बार रूम के बाहर गोली चली, दहशत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अम्बाला सिटी. गुरुवार को सुबह करीब 11 बजे बार रूम के बाहर गोली चल गई। इसकी आवाज से कोर्ट परिसर में दहशत फैल गई। बाद में खुलासा हुआ कि गोली हत्या के मामले में पेशी पर आए युवक के परिजनों की लाइसेंसी रिवाल्वर से चली थी।
पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर रिवाल्वर कब्जे में ले ली है। उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरोपियों का कहना है कि रिवाल्वर को अनलोड करते वक्त अचानक फायर हो गया।
डीसीपी अशोक कुमार ने मौके का मुआयना किया। गनीमत रही कि गोली से कोई हताहत नहीं हुआ। यह गोली सोनीपत के बिलबिलान निवासी ईश्वर सिंह की 12 बोर की लाइसेंसी रिवाल्वर से चली थी। ईश्वर सिंह का कहना है कि वह भैंसवाल निवासी अपने भतीजे अजय के साथ बार रूम के बाहर बैठा था। कोर्ट परिसर होने के कारण भतीजा रिवाल्वर अनलोड करने लगा। तभी अचानक गोली चल गई। गोली जमीन में लगी।
हत्या के मामले में सुनवाई थी: दोनों चाचा-भतीजा हत्या के एक मामले में गवाह के साथ आए थे। अजय ने बताया कि 2010 में उसके भाई अमित की हत्या हो गई थी। उसका छोटा भाई अरुण चश्मदीद गवाह है। सुरक्षा कारणों से वे अरुण के साथ पेशी पर आए थे।
मुलाना यूनिवर्सिटी में हत्या हुई थी
अमित मुलाना यूनिवर्सिटी में बीटेक का छात्र था। 25 अप्रैल 2010 को यूनिवर्सिटी की पुरानी मार्केट स्थित मंदिर के पास कई युवकों ने अमित से मारपीट की थी। अमित ने मुलाना पुलिस में शिकायत दी थी। पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी। 28 अप्रैल को अमित पर फिर से हमला हुआ।
घावों की ताब न सहते हुए अमित ने 29 अप्रैल को दम तोड़ दिया था। तत्कालीन एसपी भारती अरोड़ा ने लापरवाही बरतने वाले पुलिस कर्मी जोराजीत सिंह व अंग्रेज सिंह को निलंबित भी किया था। हत्या के इस मामले में दीपक धनखड़, आदेश दहिया, वीरेंद्र, गोल्डी, संदीप कटारिया व अशोक के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज है। सभी आरोपी जेल में बंद हैं।