टिप्स

--Advertisement--

Selfie Resume: अब कंपनियां लेती हैं ऐसे इंटरव्यू, जानें इसकी रोचक बातें

बदलते वक्त ने युवाओं को परखने के लिए प्लेसमेंट कंपनियों को नए और बेहतर प्लेटफॉर्म मुहैया कराए हैं। आधुनिक एचआर पॉलिसीज काफी यथार्थवादी हो गई हैं। ऐसे में सोशल नेटवर्किंग इसमें बेहदअहम किरदार अदा कर रही है।

Dainik Bhaskar

Jun 23, 2016, 03:23 PM IST
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
एजुकेशन डेस्क। इन दिनों 21 वर्षीय सुमुख मेहता का रेज्यूमे चर्चा में है, जिसके दम पर GQ नाम की मैग्जीन ने बिना इंटरव्यू के ही उसे जॉब ऑफर कर दी। मौजूदा दौर में इस तरह के कई क्रिएटिव आइडिया एचआर डिपार्टमेंट अपनी-अपनी कंपनियों के लिए इजाद कर रहे हैं। इसके अलाव भव्य सेमिनार आयोजित कर इस तरह के क्रिएटिव रेज्यूमे या इंटरव्यू के बारे में यंगस्टर्स को जागरुक भी कर रहे हैं।
ऐसे में सेल्फी रेज्यूमे और वीडियो इंटरव्यू जैसे क्रिएटिव और आधुनिक तरीके बड़ी कंपनियों की एचआर पॉलिसीज का हिस्सा बन चुके हैं। वर्तमान में ज्यादातर कंपनियां ऑनलाइन जॉब प्लेसमेंट कंपनियों के जरिए ही आवेदकों को चुन रही हैं। एक जानकारी के मुताबिक भारत में करीब 2500 जॉब प्लेसमेंट कंपनियां हैं जिनके पास करीब 35 करोड़ रेज्यूमे अपडेट हैं। एक सॉफ्टवेयर कंपनी के एचआर के मुताबिक औसतन एक पोस्ट के लिए करीब सौ से ज्यादा पेपर रेज्यूमे प्राप्त होते हैं, जिन्हे देख पाना काफी मुश्किल और टाइम टेकिंग प्रोसिजर हैं। इसी तरह से रिक्रूटिंग की पुरानी परंपराओं के तहत किसी प्रतिभागी की योग्यताओं को परखना पूरी तरह से मुमकिन नहीं हो पाता था।
क्या है सेल्फी रेज्यूमे?
मनोचिकित्सकों के मुताबिक सेल्फी की लत युवाओं को मनोरोगी बना रही है। लेकिन युवाओं की इस आदत का फायदा एचआर कंपनियां उठा रही हैं। इन दिनों सेल्फी रेज्यूमे कंपनियों और कैंडिडेट्स की पहली पसंद बना हुआ है। पिछले दिनों हैदराबाद की एक कंपनी ने सेल्फी रेज्यूमे के जरिए 750 रिक्रूटमेंट करके एक नई पद्धति को शुरू किया। इसी तरह से बेंगलुरु की ‘हायरी’ कंपनी ने एक भव्य सेमिनार आयोजित कर सेल्फी रेज्यूमे से युवाओं को परिचित कराया।
सेल्फी रेज्यूमे दरअसल एक तरह से कैंडिडेट्स द्वारा खुद के लिए बनाया गया वीडियो रेज्यूमे है। इसमें वह अपने बारे में वह सारी बातें रिकॉर्ड करके रिक्रूटर तक पहुंचाता है, जिसे वह एक पेपर रिज्यूम के जरिए बताने की कोशिश करता है।
आगे की स्लाइड्स पर जानिए सेल्फी रेज्यूमे से जुड़ी अन्य बातें...
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
किन क्षेत्रों में उपयोगी?
 
सेल्फी रेज्यूमे उन क्षेत्रों के लिए खासतौर से उपयोगी है, जिसमें कंपनी और कस्टमर के बीच में इंप्लॉई फ्रंट कड़ी के तौर पर जुड़ता है। मसलन बीपीओ, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और फैशन इंडस्ट्री। एक सर्वे के मुताबिक वर्ष 2020 तक बीपीओ सेक्टर भारतीय अर्थव्यवस्था का 10 फीसदी का हिस्सेदार होगा। आईटी कंपनियों का 70फीसदी हिस्सा बीपीओ सेक्टर के जरिए जुड़ा हुआ है। ऐसे में इन क्षेत्रों में लगातार जॉब्स तैयार हो रहे हैं। इसी तरह से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और फैशन इंडस्ट्री में भी पिछले एक दशक में बूम आया है।
 
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
कैंडिडेट्स के लिए फायदेमंद
 
सेल्फी रेज्यूमे का यह नया तरीका युवाओं के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो रहा है, खासतौर से उन के लिए जो दूरदराज के क्षेत्रों में रहते हैं। ऐसे में वह सेल्फी रेज्यूमे के जरिए खुद के बारे में वह बातें आसानी से बता सकते हैं, जो पेपर रिज्यूम में बताना मुमकिन नहीं होता। इसके जरिए कैंडिडेट्स अपनी कम्यूनिकेशन स्किल, ड्रेसिंग सेंस, प्राथमिकताओं के बारे में आसानी से बता सकते हैं।
 
