Hindi News »Self-Help »Offbeat» UPSC CRACK: Children Of Security Guard, Auto Driver And Grocer

UPSC 2015: ये भी बने IAS, कोई सिक्युरिटी गार्ड तो कोई ड्राइवर का बेटा

सिविल सर्विस एग्जाम 2015 को क्रेक करने वाले ऐसे भी कुछ कैंडिडेट्स हैं जिनमें किसी के पैरेंट्स सिक्युरिटी गार्ड हैं, तो किसी के ऑटो ड्राइवर।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 14, 2016, 12:05 AM IST

  • एजुकेशन डेस्क।यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) के सिविल सर्विस एग्जाम 2015 के फाइनल रिजल्ट के बाद टीना डाबी का नाम सभी की जुबान पर था। दिल्ली की रहने वाली 22 साल की टीना ने पहले ही अटैम्प्ट में इस मुश्किल एग्जाम को टॉप कर लिया। दूसरी तरफ, ऐसे भी कुछ कैंडिडेट्स हैं जिनमें किसी के पैरेंट्स सिक्युरिटी गार्ड हैं, तो किसी के ऑटो ड्राइवर। इसके बाद भी ये UPSC एग्जाम क्रेक करने में कामयाब रहे। ड्राइवर के बेटे को मिली 242वीं रैंक...
    महाराष्ट्र की मुस्लिम फैमिली से बिलॉन्ग करने वाले अंसार अहमद शेख ने भी UPSC एग्जाम को क्रेक किया है। अंसार के पिता ऑटो ड्राइवर हैं और भाई मैकेनिक है। ऐसे में अंसार ने अपने पिता और भाई की मेहनत को सफल कर दिया। 1 जून, 2016 को अंसार 22 साल के हो जाएंगे। रिजल्ट आने के बाद उन्होंने बताया कि ये उनके लिए किसी सपने के जैसा है।
    जब मुस्लिम होने से नहीं मिला घर :
    अंसार जलना जिले से स्कूलिंग पूरी करने के बाद जब ग्रैजुएशन के लिए पुणे पहुंचे तो उन्हें वहां किराए से घर नहीं मिल रहा था। इसकी वजह उनका मुस्लिम होना था। ऐसे में उन्हें अपने दोस्त शुभम के नाम का सहारा लेकर किराए का घर मिला। उन्होंने पुणे के फॉर्ग्यूसन कॉलेज से पॉलिटिकल साइंस में बीए किया। ग्रैजुएशन में उनके 73 प्रतिशत मार्क्स आए थे।
    आगे की स्लाइड्स में जानिए अंसार की फैमिली स्ट्रगल की सच्चाई और कैसे सिक्युरिटी गार्ड का बेटा बन गया IAS...
  • पढ़ाई में आती थी मुश्किलें :
    अंसार ने भले ही UPSC एग्जाम क्रेक कर लिया हो, लेकिन उनके लिए यहां तक पहुंचने की राह आसान नहीं थी। उनके पिता की तीन पत्नियां हैं। अंसार बताते हैं कि मां और पिता में अक्सर लड़ाई होती रहती थी, जिसके चलते उन्हें पढ़ाई में मुश्किल आती थी। उनकी दो बहनों की शादी तो 14 और 15 साल की उम्र में ही कर दी थी। इन सभी मुश्किलों के बाद भी वो 13 घंटे पढ़ाई करते थे। अंसार का UPSC एग्जाम का ये पहला अटैम्प्ट था।
    आगे की स्लाइड्स पर जानिए कैसे सिक्युरिटी गार्ड का बेटा बन गया IAS...

  • लखनऊ यूनिवर्सिटी की कंस्ट्रक्शन यूनिट में सिक्युरिटी गार्ड की नौकरी करने वाले सूर्यकांत द्विवेदी के बेटे कुलदीप ने UPSC के फाइनल रिजल्ट में 242वीं रैंक हासिल की। सूर्यकांत ने गार्ड की नौकरी करके अपने तीन बेटों को उनके पैरों पर खड़ा किया है। कुलदीप के बड़े भाई संदीप लखनऊ में डेयरी का काम करते हैं। वहीं, एक छोटी बहन भी है, जो ग्रैजुएशन कर रही है।
    आगे पढ़ें IAS बनने के लिए कुलदीप ने छोड़ी थी असिस्टेंट कमांडेंट की जॉब...

  • कुलदीप द्विवेदी का साल 2013 में बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स (BSF) में असिस्टेंट कमांडेंट की पोस्ट के लिए भी सिलेक्शन हुआ था, लेकिन उन्होंने वो जॉब ज्वाइन नहीं की। वे कई दूसरे एग्जाम भी क्रेक कर चुके थे, लेकिन उन्हें तो IAS बनने का जुनून सवार था। कुलदीप ने तीसरे अटैम्प्ट में UPSC एग्जाम को क्रेक किया है।
    आगे पढ़ें किराना वाले की लड़की भी बनी IAS...

  • UPSC एग्जाम 2015 को क्रेक करने वाले टॉपर्स की लिस्ट में एक नाम श्वेता अग्रवाल का भी है। श्वेता को 19वीं रैंक हासिल हुई है। उनका ये तीसरा अटैम्प्ट था। इससे पहले, वे IRS और IPS के लिए सिलेक्ट हो चुकी थीं। वे इन दिनों हैदराबाद से IPS की ट्रेनिंग कर रही थीं, लेकिन बंगाल कैडर में IAS बन कर जाना चाहती थीं। श्वेता के पिता की भुवनेश्वर में किराने की दुकान है। उनके माता-पिता ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है, इसके बाद भी बेटी की पढ़ाई में कोई कमी नहीं आने दी।
    आगे पढ़ें, 12वीं पास पिता ने कैसे बटी को बनाया IAS...

  • श्वेता बताती हैं कि उनके पिता सिर्फ 12वीं तक पढ़ें हैं। जब मां की शादी हुई तब वो सिर्फ 16 साल की थीं। इसके बाद भी दोनों ने उन्हें अच्छी एजुकेशन देने का मन बनाया। उनकी नजर में वे दोनों दुनिया के बेस्ट माता-पिता हैं। उन्होंने जितना हो सका श्वेता को सबसे अच्छे स्कूल में भेजा। श्वेता अपने माता-पिता की अकेली बेटी हैं। जब उन्होंने UPSC एग्जाम की तैयारी शुरू की थी तब जॉब भी करती थीं, लेकिन तैयारी के लिए जॉब को छोड़ दिया।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Offbeat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×