Hindi News »Self-Help »Knowledge» Why LPU Ranks Among The Top Educational Institutes In India

LPU क्यों है देश की टॉप यूनिवर्सिटीज़ में अग्रणी, जानिए अभी

अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाओं के लिए टाउनशिप समझी जाने वाली देश की विशालतम लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (LPU) स्थापित है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 11, 2016, 03:53 PM IST

  • एजुकेशन डेस्क: भारत के युवाओं में इंजीनियरिंग प्रोग्राम्स के लिए सबसे ज्यादा क्रेज है। एस्पायरिंग सर्वे रिपोर्ट के अनुसार, देश के 80 प्रतिशत से अधिक युवा इंजीनियरिंग को ही अपना करियर बनाना चाहते हैं। हालांकि विश्व में सबसे अधिक इंजीनियर भारत से ही हैं लेकिन फिर भी वे टेक्निकल और सॉफ्ट स्किल की कमी के चलते नाकाम साबित होते हैं। जब भास्कर टीम ने इस मुद्दे की पड़ताल की तो जाना कि देश में स्किल्ड इंजीनियर तैयार करने वाले संस्थान नाम-मात्र ही हैं।
    हमने देश के तकरीबन सभी राज्यों के इंजीनियरिंग कॉलेज-यूनिवर्सिटी के एजुकेशन पैटर्न को खंगाला, जांचा और परखा। स्टूडेंट्स सही इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी का सिलेक्शन कैसे करें, इस पर भी बड़े विषय के तौर पर विचारा। इस प्रति युवाओं के दिमागों में उभरते विभिन्न प्रश्नों के उत्तर हमें पंजाब के फगवाड़ा में मिले। यहां विभिन्न क्षेत्रों में टॉप रैंक प्राप्त, कई हजारों स्टूडेंट्स और उन्हें दी जाने वाली अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाओं के लिए टाउनशिप समझी जाने वाली देश की विशालतम लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (LPU) स्थापित है।
    अनूठी विशेषताएं मौजूद हैं एलपीयू में
    यहां पहुंच कर हम एलपीयू द्वारा प्रत्येक क्षेत्र में किए गए हर कार्य को बारीकी से देख चौंके बिना नहीं रह सके। एलपीयू सही अर्थों में एक बसा-बसाया अंतर्राष्ट्रीय शहर हैं जहां भारत के प्रत्येक राज्य और 35 देशों के कई हज़ार स्टूडेंट्स 200 से अधिक कोर्सेस के तहत शिक्षा प्राप्त कर रहें हैं।
    स्टूडेंट्स यहां से पूरी तरह से स्किल्ड प्रोफेशनल्स और ग्लोबल सिटीजन के तौर पर तैयार हो समाज में आगे बढ़ नाम कमाते हैं, क्योंकि एलपीयू के इंजीनियरिंग व अन्य प्रोग्राम्स में बहुत सी अनूठी विशेषताएं मौजूद हैं:-
    सुरक्षित कैंपस,बेहतरीन अकादमिक वातावरण
    एक पुरानी कहावत के अनुसार 'किसी भी घर के भाग्य उसकी ड्योढ़ी से ही नज़र आ जाते हैं। ठीक ऐसा ही आभास हमें इसके मेन गेट पर पहुंचते ही हो गया था। मुस्तैद व चौकस सुरक्षा-कर्मी, एंट्री नपी तुली, बूम बैरियर्स, टरंसटाइल गेट्स, बाहर सड़क से ही प्रवेशकर्ता सीसीटीवी कैमरे की नज़र में ताकि सभी विद्यार्थियों को कैंपस के अंदर सुरक्षित व बेहतरीन अकादमिक वातावरण मिल सके।
    गेट से लेकर अंदर पहुंचते ही हमें विभिन्न वेशभूषाओं व भाषाओं वाले प्रसन्नचित विद्यार्थी नज़र आए, जो अपनी भाषा के साथ-साथ साथी स्टूडेंट्स की संस्कृति व भाषा का भी अनुकरण कर रहे थे। विद्यार्थियों ने हमें बताया कि कैंपस उन्हें अपने घर व शहर जैसा लगता है जहां उनकी रोजमर्रा की जरुरतों को पूरा करने के लिए 100 से अधिक कियोस्क व नौ मंजिला मॉल भी है। हम हैरान हुए कि हार्ड प्रोफेशनल प्रोग्रामों के स्टूडेंट्स बेहतरीन अकादमिक वातावरण की वजह से कितने फ्री और बिंदास नज़र आ रहे थे।
    ये हैं LPU की खास विशेषताएं:-
    • बहुत सी अनूठी विशेषताएं हैं एलपीयू के इंजीनियरिंग व अन्य प्रोग्राम्स में
    • एप्पल, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट जैसी टॉप कंपनियां भी पहुंच चुकी हैं इसके कैंपस में स्किल्ड इंजीनियर्स तलाशने
    • वैश्विक समाज को बेस्ट इंजीनियर देने के साथ, स्टार्ट-अप के लिए भी किया जाता है उत्साहित
    • बहुत से देशों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री हैं एलपीयू के मानद एलुमनाई
    आगे की स्लाइड्स में: गूगल, एप्पल सहित कई टॉप ब्रांड में होती है प्लेसमेंट्स...
  • गूगल,एप्पल सहित कई टॉप ब्रांड में होती है प्लेसमेंट्स

