40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से आया तूफान, सड़कों पर दिखा ऐसा मंजर

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सूरत.  शनिवार की शाम अचानक मौसम ने रंग बदला और 40 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलने लगीं। ये हवाएं अपने साथ बारिश भी ले आईं। तेज हवाओं के साथ लगभग 8-10 मिनट बारिश हुई। तेज हवा के साथ बारिश 4:56 बजे शुरू हुई और 5:5 बजे खत्म हो गई, लेकिन इतनी देर में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। कई इलाकों में घरों की छत से छप्पर उड़ गए तो कई जगह पेड़ धराशाई हो गए।
 
पहले धूल भरी हवा फिर तेज बारिश से लोगों की समझ में नहीं आया कि वह क्या करें। सड़कों पर गाड़ियां ठप पड़ गईं। बिजिबिलिटी इतनी कम हो गई थी कि गाड़ियां दो कदम भी अागे नहीं बढ़ पाईं। दमकल विभाग को शहर के 30 इलाकों में पेड़ गिरने की सूचना प्राप्त हुई। चौक बाजार स्थित प्रताप प्रेस गली, होड़ी बंगलों, वेड रोड जैसे निचले इलाकों में जलजमाव की समस्या दर्ज की गई।
 
 
नहीं जांच सके हवा की रफ्तार

मौसम विभाग के वैज्ञानिक दिलीप हिंडिया ने बताया विभाग में ऐसा उपकरण नहीं है जो अचानक मौसम में आए इस बदलाव को पकड़ सके। इतनी विकसित तकनीक भी नहीं है जो अचानक से आई इतनी तेज हवाओं की रफ्तार की सही जांच कर सके। मौसम विभाग को अत्याधुनिक तकनीक की जरूरत है।
 
बिजली आपूर्ति हुई बाधित

फायर ब्रिगेड के अधिकारियों ने बताया कि तेज हवा की वजह से शहर के कुछ हिस्सों में बिजली आपूर्ति कुछ वक्त के लिए बाधित रही। लेकिन किसी भी जगह से शार्ट सर्किट या बिजली के खंभे गिरने की शिकायत नहीं आई है। मौसम सामान्य होने पर प्रभावित जगहों पर विभाग ने बिजली आपूर्ति बहाल कर दी।
 
जहां के तहां रुक गए वाहन

अचानक आए इस तूफान से सड़कों पर वाहन जहां के तहां रुक गए। धूल भरी हवा के कारण वाहन चालकों को कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। कई जगहों पर खड़े वाहनों पर पेड़ गिर पड़े। इससे वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। तूफान के साथ बारिश से काफी नुकसान तो हुआ लेकिन किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली। 
 
समस्या : पीआईपी, पिपलोद, डूमस में रास्तों पर गिरे पेड़

दमकल विभाग के मुताबिक शहर में करीब 30 जगहों पर पेड़ गिरने की सूचना मिली। वीआईपी रोड और  बीआरटीएस रूट पर पेड़ गिरने से यातायात घंटों प्रभावित रहा। अशोक पान हाउस के पास, उधना-मगदल्ला रोड, पार्ले प्वॉइंट, पिपलोद, डूमस एसवीआर कॉलेज में पेड़ गिरने से रास्ते कुछ समय के लिए बंद रहे। दमकल विभाग पेड़ों को रास्ते से हटा कर यातायात को सामान्य किया।
 
कारण : अरब सागर के मध्य बने दबाव से आया तूफान

सूरत मौसम विभाग के दिलीप हिंडिया ने बताया कि अरब सागर के मध्य भाग में अचानक दबाव बढ़ जाने से तटवर्ती इलाकों में हवा तेजी से प्रवेश कर गई जिससे आंधी जैसा माहौल हो गया। जब मौसम गर्मी से ठंडी की तरफ बढ़ता है तो कभी-कभी ऐसी स्थिति बनती है। इसे समर मानसून भी कहा जाता है। उन्होंने बताया कि आने वाले दो दिनों तक तामपान 38 डिग्री के आसपास रहने से गर्मी बनी रहेगी।
खबरें और भी हैं...