पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अम्बाला का नाम लिम्का ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में लाने का दावा, पटवी में काम शुरू नहीं

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला. ट्विन सिटी को स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल करने के लिए नगर निगम की ओर से ओपन योअर आई के नाम से कैंपेन की शुरुआत की गई। इस कैंपेन से निगम अम्बाला का नाम 308 से डबल डिजिट में लाना चाहता है। शहर से रोजाना कूड़ा उठाया भी जा रहा है, लेकिन रोजाना निकलने वाले 250 टन कूड़े का निस्तारण नहीं हो रहा है। शहर से निकलने वाले कूड़े को उठाने की व्यवस्था है, लेकिन निस्तारण करने को लेकर पटवी में बने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट को शुरू करने की सिर्फ अभी तक घोषणा ही है।
- पहले 11.05 करोड़ से बना था पटवी प्लांट, अब 600 करोड़ से बनेगा| पटवी प्लांट को पूर्व सरकार ने 11.05 करोड़ रुपए की लागत से बनाया था। लेकिन कुछ तकनीकी कारणों के चलते प्लांट ज्यादा दिन तक नहीं चल सका। इसके बाद मौजूदा सरकार ने इसकी तकनीकी खामियों को दूर किया।
- इसके बाद निगम को प्लांट चलाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से मंजूरी मिल गई थी। जिसके लिए निगम काे ट्रायल बेस पर प्लांट को चलाने की अनुमति दी। लेकिन उस समय भी निगम इसे नहीं चला पाया था। अब फिर से इस प्लांट को शुरू करने की कवायद की जा रही है।
 
 
- पटवी में बने प्लांट के शुरू नहीं होने के कारण स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से किसी दूसरी जगह पर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट लगाने की कवायद की थी। क्योंकि पटवी में प्लांट स्थापित होने के दौरान भी विज ने पटवी में प्लांट खोलने का विरोध किया था। क्योंकि विज किसी दूसरी जगह पर इस प्लांट को लगाना चाहते थे। लेकिन पूर्व में प्लांट को जिस कंपनी को चलाने का ठेका दिया गया था। उस कंपनी ने निगम व अन्य विभागों पर बकाया पैसे देने को लेकर केस किया हुआ था।
 
निगम भेज चुका पटवी प्लांट को लेकर फाइल
 
- प्लांट को शुरू करने को लेकर निगम द्वारा फाइल चंडीगढ़ हेडक्वार्टर भेज दी है। इसके बाद आगामी मीटिंग में ही प्लांट को लेकर कार्यवाही शुरू हो सकेगी। इसमें सबसे बड़ी बात यह भी है कि 600 करोड़ रुपए से बनने वाले इस प्लांट को सरकार की ओर से कितने समय में अमलीजामा पहनाया जाएगा। क्योंकि सरकार लगभग 2 साल पहले किए गए शिलान्यासों पर भी काम अभी तक पूरा नहीं हो पाया है।
 
 
पटवी प्लांट को लेकर फाइल को चंडीगढ़ हेडक्वार्टर भेज दी गई है। पटवी में सिर्फ गीला कचरा जाएगा। बाकी बचे कचरे काे खत्म कर दिया जाएगा। शहर को साफ रखना निगम की जिम्मेदारी है।
सत्येंद्र दूहन, कमिश्नर, नगर निगम
खबरें और भी हैं...