Hindi News »Self-Help »Offbeat» Biography Of Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata First Licensed Indian's Pilot

टाटा की सीख से बदली थी इन्फोसिस फाउंडर की पत्नी की सोच, जानें कैसे

मॉडर्न इंडिया की नींव रखने वालों में एक नाम जेआरडी टाटा यानी जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा का भी है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 29, 2016, 12:05 AM IST

  • एजुकेशन डेस्क। मॉडर्न इंडिया की नींव रखने वालों में एक नाम जेआरडी टाटा यानी जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा का भी है। यूं तो उन्हें बिजनेस टाइकून के नाम से जाना जाता था, लेकिन उनकी एक बड़ी पहचान देश के पहले कॉमर्शियल पायलट के तौर पर भी है। आज उनकी 112वीं बर्थ एनिवर्सिरी है। वे ऐसे शख्स थे जो अपने करीबियों को हमेशा मोटिवेट करते थे। ऐसे ही एक वाकया इन्फोसिस के फाउंडर नारायण मूर्ति की पत्नी सुधा मूर्ति से जुड़ा हुआ है। इस वाकये का जिक्र सुधा ने अपनी बुक 'द लास्टिंग लेगसी' में किया है। उस एक बात ने बदली सुधा की सोच...
    जेआरडी टाटा के साथ काम कर चुकीं सुधा मूर्ति ने उनकी 100वीं बर्थ एनिवर्सरी बुक 'द लास्टिंग लेगसी' लॉन्च की थी। उन्होंने बुक में एक वाकया लिखा है, कि वो टाटा की टेल्को कंपनी में काम करती थी। उस दौरान एक बार उनकी मुलाकात जेआरडी टाटा से हुई। उस समय सुधा के हसबैंड नारायण मूर्ति अपनी कंपनी इन्फोसिस को शुरू करने की तैयारी में जुटे थे। जब तैयारियां पूरी हो गई तब सुधा ने टेल्को से इस्तीफा दे दिया। उस वक्त उनकी मुलाकात फिर से टाटा से हुई। उस वक्त दोनों के बीच ये बातें हुईं :-
    जेआरडी टाटा : कैसी हैं मिस कुलकर्णी?
    सुधा मूर्ति : सर मैंने टेल्को छोड़ दी है।
    जेआरडी टाटा : ओह! अब कहां ज्वाइन कर रही हैं?
    सुधा मूर्ति : सर, मैं पुणे जा रही हूं। मेरे हसबैंड (नारायण मूर्ति) वहां नई कंपनी इन्फोसिस शुरू कर रहे हैं।
    जेआरडी टाटा : डेट्स ग्रेट, आप सक्सेस होने के बाद क्या करेंगी?
    सुधा मूर्ति : सर, अभी तो नहीं ये भी नहीं पता हम कामयाब होंगे या नहीं। (दबे हुए स्वर में बोलीं)
    जेआरडी टाटा : कभी भी कोई काम डर और झिझक के साथ शुरू नहीं करना चाहिए। मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।
    इस वाकये ने सुधा मूर्ति को न सिर्फ मोटिवेट किया, बल्कि उनकी हसबैंड की कंपनी इन्फोसिस देश की पॉपुलर कंपनियों में अव्वल है। इन्फोसिस इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कंसल्टिंग कंपनी है।
    जेआरडी टाटा ने अपने एक दोस्त की लाइफ में कैसे बदलाव किया आगे की स्लाइड पर पढ़िए...
    (IAS के एग्जाम में पूछे जाते हैं कैसे TRICKY सवाल, जानने के लिए आखिरी स्लाइड पर क्लिक करें...)
  • जेआरडी टाटा दूरदर्शी भी थे। उन्होंने अपने एक दोस्त की लाइफ में एक बड़ा बदलाव किया था। दरअसल, टाटा के एक दोस्त को महंगे पेन इस्तेमाल करने की आदत थी, लेकिन वो अक्सर उन्हें गुमा दिया करते थे। एक बार वो पेन गुमने के कारण काफी परेशान थे। टाटा ने जब उनसे परेशानी का कारण पूछा तो उन्होंने कहा, "मेरे महंगे पेन हमेशा गुम हो जाते हैं। अब मैं सस्ते पेन इस्तेमाल किया करुंगा।" इस बार टाटा बोले नहीं इस बात तुम सबसे महंगा पेन खरीदो। दोस्त ने उनकी बात मानी और एक महंगा फाउंटेन पेन खरीद लिया। करीब 6 महीने के बाद टाटा ने दोस्त से मुलाकात की और पेन के बारे में पूछा। दोस्त बोला पेन उसके पास है। ये पहला मौका है जब उनका पेन नहीं गुमा।
    इस पर टाटा ने बता देखो ये पेन इसलिए नहीं गुमा क्योंकि ये बहुत महंगा था। इंसान हमेशा ही महंगी चीजों की वेल्यू को समझता है और केयर करता है। फिर वे बोले :-
    - हम अपनी लाइफ की केयर करते हैं और हमेशा खाने के प्रति सावधान रहते हैं।
    - हम अपने दोस्तों की केयर करते हैं और उन्हें सम्मान देते हैं।
    - हम पैसे को महत्व देते हैं, इसलिए सावधानी से खर्च करते हैं।
    - हम समय को महत्व देते हैं, इसे बर्बाद नहीं होने देते।
    - हम संबंधों को महत्व देते हैं, जिससे ये टूटते नहीं है।
    आगे की स्लाइड्स पर देखिए जेआरडी टाटा की कुछ चुनिंदा फोटोज...
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Offbeat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×