पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Bibipur Village Of Haryana To Create History

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इतिहास रचने की ओर हरियाणा का बीबीपुर गांव

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जुलाना. समय करीब साढ़े बजे उमस भर गर्मी चरम पर थी। इसके बाद भी बबीपुर की गलियों में युवाओं की टोलियां इधर-उधर भाग-दौड़ में लगी थीं। कुछ महिलाएं नाटकों की रिहर्सल करने में जुटी हुईं थीं, कुछ खाने की तैयारियों में लगी हुईं थीं। बुजुर्ग यह देखने में लगे थे कि हुक्के ठीक हैं या नहीं। यह नजारा था शुक्रवार को बीबीपुर गांव की दोपहरी का।





ऐसा उत्साह हो भी क्यों न, आखिर कन्या भ्रूणहत्या के खिलाफ गांव की महिलाओं ने जो अलख जगाई है उसमें एक नया अध्याय जुड़ने वाला है। शनिवार को बीबीपुर में इसी मुद्दे को लेकर खाप महापंचायत होगी। सभी तैयारियां पूरी कर ली गईं हैं। अब बीबीपुरवाले यही बोल रहे हैं, वे बेटी बचाने के लिए तैयार हैं।





कन्या भ्रूणहत्या के खिलाफ शनिवार को एक नया अध्याय जुड़ जाएगा। जींद के बीबीपुर गांव में देश में पहली बार महिलाओं की ओर से बुलाई गई इस महापंचायत में खापें बेटियों को बचाने के मुद्दे पर मंथन करेंगी। बीबीपुर की महिलाओं को पूरी उम्मीद है कि खापों के प्रतिनिधि उनकी लड़ाई को देशभर में आगे बढ़ाएंगे।




खाप महापंचायत सुबह 10 बजे बीबीपुर गांव के सरकारी स्कूल प्रांगण में शुरू हो जाएगी। यह पहली बार होगा कि खाप महापंचायत स्टेज से संचालित होगी। इस दौरान बोलने के लिए कई वायरलेस माइकों के साथ-साथ स्टैंड माइकों की भी व्यवस्था की गई है। महापंचायत की शुरुआत कन्या भ्रूणहत्या के खिलाफ ठेठ हरियाणवी गीतों से होगी। गांव का ही एक युवक तीन गीत प्रस्तुत करेगा, जिनकी तैयारी यहां की महिलाओं ने उसे करवा दी है।







इसके बाद महिलाएं मंच संभालेंगी और ‘बेटियां अनमोल’ नाटक का मंचन करने के साथ ही, गीत और कविता सुनाएंगी। इसमें गांव की करीब तीन दर्जन महिलाएं भाग लेंगी। इसके बाद परपंरा के अनुसार खाप प्रधान और एक स्टेज सेक्र टरी का चुनाव किया जाएगा, जिनकी अनुमति के बाद ही खाप महापंचायत में कोई वक्ता बोल पाएगा।





150 खापों के प्रतिनिधि पहुंचने की उम्मीद




इस महापंचायत पहुंचने के लिए देश-प्रदेश की लगभग सभी महापंचायतों को गांव की महिलाओं और नौगामा खाप ने निमंत्रण भेजा है। उम्मीद जताई जा रही है कि महापंचायत में करीब 150 खापों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। इसके अलावा कई सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के अलावा प्रदेशभर से महिला संगठनों से जुड़ी कार्यकर्ता भी इसमें भाग लेंगी। बीबीपुर गांव की पंचायत के अनुसार जींद जिले की सभी 302 पंचायतों के सरपंचों ने निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।





एक वक्ता को मिलेंगी अधिकतम तीन मिनट




महापंचायत में शामिल होते ही पहले खाप प्रतिनिधि और सामाजिक संगठनों से जुड़े प्रतिनिधियों को अपना नाम दर्ज कराना होगा। इसके लिए गांव के चार पढ़े-लिखे युवकों की ड्यूटी लगा दी गई है। इसके बाद नामों की सूची खाप महापंचायत प्रधान को सौंपी जाएगी। प्रत्येक खाप से एक प्रतिनिधि को बोलने का मौका दिया जाएगा। कौन किस समय बोलेगा, यह प्रधान द्वारा तय किया जाएगा। महिलाएं भी प्रधान की अनुमति लेकर ही बोलेंगी। वक्ताओं को 3 मिनट से अधिक बोलने का समय नहीं दिया जाएगा।






