• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • वेतन सुरक्षा को लेकर कर्मचारियों का अनशन

वेतन सुरक्षा को लेकर कर्मचारियों का अनशन

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा के सैकड़ों कर्मचारी बुधवार को लघु सचिवालय के बाहर सकसं के जिला प्रधान सुरेंद्र मान की अध्यक्षता में 8 घंटे के सामूहिक अनशन पर बैठे। अनशनकारियों ने इस दौरान सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। अनशनकारी कर्मचारियों को राज्य कमेटी सदस्य आरसी जग्गा, छबीलदास मौलिया, जिला सचिव अनिल शर्मा, नकुल सिंह, अलका सिवाच, जयवीर मोर, हितेंद्र सिहाग, रणबीर रावत, राजकमल सोलंकी, सुनील शर्मा, गजे सिंह भ्याण, अनवर बेग, चंद्रप्रकाश नागर, नरेश कांगड़ा, सूबे सिंह कादियान, देसराज, सतबीर सिंह, सोना देवी, ईश्वर पाबड़ा, राजकुमार आर्य, अशोक सैनी, जयसिंह पूनियां, जगदीश बिश्नोई, राजबीर पूनियां, सुरेंद्र यादव, रोहताश शर्मा, वजीर सिंह, रामसूरत, प्रेम शर्मा, दिनेश शर्मा, ओमप्रकाश सैनी प्रदीप सिंह आदि ने भी संबोधित किया।

वादा कर मुकर गई सरकार : फौगाट

अनशनस्थल पर उपस्थित कर्मचारियों को संबोधित करते हुए संघ के प्रदेशाध्यक्ष धर्मवीर फौगाट ने कहा कर्मचारी उन्हीं मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं, जिन मांगों को विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने जायज मानते हुए अपने चुनावी घोषणा पत्र में शामिल किया था। भाजपा ने ही कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान देने, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने का वादा किया था, जिससे अब भाजपा सरकार मुकर रही है। उन्होंने कहा कि यदि इसके बाद भी सरकार की मंशा बातचीत कर मांगों का समाधान करने की नहीं रही तो 15 जनवरी को प्रदेश के तमाम विधायकों सांसदों को ज्ञापन सौंपा जाएगा और विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान विधानसभा का घेराव किया जाएगा।

सर्व कर्मचारी संघ की प्रमुख मांगें

{समान काम-समान वेतन लागू हो।

{ सातवें वेतन आयोग की रिपोर्ट लागू करने से पहले छठे वेतन आयोग की विसंगतियों को दूर हो।

{ 2000 रुपए की अंतरिम राहत मूल वेतन में शामिल की जाए।

{ सकसं की प्रस्तावना अनुसार सातवें वेतन आयोग को लागू किया जाए।

{ सेवानिवृत्त कर्मचारियों, लिपिक वर्ग, राजस्व पुलिस विभाग के कर्मचारियों को पंजाब के समान पेंशन वेतनमान दिया जाए।

{ निजीकरण, ठेका प्रथा आउट सोर्सिंग पर पूर्ण रूप से रोक लगाई जाए।

{ सभी कच्चे कर्मचारियों को पक्का किया जाए, सामाजिक सुरक्षा दी जाए।

सर्व कर्मचारी संघ की ओर से लघु सचिवालय में सामूहिक अनशन पर कर्मचारी।

खबरें और भी हैं...