पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Friday Release : 'The Shaukeens' And 'Rang Rasiya'

बॉक्स ऑफिस पर भिड़ेंगे ‘द शौकीन्स’ और ‘रंग रसिया’

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इस शुक्रवार को ‘द शौकीन्स’ और ‘रंग रसिया’ का प्रदर्शन हो रहा है। ‘द शौकीन्स’ 80 के दशक की बासु चटर्जी की ‘शौकीन’ का नया संस्करण है। पूरे विश्व के प्रिंट व प्रचार के खर्च सहित निर्माता को लागत 45 करोड़ रुपए बैठेगी। विदेश वितरण अधकिार और संगीत अधकिारों को बेच कर 5 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। भारत में निर्माता खुद फिल्म वितरित कर रहा है अर्थात जोखिम उसके सर है।
भारत में 50 करोड़ का ग्रॉस व्यवसाय होने पर निर्माता की पूंजी सुरक्षित हो जाएगी क्योंकि अनुमान है प्रदर्शन बाद इस फिल्म के सैटेलाइट टीवी अधकिारों के बदले उसे 18 से 20 करोड़ रुपए मिल जाएंगे। केतन मेहता की ‘रंग रसिया’ 19वीं शताब्दी के विवादित चित्रकार राजा रवि वर्मा के जीवन पर आधारित है।
फिल्म चार वर्ष पूर्व बन कर तैयार थी परंतु कुछ कारणों से इसका प्रदर्शन नहीं हो सका। यह देरी फिल्म के लिए बेहतर साबित हुई क्योंकि कुछ वर्षों में सभी जगहों पर मल्टीप्लेक्स खुल जाने से ऐसी फिल्मों का भविष्य बेहतर हुआ है। नायक रणदीप हुड्डा भी इसी दौर में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुए।
पिछले सप्ताह प्रदर्शित दोनों ही फिल्मों ने निराश किया। अच्छे प्रोमो के दम पर नए कलाकारों की संगीत विहीन फिल्म ‘रोर’ ने पहले दिन 2 करोड़ रुपए का ठीकठाक व्यवसाय किया। फिल्म अच्छी बनी होती तो इस ओपनिंग के बाद और उठ जाती लेकिन निर्देशक ने एक फीचर फिल्म को डॉक्यूमेंट्री की तरह बनाया और पूरे सप्ताह का व्यवसाय केवल 10 करोड़ रुपए रहा।
निर्माता को अपनी आधी पूंजी का नुकसान होगा। ‘सुपर नानी’ का प्रयोग इंद्र कुमार और अशोक ठाकरिया को बहुत भारी पड़ा। इस अच्छी पारिवारकि फिल्म को देखते समय दर्शक को एक टीवी सीरियल देखने का एहसास होता है। दूसरा निर्देशक का पूरा प्रस्तुतकिरण 80 के दशक की फिल्मों की तरह है जो आज के युवावर्ग के साथ तालमेल नहीं बैठा सका।
25 करोड़ रुपए की यह फिल्म सुपर फ्लॉप रही। शाहरुख की ‘हैप्पी न्यू ईयर’ ने दूसरे वीकेंड बहुत अच्छा व्यवसाय कर उद्योग विशेषज्ञों को आश्चर्यचकित किया। दूसरे सप्ताह का ग्रॉस व्यवसाय 30 करोड़ रहा और दो सप्ताह में हिंदी संस्करण ने 170 करोड़ कमाए। लगता है अकेले हिंदी संस्करण का लाइफ टाइम व्यवसाय 180 करोड़ का होगा और तमिल, तेलुगु सहित भारत में व्यवसाय 200 करोड़ के आसपास हो जाएगा।
शाहरुख के लगातार प्रचार प्रयासों, ‘रोर’ व ‘सुपर नानी’ के कमजोर व्यवसाय और दूसरे सप्ताह मुहर्रम व गुरुनानक जयंती की छुट्टी का लाभ ‘हैप्पी...’ को दूसरे सप्ताह में सम्मानजनक व्यवसाय से अधकि पर ले गया।