कंपनी के लिए आसानी
 
इस तरह के रिज्यूम कंपनी के एचआर डिपार्टमेंट को बेहद सहूलियत से काम करने का मौका देते हैं। कैंडिडेट्स का सेल्फी वीडियो देखने के बाद रिक्रूटर को पता चल जाता है कि वह ट्रेनिंग के लायक है या नहीं। बातचीत का ढंग और रिज्यूम में बताई गई प्राथमिकताओं के आधार पर तय किया जा सकता है कि कैंडिडेट्स कंपनी के मुताबिक काम को प्राथमिकता देगा या नहीं।

 
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
ऐसे बनाएं सेल्फी रेज्यूमे को अट्रैक्टिव
 
- दो मिनिट से ज्यादा की स्पीच रिकॉर्ड न करें।
- करें बेहतर फ्रंट कैमरा मोबाइल का इस्तेमाल।
- रेज्यूमे रिकॉर्ड करते वक्त बैकग्राउंड का ध्यान दें।
- हैप्पी और पॉजिटिव मूड में रहें।
- स्माइल देते समय पाउट न करें।
 
30 सेकंड ही मिलता है एचआर को एक सेल्फी रेज्यूमे देखने के लिए
76 फीसदी रेज्यूमे महज इसलिए नकार दिए जाते हैं क्योंकि फोटो अटैच नहीं होते।
88 फीसदी रेज्यूमे अनप्रोफेशनल ईमेल के जरिए भेजे जाने पर अस्वीकार्य होते हैं।
2500 से ज्यादा ऑनलाइन जॉब कंसल्टेंसी काम कर रही हैं भारत में।
 
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
यह भी खास बदलाव
 
जिस तरह से समय के साथ रेज्यूमे और आवेदन करने के तरीकों में बदलाव आया है, उसी तरह से रिक्रूटमेंट के दूसरे तरीकों में भी तकनीकी पक्ष अहम हो गए हैं। 
 
कोर स्किल्स डिटेलिंग
 
एचआर की बदलती पॉलिसीज में यह भी शामिल है कि वह कैंडिडेट्स की ज्यादा से ज्यादा खूबियों को तलाशे। ऐसे में इस बात की अपेक्षा की जाती है कि व्यक्ति अपनी हर तरह की स्किल्स को इंटरव्यू के पहले ही जाहिर कर दे। अगर किसी कैंडिडेट्स को एक से  ज्यादा भाषाएं आती हैं तो उसे अपने रिज्यूम में न केवल उन भाषाओं के नाम देने चाहिए, बल्कि उन भाषाओं का इस्तेमाल रिज्यूम बनाने में करना चाहिए।

सोशल हायरिंग
 
सोशल नेटवर्किंग न केवल रिश्ते निभाने के लिए बल्कि अनजान लोगों को आपस में जोड़ने में भी अहम भूमिका निभा रही है। ऐसे में कंपनियों ने इन साइट्स पर अपने वेब पेज तैयार कर युवाओं को डिबेट के मौकेदिए हैं। इसमें युवा न केवल अपनी राय शुमारी कर सकते हैं, बल्कि खुद को बेहद बताने के लिए की गई कवायद के बारे में भी बता सकते हैं। आजकल बहुत सारी कंपनी रिक्रूटमेंट के लिए इन तरीकों का इस्तेमाल कर रही हैं। हालांकि यह थोड़ा ज्यादा वक्त लेती है, लेकिन रिक्रूटर के मुताबिक यह सबसे ज्यादा पारदर्शी है। 
----------------------------------------------
 
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
वीडियो इंटरव्यू
 
वीडिया कॉन्फ्रेंसिंग काफी पुरानी तकनीक है, लेकिन इसे इंटरव्यू के तौर पर इस्तेमाल करने का तरीका बेहद नया है। टेलिफोनिक और स्काइप इंटरव्यू काफी पहले से होते आए हैं, लेकिन इन दोनों में इस संभावना को बिलकुल नकारा नहीं जा सकता था कि इंटरव्यू के दौरान फोन के दूसरी ओर मौजूद कैंडिडेट वही हो जिसने नौकरी के लिए अप्लाई किया हो। ऐसे कई केस सामने आ चुके हैं, जिसमें टेलिफोनिक कम्यूनिकेशन के दौरान किसी योग्य व्यक्ति ने इंटरव्यू दिया हो, लेकिन जॉइनिंग के वक्त कोई दूसरा व्यक्ति मौजूद रहा हो। ऐसे में वीडियो इंटरव्यू इन सारी संभावनाओं को नकारता है। एचआर कंपनी वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिए लिए गए इंटरव्यू का पूरा डेटा कैंडिडेट के ऑनलाइन सीवी के साथ लिंकअप करके रखती हैं, जिसे समय और जरूरत के हिसाब से उपयोग किया जा सके। साथ ही फेस-टू-फेस इंटरव्यू की जरूरत को भी यह पूरा करता है। वीडियो इंटरव्यू न केवल कैंडिडेट्स के लिए उपयोगी है, बल्कि कंपनियों के लिए आसान तरीका है। अलग-अलग शहरों में जाकर कैंपस कंडक्ट करने में न केवल साधन इकट्ठे करने होते हैं, बल्कि समय भी ज्यादा लगता है। ऐसे में कैंडिडेट्स के रिज्यूम शॉर्टआउट करके उन्हें वीडियो इंटरव्यू के जरिए आसानी से चुना जा सकता है।
X
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Selfie Resume : Knowing the Youth Creativity
Click to listen..