• Hindi News
  • Self-Help
  • Offbeat
  • Reasons To Do Study in China, चाइना में क्यों करें पढ़ाई, एजुकेशन टिप्स
--Advertisement--

सस्ती है पढ़ाई, जॉब्स के भी कई मौके : इन 5 वजहों से चाइना में करें स्टडी

अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के बाद चाइना अब स्टूडेंट्स के लिए पसंदीदा डेस्टिनेशन बनता जा रहा है।

Dainik Bhaskar

Apr 27, 2018, 03:23 PM IST
चीन की Fudan University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में सातवें नंबर पर है। चीन की Fudan University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में सातवें नंबर पर है।

एजुकेशन डेस्क। हायर एजुकेशन के लिए विदेश जाने वाले स्टूडेंट्स की च्वॉइस अब बदलने लगी है। सेंटर फॉर चाइना एंड ग्लोबलाइजेशन (CCG) की लेटेस्ट स्टडी के अनुसार इंडियन स्टूडेंट्स का रुझान चीन की ओर बढ़ने लगा है। अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के बाद चाइना स्टूडेंट्स के लिए पसंदीदा डेस्टिनेशन बनता जा रहा है। पहले तीसरे नंबर पर ब्रिटेन हुआ करता था, लेकिन अब उसका स्थान चीन ने ले लिया है। वहां बड़ी यूनिवर्सिटीज में सारे कोर्स इंग्लिश में उपलब्ध हैं। इसलिए अब भाषा भी ऐसी समस्या नहीं रही, जो पहले कभी हुआ करती थी।


क्या हैं वजह?

1.सस्ती है चीन में एजुकेशन
अमेरिका, ऑस्ट्रलिया और ब्रिटेन की तुलना में चीन में पढ़ाई बहत सस्ती है। चीन की यूनिवर्सिटीज में एवरेज ट्यूशन फीस 2,000 से 3,000 डॉलर यानी करीब 1.5 से 2 लाख रुपए तक है। इसके अलावा 1000 डॉलर यानी करीब 65 हजार रुपए लिविंग एक्सपेंस के तौर पर लिए जाते हैं। यानी वहां यूनिवर्सिटीज में खर्च लगभग उतना ही है, जितना इंडिया की बेस्ट इंस्टीट्यूशन में होता है, बल्कि शायद उससे भी कम। बस, रहने का खर्च ही एक्स्ट्रा होगा।

2.इन्फ्रास्ट्रक्चर भी है अच्छा

सस्ती पढ़ाई होने का मतलब यह नहीं है कि वहां यूनिवर्सिटीज स्टडी या इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ कोई समझौता करती हैं। चीन की कई यूनिवर्सिटीज टॉप 100 ग्लोबल रैंकिंग में शामिल हैं। इसके अलावा वहां शहरों का इंफ्रास्ट्रक्चर भी बेहतर है।

3.जॉब के कई मौके
यह ऐसी कंट्री है जहां हर तरह का काम होता है। कई अमेरिकी और यूरोपीय कंपनियां यहां अपना बहुत सारा काम आउटसोर्स कर रही हैं। इसलिए यहां पढाई के बाद जॉब्स के चांस भी बढ़ जाते हैं। इंडियन मार्केट से भी ज्यादा नौकरियां चाइना के जॉब् मार्केट में हैं।

4.सेफ हैं चाइनीज सिटीज
एक रिपोर्ट के अनुसार ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और ब्रिटेन की तुलना में चाइनीज सिटीज रहने के लिए अपेक्षाकृत ज्यादा सुरक्षित हैं।

5.इंडियन कल्चर की वैल्यू करते हैं चाइनीज
चीनी लोग इंडियन कल्चर का काफी सम्मान करते हैं। इसलिए वहां इंडियन स्टूडेंट्स को उन अप्रिय स्थितियों का सामना नहीं करना पड़ता, जो कई बार अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया या यूरोपीय देशों में करना पड़ता है।

चीन की Tsinghua University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में छठे नंबर पर है। चीन की Tsinghua University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में छठे नंबर पर है।
X
चीन की Fudan University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में सातवें नंबर पर है।चीन की Fudan University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में सातवें नंबर पर है।
चीन की Tsinghua University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में छठे नंबर पर है।चीन की Tsinghua University जो यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में एशिया में छठे नंबर पर है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..