Hindi News »Self-Help »Career Tips» Programming Language Should You Learn To Make Money

3 से 6 महीने में सीखें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज और कमाएं हजारों रुपए

कम्प्यूटर से जुड़ी ऐसी कई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं जिन्हें सीखकर लाखों रुपए कमाए जा सकते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 01, 2016, 12:05 AM IST

  • एजुकेशन डेस्क। कम्प्यूटर से जुड़ी ऐसी कई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं जिन्हें सीखकर लाखों रुपए कमाए जा सकते हैं। ऐसे स्टूडेंट्स जिनका इंटरेस्ट कम्प्यूटर में है वो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखकर जॉब हासिल कर सकते हैं। सबसे अच्छी बात ये है कि इन लैंग्वेज को 3 से 6 महीने के वक्त में सीख सकते हैं। जानिए ऐसी 10 प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में...
    1. पर्ल (Perl)
    इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को 80 के दशक में NASA के एक इंजीनियर ने बनाया था। पर्ल का इस्तेमाल टेक्स्ट प्रोसेसिंग में किया जाता है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के तौर पर यह पावरफुल है और इस्तेमाल करने में भी फ्लैक्सिबल और आसान है।
    लर्निंग टाइम : 4 से 6 महीने
    इनकम : 20 से 30 हजार रुपए महीना
    आगे की स्लाइड्स पर जानिए अन्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में...
  • 2. ऑब्जेक्टिव-C (Objective-C)
    C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की सक्सेस देखकर इसी से मिलते जुलते नाम वाले कई लैंग्वेजेज डेवलप की गई। Objective-C भी उन्हीं में से एक थी। इस लैंग्वेज का इस्तेमाल iPhone के ऐप्स बनाने में किया जाता है। हालांकि, एप्पल Objective-C के साथ ही कंपनी द्वारा बनाई गई लैंग्वेज का भी ऐप्स बनाने में इस्तेमाल करती है।
    लर्निंग टाइम : 4 से 6 महीने
    इनकम : 20 से 25 हजार रुपए महीना
  • 3. रूबी (Ruby)
    प्रोग्रामिंग के लिए बनाई गई लैंग्वेज रूबी 24 साल पुरानी है। इसके कोड्स लिखने और याद रखने में आसान हैं। ये वेब ऐप्स बनाने में इस्तेमाल लाई जाती है। इस लैंग्वेज का ऑफिशियल मोटो ही है 'प्रोग्रामर का बेस्ट फ्रैंड'।
    लर्निंग टाइम : 4 से 6 महीने
    इनकम : 20 से 30 हजार रुपए महीना

  • 4. पायथन (Python)
    पायथन को 1989 में डेवलप किया गया था। इसके कोड्स पढ़ने में काफी आसान हैं, इसलिए डेवलपर्स इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को काफी पसंद करते हैं। कई प्रोग्रामर्स का कहना है कि ये प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने और प्रोग्रामिंग की शुरुआत करने वालों के लिए यह सबसे आसान लैंग्वेज है।
    लर्निंग टाइम : 4 से 6 महीने
    इनकम : 20 से 30 हजार रुपए महीना

  • 5. जावा (Java)
    1991 में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के तौर पर जावा को बनाया गया था। ऑरैकल (Oracle) कंपनी ने इस लैंग्वेज को स्मार्ट टीवी में इस्तेमाल के लिए डेवलप किया था। जावा आज दुनिया में सबसे ज्यादा पॉप्युलर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। IT सेक्टर में जावा लैंग्वेज की सबसे ज्यादा डिमांड है। मोबाइल ऐप्स को बनाने में भी जावा की अहम भूमिका होती है। इसके साथ एंड्रॉइड एप्पिलेशन सीखने पर ज्यादा फायदा मिलता है।
    लर्निंग टाइम : 3 से 6 महीने
    इनकम : 10 से 12 हजार रुपए महीना

  • 6. पीएचपी (PHP)
    वेबसाइट्स बनाने के लिए पीएचपी बहुत ही कॉमन लैंग्वेज है। WorldPress, Facebook और Yahoo जैसी कंपनियां अपनी वेबसाइट्स को बनाने और उनके मेंटेनेंस के लिए इसी लैंग्वेज का इस्तेमाल करती हैं। PHP लैंग्वेज की जानकारी इन कंपनियों में जॉब पाने का एक माध्यम बन सकती है। हालांकि, कई प्रोग्रामर्स हैं जिन्हें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के तौर पर PHP पसंद नहीं है।
    लर्निंग टाइम : 3 से 6 महीने
    इनकम : 8 से 12 हजार रुपए महीना

  • 7. सी (C)
    C सबसे पुरानी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। आज भी IT कंपनियों में इसकी सबसे ज्यादा डिमांड है। C लैंग्वेज को 70 के दशक में डेवलप किया गया था। यह लैंग्वेज इतनी पसंद की गई कि 1978 में 'The C Programming Language' नाम की 800 पन्नों की किताब छापी गई जो आज भी पॉपुलर है।
    लर्निंग टाइम : 2 से 3 महीने
    इनकम : 7 से 10 हजार रुपए महीना

  • 8. जावास्क्रिप्ट (JavaScript)
    जावास्क्रिप्ट का इस्तेमाल वेब ऐप्स बनाने में किया जाता है। बता दें कि नाम के अलावा जावा और जावास्क्रिप्ट में कुछ भी कॉमन नहीं है। दोनों ही लैंग्वेजेज एक दूसरे से बिलकुल अलग हैं। मॉडर्न वेब को बनाने में जावास्क्रिप्ट का इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, कई बार वेबसाइट्स के स्लो ब्राउसिंग के कारण इसकी आलोचना भी होती है। जावास्क्रिप्ट के साथ HTML और CSS का कोर्स भी करना पड़ता है।
    लर्निंग टाइम : 3 से 6 महीने
    इनकम : 8 से 10 हजार रुपए महीना

  • 9. विजुअल बेसिक (Visual Basic)
    विजुअल बेसिक लैंग्वेज को माइक्रोसॉफ्ट ने डेवलप किया है। विजुअल बेसिक लैंग्वेज प्रोग्रामिंग को आसान बनाने में प्रोग्रामर्स की मदद करती है। इसमें ग्राफिक एलिमेंट दिया गया है जिसे ड्रैग और ड्रॉप करके प्रोग्रामर प्रोग्राम में कुछ बदलाव कर सकता है। हालांकि, अब कंपनी इसे बंद कर चुकी है। लेकिन इसकी जगह डॉट नेट और C शार्प का अपडेट कोर्स कर सकते हैं।
    लर्निंग टाइम : 3 से 6 महीने
    इनकम : 7 से 10 हजार रुपए महीना

  • 10. सीएसएस (CSS)
    CSS का मतलब है (Cascading Style Sheets)। इस लैंग्वेज का इस्तेमाल वेबसाइट के फॉर्मेट और लेआउट डिजाइनिंग में किया जाता है। अधिकतर वेबसाइट्स और मोबाइल ऐप्स के मेन्युज CSS से ही लिखे जाते हैं। जावास्क्रिप्ट और HTML के साथ इसका बेहतर तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके साथ HTML और जावास्क्रिप्ट का कोर्स भी करना होता है।
    लर्निंग टाइम : 3 से 6 महीने
    इनकम : 8 से 10 हजार रुपए महीना
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Career Tips

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×