--Advertisement--

20 से 50 लाख तक हैं इन एंकर्स की सेलरी, आप भी करें ऐसे Try

टाइम्स नाउ के टॉप एंकर रहे अर्णब गोस्वामी ने हाल ही में ग्रुप को अलविदा कह दिया है। इस वजह से वह चर्चा में हैं। उनकी सैलरी की भी सोशल मीडिया में खूब चर्चा हो रही है। रिपोर्ट पांडा डॉट कॉम के अनुसार वे अब तक के सबसे हाइएस्ट पेड एंकर रहे हैं। उन्हें 1 करोड़ रुपए प्रति माह सैलरी मिल रही थी। अर्णब गोस्वामी के अलावा भी और कई टॉप एंकर्स की सैलरी लाखों में हैं। इसी वजह से न्यूज एंकरिंग का प्रोफेशन यूथ के बीच काफी अट्रैक्टिव है।

Dainik Bhaskar

Nov 03, 2016, 11:23 AM IST
scope in media field
करियर डेस्क। टाइम्स नाउ के टॉप एंकर रहे अर्णब गोस्वामी ने हाल ही में ग्रुप को अलविदा कह दिया है। इस वजह से वह चर्चा में हैं। चर्चा उनकी सैलरी को लेकर भी चल रही है। कुछ वेबसाइट्स ने अपुष्ट सूत्रों के अनुसार उनकी सैलरी 1 करोड़ तक बताई है। अर्णब अकेले ही इतनी कमाई करने वाले न्यूज एंकर नहीं हैं बल्कि और भी कई ऐसे एंकर्स हैं जिनकी सैलरी लाखों में बताई जाती है। इसी वजह से यह फील्ड आज भी यंगस्टर्स के लिए काफी अट्रैक्टिव बना हुआ है।
आगे की स्लाइड्स में जानिए कैसे बनाया जा सकता है करियर...
scope in media field
आप कैसे बन सकते हैं न्यूज एंकर
 
> 12वीं के बाद मास कम्यूनिकेशन में बैचलर किया जा सकता है।

> ग्रैजुएशन के बाद 2 साल का मास्टर्स प्रोग्राम भी जर्नलिज्म में किया जा सकता है।

> एक वर्षीय पीजी डिप्लोमा रेडियो/ टेलीविजन में किया जा सकता है।

> सर्टिफिकेट व डिप्लोमा प्रोग्राम के जरिए अलग-अलग जेनर में अपने इंटरेस्ट के हिसाब से स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। 
 
आगे की स्लाइड में जानिए क्या क्वालिटीज होनी है जरूरी...
scope in media field
क्या क्वालिटीज जरूरी

> दुनिया में जो हैपनिंग हो रही हैं, उसमें आपका इंटरेस्ट होना चाहिए।

> इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए स्पीकिंग स्किल्स अच्छी होना चाहिए। हिंदी के साथ इंग्लिश में भी अच्छी कमांड होना जरूरी है।

> लंबे समय तक लगातार काम करने का स्टेमिना होना चाहिए। न्यूज एंकर को फिजिकली के साथ ही मेंटली भी कई बार लंबे समय तक ऑन स्क्रीन रहना पड़ता है। 

> कैमरे के सामने आने पर किसी तरह का हेजिटेशन नहीं होना चाहिए। ड्रेसिंग सेंस प्रॉपर होना चाहिए।

> आखिरी मिनिट्स में होने वाले किसी भी तरह के चेंजेस के लिए प्रिपेयर होना चाहिए। इसके लिए पहले से अच्छी प्रिपरेशन जरूरी है।
 
अगली स्लाइड में जानिए फील्ड में कैसे मिलेगी एंट्री...
 
scope in media field
फील्ड में कैसे मिलेगी एंट्री

> आप कॉलेज स्टडी के दौरान ही मीडिया ग्रुप्स में इंटर्नशिप कर सकते हैं।

> बड़े मीडिया ग्रुप्स अपने कोर्स खुद ऑर्गनाइज करते हैं। जिन स्टूडेंट्स में क्वालिटी होती है, उन्हें वे अपने ब्रांड में ही जॉब की शुरुआत करने का मौका देते हैं।

> समय-समय पर टीवी चैनल्स, न्यूज पेपर, रेडियो में वैकेंसी निकलती है जिसमें फ्रेशर्स को सीधे रिक्रूट किया जाता है।

> आईआईएमसी जैसे बड़े संस्थान कैंपस प्लेसमेंट देते हैं। 
 
अगली स्लाइड में जानिए कहां मिलती है जॉब...
  
 
scope in media field
कहां मिलती है जॉब

> मीडिया का कोर्स करने के बाद आपको न्यूज चैनल ग्रुप, न्यूज पेपर ग्रुप, रेडियो, मैग्जीन में जॉब मिलती है।

> एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में भी रिक्रूट किया जाता है।

> एडवरटाइजिंग एजेंसी में जॉब कर सकते हैं।

> पीआर एजेंसी में भी जॉब का ऑप्शन होता है।

> स्टार इंडिया, जी टेलीफिल्म्स, सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन, बेनेट कोलमैन एंड कंपनी, न्यू डेल्ही टेलीविजन इंडस्ट्री जैसे ग्रुप्स में हर साल बड़ी संख्या में रिक्रूटमेंट की जाती हैं। 
 
कौन से हैं इंस्टीट्यूट

> आईआईएमसी, नईदिल्ली

> जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ कम्यूनिकेशन, मुंबई

> सिम्बॉयसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मीडिया एंड कम्यूनिकेशन, पुणे

> इंटरनेशनल मीडिया इंस्टीट्यूट, गुड़गांव

> एशियन कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म, चेन्नई

> इंडियन एकेडमी ऑफ मास कम्यूनिकेशन, बैंगलुरू
 
ये भी पढ़ें :

UPSC टॉपर टीना की 10 TIPS : एग्जाम में मिलेगी सक्सेस

 

इन्होंने मोदी को ऐसे बनाया था हीरो, जानिए कैसी थी इनकी प्लानिंग

 

 

scope in media field
कौन से हैं इंस्टीट्यूट
 
> आईआईएमसी, नईदिल्ली
> जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ कम्यूनिकेशन, मुंबई
> सिम्बॉयसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मीडिया एंड कम्यूनिकेशन, पुणे
> इंटरनेशनल मीडिया इंस्टीट्यूट, गुड़गांव
> एशियन कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म, चेन्नई
> इंडियन एकेडमी ऑफ मास कम्यूनिकेशन, बैंगलुरू
> इनके अलावा हर राज्य की राजधानी और बड़े शहरों में कम्यूनिकेशन के इंस्टीट्यूट्स हैं। 
 
 
X
scope in media field
scope in media field
scope in media field
scope in media field
scope in media field
scope in media field
Bhaskar Whatsapp
Click to listen..