• Hindi News
  • Haryana
  • Gurgaon
  • फ्लैट बुक कराने के लिए लोगों ने जमा किया था एडवांस, एडवांस लेने के बाद फ्लैट बनने वाली
--Advertisement--

रियल एस्टेट कंपनी पर 1000 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप, पांच एफआईआर दर्ज

रियल स्टेट कंपनी के आधा दर्जन डायरेक्टर्स के खिलाफ करीब एक हजार करोड़ की ठगी का आरोप लगा है।

Dainik Bhaskar

May 17, 2015, 12:16 AM IST
फ्लैट बुक कराने के लिए लोगों ने जमा किया था एडवांस, एडवांस लेने के बाद फ्लैट बनने वाली
गुड़गांव। गुड़गांव में बिल्डरों के खिलाफ लगातार दर्ज हो रहे एफआईआर में एक और नाम जुड़ गया है। ईरा लैंडमार्क नामक रियल स्टेट कंपनी के आधा दर्जन डायरेक्टर्स के खिलाफ करीब एक हजार करोड़ की ठगी का आरोप लगा है। राजेंद्र पार्क थाने में इस कंपनी के खिलाफ अब तक आधा दर्जन से अधिक एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं।
शुक्रवार को भी सीपी के आदेश के बाद 5 एफआईआर दर्ज की गई हैं। शुरुआती जांच में पता चला है कि करीब 400 लोग इस घोटाले से प्रभावित हैं। पीडितों से फ्लैट बुकिंग के नाम पर लाखों रुपए एडवांस लिया गया है। उसके बाद न तो फ्लैट दिया और न ही एडवांस के रूप में ली रकम ही वापस दी गई। परेशान लोगों ने थक हार कर पुलिस को इस मामले की शिकायत दी। पुलिस ने कंपनी के खिलाफ धोखाधड़ी व जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मामला दर्ज कर तीन सदस्यीय पुलिस टीम को जांच की जिम्मेवारी सौंपी है।
हर निवेशक से लिए 20 लाख रुपए
राजेंद्र पार्क थाना में दी गई अलग-अलग शिकायतों में पीड़ित लोगों ने इरा/एडल लैंडमार्क कंस्ट्रक्शन कंपनी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। लोगों की शिकायत के अनुसार वर्ष 2011 में गुड़गांव के दौलताबाद के पास सेक्टर-103 में कंपनी द्वारा फ्लैट बनाने की योजना निकाली गई। उसके बाद कंपनी ने फ्लैट की बुकिंग भी शुरू कर दी। शेष पेज 13 पर
इसके लिए करीब 400 से अधिक लोगों से एडवांस के नाम लाखों रुपए ले लिए गए। इसी बीच निवेशकों को पता चला सेक्टर-103 की जिस जमीन पर फ्लैट बनाए जाने थे उस जमीन को कंपनी ने एक बड़ी रियल स्टेट कंपनी को बेच दिया है। जब तक लोग कुछ समझ पाते, तब तक कंपनी लोगों का पैसा लेकर गायब हो चुकी थी। यह भी पता चला है कि एडवांस के नाम पर हर निवेशक से करीब 20 लाख रुपए से अधिक लिया गया है।
फेसबुक पर चल रही मुहिम
कंपनी के खिलाफ कई पीड़ितों ने एक कम्युनिटी बनाकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। गुड़गांव में किए गए गोलमाल की कहानी भी फेसबुक पर चली है। पीडितों ने इस फेसबुक पर इरा/एलडीएल लैंडमार्क लिन. फ्राड विक्टिम्स नाम से फेसबुक पर पेज बनाया है।
सभी डायरेक्टरों को बनाया आरोपी
जांच में पता चला की कंपनी ने बीते साल अपना नाम बदलकर एडल लैंडमार्क रख लिया। इसके पहले कंपनी का नाम इरा लैंडमार्क था। पुलिस की एफआईआर में अरविंद कुमार, सुमित भराना, राकेश गुप्ता, अरविंद बिडला, मनीष भराना, रश्मि भराना, एनवी सिंह, पीपी मैथरना, जेसी खुशबु, एसके विनायक, अमरजीत गुप्ता सहित अन्य सभी डायरेक्टरों को आरोपी बनाया गया है।
हजार करोड़ से अधिक की ठगी
पहले तो लोगों ने अपने स्तर से अपना एडवांस पैसा निकालने की काफी कोशिश की लेकिन जब कंपनी के किसी अधिकृत व्यक्ति से उनका संपर्क नहीं हो पाया तो अंत में विवश होकर वे अपनी शिकायत लेकर पुलिस कमिश्नर के पास पहुंचे। कंपनी पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए शिकायत दी। लोगों की शिकायत सीपी ने राजेंद्र पार्क पुलिस थाने में मामला दर्ज करने का निर्देश दिया। जांच अधिकारी सब-इंस्पेक्टर आत्माराम ने बताया कि पुलिस ने कंपनी के खिलाफ सुमन, विजय कुमार यादव, प्रिय दर्शनी सैनी, चंद्रेश बोलिया, सुरेंद्र सिंह सहित अन्य लोगों की शिकायत पर धोखाधड़ी के आधा दर्जन मामले दर्ज किए गए हैं। आत्माराम ने बताया कि कंपनी पर करीब हजार करोड़ की ठगी का मामला है।
X
फ्लैट बुक कराने के लिए लोगों ने जमा किया था एडवांस, एडवांस लेने के बाद फ्लैट बनने वाली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..