--Advertisement--

हाईकोर्ट ने कहा- राष्ट्रगान सभी निजी स्कूल में भी हो अनिवार्य

मद्रास हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया है कि तमिलनाडु के प्रत्येक निजी स्कूल में सुबह की प्रार्थना के दौरान राष्ट्रगान गाया जाए।

Danik Bhaskar | Mar 06, 2016, 03:32 PM IST
चेन्नई. मद्रास हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया है कि तमिलनाडु के प्रत्येक निजी स्कूल में सुबह की प्रार्थना के दौरान राष्ट्रगान गाया जाए। चीफ जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एमएम सुंदरेश की बेंच ने यह निर्देश स्कूलों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने की मांग संबंधी सेवानिवृत्त कर्मचारी एन सेल्वेथिरुमल की जनहित याचिका पर दिया।
बेंच ने संबंधित पक्षों की राय जानने के बाद सेकंडरी एजुकेशन के केंद्र व राज्य के विभागों और मानव संसाधन विकास विभाग को निर्देश दिया है कि वह पता लगाएं कि प्रदेश के सभी प्राइवेट स्कूलों में राष्ट्रगान गाया जाता है या नहीं। बेंच ने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि भारत के संविधान की गरिमा को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रगान और राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान किया जाएगा और विभिन्न संस्थानों में राष्ट्रगान का पाठ किया जाएगा।'
सेल्वेथिरुमल की शिकायत थी कि तमिलनाडु के कई निजी स्कूलों में राष्ट्रगान नहीं गाया जा रहा है। जबकि इसे केंद्र सरकार के सभी स्कूलों जैसे केंद्रीय विद्यालय और राज्य सरकार के सभी स्कूलों में सुबह के समय नियमित रूप से गाया जाता है।
आरटीआई से मिली जानकारी
राष्ट्रगान अनिवार्य है याचिकाकर्ता ने कहा, "मुझे आरटीआई के तहत मिले एक जवाब से पता चला कि भारत सरकार ने परामर्श जारी किए हैं कि स्कूलों में राष्ट्रगान से दिन के काम की शुरुआत होनी चाहिए।'