनिंग, इंडस्ट्रीयल विजिट्स भी अध्ययन के अंतर्गत पाठ्यक्रम में सम्मिलित है। छात्रों को विभिन्न विषयों में विशेषज्ञता प्राप्त करने के लिए एक एंटरप्रोन्योरशिप सेल का गठन भी संस्थान में किया गया है।
इस संस्थान के बारे में अन्य जानकारी आगे की स्लाइड्स पर पढ़ें...
शिक्षा के क्षेत्र में ऊंचाइयों को छूते हुए संस्थान ने वर्ष 2009 में प्रथम प्रयास विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली एवं देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर से स्वशासी दर्जा प्राप्त किया।
 
संस्थान के शिक्षा की गुणवत्ता एवं अन्य विशेषताओं को देखते हुए राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद 'नेक' द्वारा संस्थान को 'ए' ग्रेड का दर्जा प्रदान किया गया है।
 
संस्थान को प्राप्त 'ए' ग्रेड का दर्जे के पश्चात विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2015 में स्वशासी दर्जा के पुनरीक्षण कर संस्थान को वर्ष 2015 से 2021 तक के लिए स्वशासी दर्जे में वृद्धि प्रदान की है, जो कि एक विशिष्ट उपलब्धि है। इस उपलब्धि को प्राप्त करने के लिए संस्थान में विभिन्न विषयों में उच्च शिक्षित शिक्षकों का योगदान है।
 
संस्थान द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में प्राप्त की गई अन्य उपलब्धियों में से एक 'उत्कृष्ठ अध्ययन संस्थान' के रूप में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली द्वारा चयनित कर न केवल इंदौर के अन्य संस्थानों में से वरन मध्यप्रदेश के सभी निजी महाविद्यालयों तथा स्ववित्त महाविद्यालयों में से केवल पायोनियर इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज, इंदौर को यह सम्मान प्राप्त हुआ है। यह एक गौरवमय उपलब्धि है।
 
संस्थान को शिक्षा की गुणवत्ता की कसौटी पर परखने के लिए समय-समय पर आईएसओ द्वारा भी संस्थान का निरीक्षण किया जाता रहा है तथा सदैव ही संस्थान को शिक्षा के गुणवत्ता के आधार पर विशिष्ट प्रमाण पत्र प्राप्त होता रहा है। संस्थान में समय समय पर राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन/संगोष्ठियों का आयोजन किया गया है। जिसमें शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धि प्राप्त विद्वान डॉ. नरेंद्र धाकड़, डॉ आशा माथुर आदि उपस्थित रहे।
 
 
संस्थान अपने गौरवशाली इतिहास के 20 वर्ष पूर्ण कर चुका है। इस विकास यात्रा में यह भी विशेष उल्लेखनीय है कि संस्थान से शिक्षित युवक/युवतियां आज देश के विकास में विभिन्न क्षेत्रों में अपना उत्कृष्ठ योगदान प्रदान कर रहे हैं। संस्थान के छात्र समाज के विकास में विशेषकर वर्तमान में अनुभव की जा रही असुविधाओं/सामाजिक बुराइयों के प्रति लोगों में जागरुकता लाने में भी अपना योगदान दे रहे हैं। संस्थान में राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत एक इकाई का भी संचालन किया जा रहा है।
 
संस्थान में शिक्षा कार्य के अतिरिक्त अन्य गतिविधियों में भी योगदान दे रहा है। वर्तमान में संस्थान द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के लिए कम्प्यूटर प्रशिक्षण एवं विभिन्न सेवाओं का भी संचालन कर रहा है।