• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • 15 लाखकी लागत से भक्तों के सहयोग से बनाई गई है मूर्ति

15 लाखकी लागत से भक्तों के सहयोग से बनाई गई है मूर्ति

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
15 लाखकी लागत से भक्तों के सहयोग से बनाई गई है मूर्ति

20 घंटेकी यात्रा कर तय करते हैं 40 किमी. का सफर

28 फरवरी,2017 को बनारस में होगी संपन्न

2 टनवजनी है पंचमुखी शंकर और नंदी की मूर्ति

दो साल पहले चली शोभायात्रा पहुंची अम्बाला

अम्बाला | पंचमुखीशकंर जी की मूर्ति का वजन साढ़े 8 टन) नंदी का वजन 2 टन है। भक्तों के सहयोग से इस मूर्ति को 15 लाख रुपए से बनाया गया है। यह मूर्ति पंचधातु सोना, चांदी, सिल्वर, पीतल तांबा से बनाई गई है। 1 1 जनवरी 2015 को 14 टायरों के साढ़े 17 फुट लंबे साढ़े 6 फुट चौड़े ट्राले पर यह शोभायात्रा पंचमुखी परमात्मा चेरिटेबल ट्रस्ट सोरेगांव द्वारा सोलापुर से चलकर देशभर के गांवों शहरों से होते हुए 28 फरवरी 2017 को बनारस में संमपन्न होगी। अम्बाला पहुंचने पर इस मूर्ति के दर्शन करने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। प्रकाश के नेतृत्व में वापुरा वागमारे 11 सदस्य की टीम दिन में 20 घंटे की यात्रा कर 40 किलोमीटर का सफर कर पाते हैं। यह यात्रा कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, राज्यस्थान, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा के रास्ते से सहारनपुर होते हुए काशी जी पहुंचेगी। (फोटोइनपुट : अशोक अग्रवाल)

खबरें और भी हैं...