    कैम्पस में इंजीनिरिंग का काफी अच्छा माहौल है। जैसा हमने पहले ही बताया है कि LPU एक एजुकेशनल टाउनशिप कैम्पस है, जिसमें हाईली क्वालिफाइड व हाईस्किल्ड फैकल्टी हैं। इसके अलावा स्टूडेंट्स के पर्सनैलिटी डेवलपमेंट के लिए इवेंट्स होते ही रहते हैं। कॉलेज का प्लेसमेंट पर आरंभ से ही खासा फोकस रहा है।
    LPU के स्टूडेंट्स गूगल, फेसबुक, एप्पल, अमेजन, टीसीएस, कॉग्नीजैंट जैसे कई टॉप ब्रांड्स में अहम पदों पर काम कर रहे हैं।
    यूनिवर्सिटी के हॉल ऑफ़ फेम से हमने जाना कि वर्ष 2000 से लेकर अब तक एलपीयू ने न केवल भारत ही नहीं विश्व को दक्ष, तीव्र बुद्धि वाले और सफल स्टूडेंट्स दिए हैं। हॉल ही में न्यूयॉर्क में एलुमनाई चैप्टर का आयोजन किया गया, जहां अमेरिका व कनाडा में विभिन्न पदों पर कार्यरत एलपीयू के स्टूडेंट्स ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया।
    विभिन्न अकादमिक ब्लॉक्स का निरीक्षण करने पर पाया कि एलपीयू में 200 से अधिक वर्ल्ड क्लास लेबोरेटरीज और बेहतरीन सुविधाओं वाले क्लास रूम्स हैं जहां इंजीनियरिंग प्रोग्राम में थ्योरी की बजाय प्रैक्टिकल वर्क पर अधिक जोर दिया जाता है, ताकि यहां से निकले इंजीनियर इंडस्ट्री में बेहतर काम के साथ-साथ नाम भी कमा सकें।
    मेकाट्रोनिक्स जैसे विशेष प्रोग्राम्स के साथ एलपीयू का ध्यान रूढ़िवादी शिक्षा की बजाए न्यू एज की विशेष शिक्षा की ओर निरंतर रहता है। विभिन्न कोर्सेज के सिलेबस और अन्य अकादमिक गतिविधियों देख हमें विश्वास हुआ कि दुनिया को सबसे अधिक इंजीनियर देने वाले भारत की सबसे बड़ी चिंता क्वालिटी इंजीनियर तैयार करना एलपीयू में ही पूरी तरह समाप्त हो जाती है।
    आगे की स्लाइड्स में-LPUसे स्टार्टअप्स भी शुरू कर सकते हैं स्टूडेंट्स
  • स्टूडेंट्स यहां से शुरू कर सकते हैं स्टार्टअप भी
    हमने कैंपस में ही स्टूडेंट्स के कई प्रोजेक्ट सुचारू रूप से कार्यरत भी देखे। पता चला कि यूनिवर्सिटी का फोकस एंटप्रेन्योरशिप (उद्यमशीलता) भी काफी है।
    यूनिवर्सिटी में एंटप्रेन्योरशिप के लिए इन्क्यूबेटर सेंटर है। यूनिवर्सिटी के एल्यूमनाई, फैकल्टी, स्टूडेंट इसके मेम्बर बन सकते हैं। इसके अलावा यदि कोई LPU से अपना स्टार्टअप शुरू करना चाहता है, तो वह भी सेंटर में पर्याप्त जानकारी प्राप्त करने के लिए अपना नाम रजिस्टर करवा सकता है।
    मिलता है इंडस्ट्री एक्सपोजर
    एस्पायरिंग माइंड्स के नए सर्वे के अनुसार इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी करने के बाद कम छात्र ही कॉर्पोरेट सेक्टर की जरूरतों को पूरा कर पाते हैं। इसका कारणहै स्टूडेंट्स को इंडस्ट्री एक्सपोजर न मिलना।
    हालांकि हमने विस्तृत रूप से जाना कि LPU ने यह पुरजोर सिद्ध कर दिखाया है कि इंडस्ट्री और एकेडमिक वर्ल्ड केबीच यदि तालमेल हो तो फ्रेशर्स भी कॉरपोरेट वर्ल्ड की जरूरतों पर खरा उतर सकते हैं। यह एक अंकरणीय उदाहरण है कि एल पी यू के अधिकतर विद्यार्थीअपनी परीक्षा कई माह पहले ही टॉप ब्रांड से नियुक्ति पत्र प्राप्त कर लेते हैं I एल पी यू की मैनेजमेंट इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करने वाली बॉडीज जैसे CII, FICCI and TiEके साथ मिलकर अकादमिक इंजीनियरिंग की स्टडीज के डवलपमेंट के लिए भरपूर सहयोग दे रही है।
