• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • मास कम्युनिकेशन और फार्मास्युटिकल विभाग की जांच पूरी, साइकोलॉजी विभाग की जांच के लिए रिकॉल

मास कम्युनिकेशन और फार्मास्युटिकल विभाग की जांच पूरी, साइकोलॉजी विभाग की जांच के लिए रिकॉल

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
परीक्षा मामले में जांच जारी

जीजेयूमें पीएचडी प्रवेश परीक्षा में कंप्यूटर इंजीनियरिंग और पर्यावरण एवं साइंस विभाग की परीक्षा रद्द करने के बाद अन्य तीन विभागों की परीक्षा के लिए शुरू की गई। दो की जांच पूरी हो चुकी है। वहीं तीसरे विभाग की जांच तो पूरी हो चुकी थी, मगर एक शिकायत के आधार पर इस विभाग की जांच के लिए रिकॉल किया गया है। ऐसे में अब दो विभाग मॉस कम्युनिकेशन और फार्मास्युटिकल की रिपोर्ट वीसी को सौंपी गई है। इसमें उन्होंने किसी तरह की धांधली पाए जाने की बात से इनकार किया है। इन दो विभागों की परीक्षा भी दोबारा नहीं करवाई जाएगी। वहीं साइकोलॉजी विभाग की जांच के लिए रिकॉल किया गया है, इसकी जांच की जाएगी। दोनों विभागों की स्टेटिकल एनालिसिस आैर विभागों में की पूछताछ के आधार पर यह पाया गया कि इन परीक्षाओं में किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं की गई है। इसलिए काउंसलिंग के दौरान जिन स्टूडेंट्स को इन विभागों में पीएचडी करने के लिए दाखिला दिया गया है। वह फैसला बरकरार रहेगा।

गड़बड़ीकी बात पाए जाने के लिए ये तर्क

जीजेयूप्रशासन ने तीनों विभागों की जांच का काम परीक्षा नियंत्रक प्रोफेसर कुलदीप बंसल की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी को सौंपा गया था। उन्होंने जांच का काम पूरा करके इसकी रिपोर्ट डीन ऑफ एकेडमिक अफेसर प्रोफेसर राजेश मल्होत्रा के माध्यम से वीसी को सौंपी है। रिपोर्ट में बताया गया है कि मॉस कम्युनिकेशन विभाग में स्टेटिक एनालिसिस के आधार पर धांधली का अंदेशा नहीं निकला। वहीं फार्मास्युटिकल विभाग में जिस कंडीडेट ने टॉप किया है। वह बतौर शिक्षक यमुनानगर में कार्यरत है और उनके पास 10 साल का अनुभव है। इसलिए नंबर लेना स्वभाविक या सहज है। इसलिए दोनों विभागों को जांच में क्लीन चिट दी गई है। अब बस साइकोलॉजी विभाग की जांच को फाइनल करना बाकी है।

दो विभागों की परीक्षा रद्द करने पर, अन्य तीन विभागों की परीक्षा में धांधली होने पर उठे थे सवाल

^दो विभागों की रद्द की गई परीक्षा ही दोबारा होगी। अन्य विभागों की जांच रिपोर्ट में धांधली का अंदेशा नहीं मिला है। वहीं रद्द की गई परीक्षा मामले में जांच जारी है और टॉप करने वाले कंडीडेट से जवाब तलब किया गया है। इसके आधार पर आगे की जांच जारी है, ताकी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।\\\'\\\' प्रो.टंकेश्वर कुमार, वीसी जीजेयू।

पीएचडी प्रवेश परीक्षा मामला

खबरें और भी हैं...