पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अर्धसैनिक बल: 5 सेंटर पर 3500 युवा, भर्तियां 49000

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गुड़गांव. अर्धसैनिक बलों की भर्ती के लिए अकेले गुड़गांव से ही केवल साढ़े तीन हजार से अधिक युवा रोज फिजिकल टेस्ट देने के लिए पहुंचेंगे। सोमवार से शुरू हुई भर्ती प्रक्रिया में अर्धसैनिक बलों में जवानों की बड़ी संख्या में भर्ती शुरू हो गई है।
गुड़गांव के भोंडसी, कादरपुर और जिले से सटे दिल्ली के छावला स्थित सीआरपीएफ व बीएसएफ के ट्रेनिंग सेंटरों पर रोजाना युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा है। सभी सेंटरों पर बनाए गए हर एक भर्ती बोर्ड के पास 700 युवा फिजिकल टेस्ट के लिए पहुंचे।
फिजिकल टेस्ट प्रक्रिया 21 मार्च तक चलेगी। इसमें पास हुए युवाओं को 12 मई को पूरे देश में एक साथ ही रिटर्न टेस्ट देना होगा। अर्धसैनिक बलों में अपनी सेवाएं देने के लिए बड़ी संख्या में महिलाएं भी फिजिकल टेस्ट की कठिन प्रक्रिया से गुजर रही हैं। इसमें गौर करने वाले बात यह भी है कि सीआरपीएफ और सीआईएसएफ में जाने को युवाओं ने प्राथमिकता दी है।
बीएसएफ व सीआरपीएफ अधिकारियों के मुताबिक कर्मचारी चयन आयोग ने सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, सीआईएसएफ आदि अर्धसैनिक बलों में कुल 49 हजार 80 जवानों की भर्ती की है। उसमें देश भर से लाखों युवक-युवतियों ने फॉर्म भरे थे। इन युवाओं से फिजिकल स्टेंडर्ड टेस्ट और फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट लिए जा रहे हैं। युवकों को पांच किलोमीटर दौड़ लगाने के लिए 24 मिनट का समय और महिलाओं को 1600 मीटर दौड़ लगाने के लिए 8.30 मिनट का समय दिया गया है।
जानकारी के मुताबिक कादरपुर के सीआरपीएफ कैंप में दो बोर्ड और छावला के बीएसएफ सेंटर में दो बोर्ड बनाए गए हैं, जबकि भोंडसी स्थित बीएसएफ सेंटर पर मात्र एक ही बोर्ड बनाया गया है। भोंडसी स्थित बीएसएफ सेंटर के डिप्टी कमांडेंट किशन सिंह के मुताबिक रोजाना 700 युवाओं को फिजिकल के लिए बुलाया गया है। छुट्टी के दिन को छोड़कर सभी दिन फिजिकल होगा।
सीआरपीएफ सेंटर के एक अधिकारी के मुताबिक उनके यहां भी दोनों बोर्ड के सामने मंगलवार को भी 1400 युवाओं ने फिजिकल दिया, जिसमें 20 प्रतिशत महिलाएं भी हैं।
पहली पसंद सीआरपीएफ
सूत्रों के मुताबिक पांच अर्धसैनिक बलों के लिए संयुक्त रूप से हो रही भर्ती के लिए फॉर्म भरने वाले सबसे ज्यादा युवा ऐसे हैं, जिन्होंने सीआरपीएफ को अपनी पहली पसंद बताया है। बताया जाता है कि सीआरपीएफ में जवानों को भी परिवार के साथ रहने की सुविधा दी जाती है, इसलिए युवाओं को यह बल पसंद आ रहा है। इसके अलावा दूसरे नंबर पर युवाओं ने सीआईएसएफ को अपनी पसंद चुना है। अर्धसैनिक बलों के बारे में जानकारी रखने वालों का कहना है कि इसका कारण यह है कि युवा शहर में रहना चाहते हैं। बीएसएफ युवाओं की पसंद में तीसरे नंबर पर है।