    कई देशों की यूनिवर्सिटियों से किया है टाई-अप
    LPU ने सैन फ्रांसिस्को यूनिवर्सटी, यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैलिफोर्निया, ईस्ट लंदन यूनिवर्सिटी व् कई अन्य टॉप एजुकेशनल इंस्टीटूशन्स के साथ टाईअप कियाहुआ है और देश व् विदेश की टॉप अकादमिक बॉडीज से मान्यता भी प्राप्त की हुई हैI कैंपस में 2000से अधिक विद्यार्थी विभिन्न देशों व् भारत के सभी राज्योंके 23000से अधिक विद्यार्थी मल्टी कल्चरल वातावरण में पढ़ते हैंI सभी विभिन्न संस्कृतियों के गुणों को आत्मसात करते हुए ग्लोबल सिटीजन के रूप मेंविकसित होते हैंI विद्यार्थियों ने बताया कि प्रत्येक वर्ष कल्चरल इवेंट 'वन वर्ल्ड' और 'वन इंडिया' देखने लायक होते हैं जिन्हें रिपब्लिक डे परेड की तर्ज़ परआयोजित किया जाता है जहां विभिन्न कल्चर का अभूतपूर्व संगम देखने व् आत्मसात करने को मिलता है।
    आगे की स्लाइड्स में - दुनिया के दिग्गज करते हैं गाइड
  • कई देशों के राष्ट्रपति, PMसहित कई दिग्गज कर चुके हैं स्टूडेंट्स को गाइड
    यूनिवर्सिटी भारत के राष्ट्रपति, दलाई लामा सहित वर्ल्ड के अन्य कई टॉप लीडर्स को होस्ट कर चुकी है, जिनमें कई देशों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री शामिल हैं। एलपीयू ने इन लीडर्स को इनके द्वारा विश्व व समाज की भलाई के लिए किए अनुकरणीय कार्यों के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित भी किया है।
    बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान, रणबीर कपूर, दीपिका पादुकोण, विद्या बालन, सोनम कपूर भी एलपीयू कैंपस में अपनी उपस्थित दर्ज करा स्टूडेंट्स को प्रभावित और प्रेरित कर चुके हैं।
    टेस्ट से एंट्रेंस
    विशाल एडमिशन ब्लॉक में "ट्रूली ग्लोबल" यूनिवर्सिटी-एलपीयू के बारे में प्रभावित करने वाली और गौरवमयी बात सामने आई कि इस वर्ष से एलपीयू में एडमिशन केवल इसके विशेष रूप से तैयार 'एलपीयू नेशनल एंट्रेंस एंड स्कालरशिप टेस्ट (LPUNEST)क्लीयर करने पर ही होगा। हर साल देश भर के लाखों युवा इसमें हिस्सा लेते हैं। यह टेस्ट अमेरिकी पैटर्न पर आधारित है जो देश के 113 शहरों में आयोजित होता है और स्टूडेंट्स इसके लिए फ्लेक्सिबल शेडयूल प्रोग्राम का लाभ उठा सकते हैं।
    बी.टेक प्रोग्राम्स के लिए इस टेस्ट में सफल स्टूडेंट्स को उनकी परफॉरमेंस के अनुसार 7 5 लाख रुपए तक की स्कॉलरशिप भी प्रति स्टूडेंट मिलती है।
    ज्यादा जानकारी के लिए विज़िट करें www.lpu.in
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Why LPU Ranks Among The Top Educational Institutes In India
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Knowledge

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×