• Hindi News
  • Bani Ishq Da Kalma Fame Neha Bagga Interview

मैं बिलकुल रज्जी जैसी हूं: नेहा बग्गा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

'बानी-इश्क द कलमा' एनआरआई शादी और उसके धोखे के प्रति लोगों को जागरूक कर रहा है। इस सीरियल में रज्जी बनीं नेहा बग्गा से हमने की बात।


'बानी...' को एक साल पूरा हो गया। अपने किरदार में कितना उतार-चढ़ाव पाती हैं?
मेरे कैरेक्टर में सबसे ज्यादा वेरिएशन है। शुरुआत में शरारती और चुलबुलापन था। सोहम से शादी का सीन आया तो इमोशन, बुआ का टास्क आया तो थोड़ा सीधी-सादी और बोल्ड हो गई। आगे सबक सिखाने और सुधारने का ट्रैक चलेगा। इस तरह लगातार ट्विस्ट एंड टर्न बने हुए हैं।


रज्जी के किरदार को रियल लाइफ में कितना करीब पाती हैं?
मैं अपने आपको रज्जी के आसपास पाती हूं। मैं भी चुलबुली और मस्तीखोर हूं। नेहा और रज्जी लगभग एक जैसी ही हैं।


पंजाब में एनआरआई से शादी करने का क्रेज है। आप इसे किस तरह देखती हैं?
एक साल पहले बहुत ज्यादा क्रेज था, लेकिन अब उतना नहीं है। हमारे सीरियल ने यह मुद्दा उठाया है और इससे फर्क भी पड़ा है।


आप लव मैरिज में विश्वास करती हैं या अरेंज मैरिज में?
लव मैरिज भी होनी चाहिए, लेकिन इसके लिए घर वालों का एग्री होना जरूरी होता है। मैरिज कोई भी हो, उसे निभाना दोनों लोगों पर डिपेंड करता है।


इस शो को सफलतापूर्वक एक साल पूरा होने के उपलक्ष्य में पूरी टीम पूजा-पाठ करने गुरुद्वारा गई थी।
क्च जी हां, पूरी यूनिट शेरे-पंजाब (अंधेरी, मुंबई) गुरुद्वारा गई थी। मैं भगवान में विश्वास करती हूं। मेरा मानना है कि जो करो, उसे दिल से करो। भगवान की दी हुई चीजों के लिए थैंक्स बोल दो, यही सबसे बड़ी पूजा है।


दो-दो धारावाहिकों की बुआ यानी उपासना सिंह के साथ काम करने का अनुभव बताएंगी?
वे बहुत अच्छी हैं। उनकी उपस्थिति में सेट पर एक अलग एनर्जी होती है। उनका समय पर आना, फोन पर कम और काम पर ज्यादा ध्यान देना, छोटे से सीन के लिए रिहर्सल करना... मैं उनकी हर बात को फॉलो करती हूं।


सीरियल में बानी यानी शेफाली शर्मा से ऑफ-स्क्रीन कैसा रिश्ता है?
वे मेरी बहुत अच्छी दोस्त हैं। हम दोनों पंजाब से हैं। हमारे बीच खूब बनती है। हम दोनों हमेशा संपर्क में रहती हैं।


ऑफ स्क्रीन सेट का कैसा मौहाल होता है?

बहुत अलग माहौल होता है। हमारे सेट पर कोई गाली नहीं दे सकता। अगर दी तो 200 रुपए जुर्माना भरना पड़ता है। फोन तक लोग साइलेंट पर रखते हैं। अगर किसी का फोन बजा तो हजार रुपया चार्ज भरना पड़ता है। इससे 90 लोगों की पूरी यूनिट को आइस्क्रीम की पार्टी दी जाती है।

आपके शहर चंडीगढ़ से गुल पनाग और किरण खेर चुनावी मैदान में उतरे हैं। आप वहां रहें तो किसे वोट देना चाहेंगी?
यूथ के हिसाब से देखा जाए तो गुल पनाग को और तजुर्बे के हिसाब से किरण खेर को वोट देना चाहूंगी।