पंचायत के दौरान नहीं मिलेगा खाना




खाप महापंचायत परंपरा के अनुसार ही चलेगी। महापंचायत के दौरान किसी को भी खाना नहीं परोसा जाएगा, लेकिन पानी और ठंडे का इंतजाम कर लिया गया है। महापंचायत शुरू होने से पहले या फिर समापन के बाद ही खाना परोसा जाएगा। इसके लिए शुक्रवार शाम से बीबीपुर की महिलाओं ने तैयारी शुरू कर दी है। पंचायत में आने वाले पंचायत की पहचान ‘हुक्के’ की भी व्यवस्था स्कूल में ही कर दी गई है। पूरी महापंचायत में करीब 50 हुक्के ताजा करके रखे जाएंगे।




तैयारियों को लेकर प्रशासन भी चौकस




महापंचायत को लेकर प्रशासन भी पूरी तरह से चौकस है। एडीसी अरविंद मल्हान ने बताया कि गांव की पंचायत को प्रशासन की तरफ से हर संभव मदद दी जा रही है। उन्होंने बताया कि महापंचायत स्थल पर किसी बुजुर्ग या बीमार को कोई परेशानी न हो इसके लिए सीएमओ से कह दिया गया है कि वहां पर एंबुलेंस की व्यवस्था समय रहते कर ली जाए। जलापूर्ति विभाग के एक्सईन को भी पीने के पानी के दो टैंकर महापंचायत स्थल के पास खड़े करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर एसपी से बात की जा रही है। यदि जरूरी समझा गया तो मौके पर पुलिस की भी व्यवस्था की जाएगी।





पूर्व संध्या पर निकाली जागरुकता रैली




महांपचायत की पूर्वसंध्या पर शुक्रवार शाम को बीबीपुर गांव की जागरूक महिलाओं ने सभी तैयारियों को अंतिम रूप देकर शाम को जागरूकता रैली निकाली। महिलाओं ने इस दौरान सभी को महापंचायत में पहुंचने का न्यौता दिया और कन्या भ्रणहत्या रोकने का संदेश दिया। गांव की 62 वर्षीय
महिला शीला देवी ने कहा कि महापंचायत को लेकर उनकी तैयारियां पूरी हो गई हैं। बस अब डर सता रहा है तो सिर्फ मौसम का। भगवान कृपा करे।






बीबीपुर की महिलाएं दोबारा रच रही इतिहास




बीबीपुर गांव की महिलाएं एक माह के अंदर ही दूसरी बार इतिहास रचने जा रही हैं। इससे पहले वे केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग की अनुशंशा पर 18 जून 2012 को देश में अपने आप में पहली महिला ग्रामसभा का बीबीपुर में सफल आयोजन किया गया था, जिसके बाद बेटियों को बचाने की नई मुहिम खड़ी हो गई। अब वे सामाजिक बुराई को मिटाने की उनकी चल रही मुहिम के तहत खाप महापंचायत का आयोजन कर रही हैं।





ये रहेंगे एजेंडा में




-बेटियों को बचाने के लिए देशभर में माहौल तैयार करना और इसका संदेश समाज में पहुंचाना।
-महिलाएं चाहती हैं कि कन्या भ्रूणहत्या के खिलाफ खाप महापंचायत भी कड़े कदम उठाएं।
-खापें ऐसे फैसले लें, जिससे समाज में कन्या भ्रूणहत्या करने वाले को कोई सामाजिक सजा मिल सके।
-मंथन किया जाएगा कि आखिर क्यों, भ्रूणहत्या को रोकने में सरकारी तंत्र कारगार साबित नहीं हो रहा।
-महापंचायत के माध्यम से सरकार से मांग की जाएगी कि इस बुराई पर लगाम लगाने के लिए कड़े कानून बनाए।
-जागरुकता के साथ-साथ दबाव बनाने अन्य सामाजिक उपाय भी अपनाए जाने बहुत जरूरी हैं।



-ऐसे सामाजिक उपायों पर चर्चा की जाएगी और सभी खापों की राय जानी जाएगी।
-समाज में महिलाओं को उचित स्थान दिलवाने के लिए खापों के प्रतिनिधियों से चर्चा की जाएगी




कन्या भ्रूणहत्या के विरोध में महिलाओं ओर से बुलाई गई खाप महापंचायत की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसको लेकर महिलाओं के साथ-साथ सभी खाप प्रतिनिधियों में उत्साह है। उम्मीद है इसमें करीब 150 खाप पंचायतों के प्रतिनिधि भाग लेंगे और सभी मुद्दों पर आम राय बनकर सामने आएगी।
- कुलदीप सिंह, कार्यकारी प्रधान नौगामा खाप।



आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

और पढ़ें