• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • जीजेयू में छात्रा से छेड़छाड़: आरोपी और छात्रा के परिजनों के बयान दर्ज होंगे

जीजेयू में छात्रा से छेड़छाड़: आरोपी और छात्रा के परिजनों के बयान दर्ज होंगे

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जीजेयूमें इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन विभाग की एक छात्रा से पेपर में नंबर बढ़ाने का प्रलोभन देकर छेड़छाड़ करने के मामले में चल रही जांच के लिए बुधवार को बैठक हुई। इसमें जांच कमेटी में सदस्यों के अलावा छेड़छाड़ करने के आरोपी लैब टेक्नीशियन के अलावा छात्रा के परिजन पहुंचे। इस दौरान आरोपी और परिजनों को आमने-सामने बैठाया गया। पहले उनसे छात्रा से छेड़छाड़ किए जाने के बारे और झगड़े को लेकर पूछा और फिर दोनों पक्षों के बयान लिखित रूप में दर्ज किए गए। साथ अब जांच करने का काम वुमन सैल को भी सौंप दिया गया है।

बता दें कि इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन विभाग में कार्यरत लैब टेक्नीशियन पर नंबर बढ़वाने का प्रलोभन देकर एक छात्रा से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया। इसे लेकर छात्रा ने शुक्रवार को वीसी को शिकायत भी दी थी। पिछले शनिवार को इसे मुद्दे पर छात्रा के परिजन और आरोपित टेक्नीशियन के बीच में कैफेटेरिया में बातचीत हो रही थी कि मामला गरमा गया और परिजनों ने आरोपित टेक्नीशियन कि धुनाई कर डाली थी। मामला जीजेयू चौकी पहुंचा मगर वहां पर परिजनों और आरोपी टेक्नीशियन के बीच समझौता हो गया। मगर छात्रा द्वारा दी गई शिकायत वीसी के पास ही लंबित रही। इस मामले को भास्कर ने प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया। इसके बाद जीजेयू प्रशासन ने हरकत में आते हुए मामले में कमेटी बनाकर जांच बैठा दी और साथ ही रविवार के ही दिन टेक्नीशियन का तबादला जनरल ब्रांच में कर दिया गया था।

^छेड़छाड़ मामले को लेकर बुधवार को जांच कमेटी बैठक हुई। इसमें दोनों पक्षों ने लिखित में बयान दिए हैं। साथ ही जांच का काम वुमन सैल को सौंप दिया गया है। अब दोनों पक्षों के लिखित बयान और छात्रा से की जाने वाली बात के आधार पर जांच का काम आगे बढ़ सकेगा।\\\'\\\' -प्रो.संदीप राणा, प्रोक्टर जीजेयू।

वीसी ने कहा था कि शुक्रवार को ही उनको इस मामले में शिकायत मिली थी। इसलिए पता लगते ही जांच करवाने का काम शुरू कर दिया है। हालांकि आरोपी टेक्नीशियन से पूछे जाने पर उन्होंने कहा था कि छात्रा ने शिकायत 15 दिन पहले की थी। वीसी ने इस बात से इनकार कर दिया था कि शिकायत 15 दिन पहले मिली साथ ही यह भी कहा कि किसी विवि में बाकी विवाद सहन हो सकते हैं। मगर किसी भी महिला कर्मचारी या छात्रा से छेड़छाड़ का मामला किसी भी हाल में सहन नहीं किया जाएगा। इसलिए उन्होंने जांच में कोताही बरते जाने और खुद विभागों में जाकर छात्राओं से रूबरू होने की बात कही है, ताकि कोई समस्या हो तो सामने सके।

जांच कमेटी के सामने बुधवार को लिखित में बयान तो हुए ही मगर छात्रा के परिजनों ने कुछ नई बातें भी कमेटी की सामने रखीं। सूत्राें की मानें तो झगड़ा करने वाले छात्रों में शामिल छात्रा के परिजन ने बताया कि कैफेटेरिया में हमें आरोपी लैब टेक्नीशियन ने ही बुलाया था। आरोपी कहने लगा कि समझाैता कर लो मुझे तो सीएम तक जानते हैं। इसी दौरान उन्होंने छात्रा को लेकर भी कुछ गलत तरीके से बात की इसके बाद झगड़ा हुआ था। बता दें कि आरोपी लैब टेक्नीशियन संस्कार भारती संस्था के प्रधान भी थे, जिन्हें स्टेट बॉडी नेे मामले उजागर होने के बाद हटा दिया था।

खबरें और भी हैं...