सक्सेस स्टोरीज़

--Advertisement--

बोर्ड रिजल्ट आने से पहले बच्चों को लगता है डर, पैरेंट्स को करना चाहिए ये काम

एग्जाम के दौरान स्टूडेंट्स हमेशा दबाव में होेते हैं।

Dainik Bhaskar

Apr 05, 2018, 12:17 AM IST
parents pressure release to child

एजुकेशन डेस्क. एग्जाम के दौरान स्टूडेंट्स हमेशा दबाव में होेते हैं। ऐसे में मां-बाप का फर्ज होता है कि वह बच्चों को किसी भी दबाव में न आने दें। लेकिन अक्सर पैरेंट्स को एग्जाम के दौरान और उसके बाद रिजल्ट या कॉम्पिटीशन करने का तनाव देते रहते हैं। हालांकि पैरेंट्स का इरादा नेक होता है, लेकिन इससे बच्चे के अवसाद में जाने की आशंका बढ़ जाती है। कई बार इससे उनकी परफॉर्मेंस पर भी फर्क पड़ता है। लेकिन अगर पैरेंट्स कुछ बातों का ख्याल रखें तो बच्चों की मदद की जा सकती है। Dainikbhaskar.com आपको बता रहा है कि बोर्ड रिजल्ट आने तक पैरेंट्स किस तरह से बच्चों को रिजल्ट के डर से बचा सकते हैं...


बच्चों से बात करें पैरेंट्स
- सबसे आसान टिप्स ये है कि बच्चों को ईजी करें और उनके साथ नरमी से बात करें।
- उन्हें बताएं कि कोई भी एग्जाम जिंदगी से बड़ा नहीं होता। उसे हमेशा आगे बढ़ने लिए प्रोत्साहित करें।
- उन्हें समझाएं कि अगर एक रास्ता बंद होता है तो दूसरा रास्ता खुलता है। इसलिए ये आखिर रास्ता है, ऐसा कभी नहीं सोचना चाहिए।
- कल क्या गलती की थी, उससे लर्निंग लें और आगे कोशिश करें कि वहीं गलती न दाेहराई जाए।


कॉम्पिटीशन का डर निकालें
- कॉम्पिटीशन का डर हर बच्चे को होता है। क्योंकि उसके मुकाबला हजारों बेस्ट बच्चों से होता है।
- ऐसे में मां-बाप अपने बच्चे के साथ खड़े रहें। इसका अहसास भी बच्चे को होना चाहिए कि आप उसके साथ हैं।
- रिजल्ट खराब हो जाने पर भी उसे फ्यूचर के लिए प्रोत्साहित करें न कि उसकी डांट लगाएं।

नंबर का दबाव न बनाएं
- बच्चे के मन में हमेशा अच्छे नंबर लाने का दबाव होता ही है। ये दबाव कोई और नहीं, बल्कि खुद पैरेंट्स ही देते हैं।
- इसीलिए बच्चे पर बेतहाशा प्रेशर न बनाएं।

पॉजिटिव थिंकिंग के बारे में बताएं
- बच्चों को आशावादी सोच के साथ पैदा करें। आशावादी होने से बच्चा मुश्किल घड़ी में भी नए रास्ते खोज में रहता है।

X
parents pressure release to child
Click to listen..