• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • अिधकारियों की खींचतान में ठंडे बस्ते में शहर में एलईडी लाइट्स लगने का प्रोजेक्ट

अिधकारियों की खींचतान में ठंडे बस्ते में शहर में एलईडी लाइट्स लगने का प्रोजेक्ट

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्ट्रीटलाइट जलने और बंद होने की आंख मिचौनी के बीच शहर की सभी गलियों, सड़कों पर उजाला करने के लिए 68 लाख रुपये की एक बड़ी योजना ठंडे बस्ते में जा रही है। योजना के तहत शहर के सभी वार्डों में 2742 एलईडी लाइटें लगनी है। मगर चेयरपर्सन निर्मला सैनी और कार्यकारी अधिकारी जितेंद्र सिंह के बीच तालमेल होने के कारण योजना पर काम तक शुरू नहीं हो पा रहा। लाइट्स लगाने का वर्कऑर्डर जारी हो चुका है और दो कंपनियों ने काम करने के लिए सिक्योरिटी तक जमा करा दी है। मगर नतीजा जीरो है।

चेयरपर्सन का आरोप है कि कार्यकारी अधिकारी जानबूझ कर इन्हें नहीं लगने नहीं दे रहे। जबकि कार्यकारी अधिकारी का कहना है कि सरकार हेडक्वार्टर स्तर पर एलईडी लाइटें लगवाएगी। यहां स्ट्रीट लाइट घोटाला हो चुका है, वे किसी विवाद में नहीं पड़ना चाहते। कोई भी गली सड़क रात्रि में अंधेरे में रहे, इस उद्देश्य से छह माह पहले नगर परिषद द्वारा 68 लाख रुपये की एलईडी लाईट का टेंडर लगाया गया था। इसमें 60 लाख रुपये की ग्रांट राशि 8 लाख रुपये डी प्लान के तहत लगने थे। पूरे शहर में कुल 2742 लाइटें लगनी थी। इसके लिए हिसार पानीपत की दो फर्मों को टेंडर दिया गया।

बाकायदा वर्कऑर्डर भी दे दिए गए। कंपनियों ने इसके लिए सिक्योरिटी राशि भी जमा करवा दी। लेकिन शहर में इस प्रोजेक्ट की एक भी एलईडी लाइट नहीं लगी। प्रोजेक्ट धीरे धीरे ठंडे बस्ते में चला गया। छह माह के बाद चेयरपर्सन ने इस पर ध्यान दिया है। उनका कहना है कि कार्यकारी अधिकारी इस काम में अड़चन डाल रहे हैं, जिससे काम शुरू नहीं हो पाया। नगर परिषद ने ब्रांडेड कंपनियों की एलईडी लाइट लगवाने का टेंडर लगाया गया। इन एलईडी लाइटों की पांच वर्ष की गारंटी होती है। कुछ शर्तों पर खराब होने की अवस्था में यह कंपनी द्वारा बदली जा सकती हैं।

^सरकार ने चिट्ठी जारी की हुई है कि हेडक्वार्टर के माध्यम से एलईडी लाईट लगाई जाएंगी। इसलिए हम अपने स्तर पर नहीं लगवा रहे। कुछ समय पहले एलईडी लाइटों में घोटाले की बात सामने आई थी, इसलिए विवाद में नहीं पड़ना चाहते हैं। जितेंद्रसिंह, कार्यकारी अधिकारी, नगर परिषद

जिन क्षेत्रों में लाइटें नहीं, वहां लगनी हैं

यहएलईडी लाइटें उन क्षेत्रों में लगाई जानी है, जहां पर आज तक एक भी स्ट्रीट लाइट नहीं है। क्योंकि इन क्षेत्रों में रात होते ही गलियों में अंधेरा पसर जाता है। शहर में जैसे सेक्टर छह से श्मशान घाट रोड, आमटी झील से पटेल चौक, सिसाय पुल से हिसार चुंगी, हाइवे से एसडीएम आवास, बड़सी गेट से अंबेडकर चौक, एसडीएम आवास से रेलवे स्टेशन रोड, चार कुतुब से खरड़ चुंगी, इन सड़कों पर एलईडी लाइटें लगाई जानी हैं। शहर में अभी 3612 स्ट्रीट लाइटें लगी हुई हैं। इनमें मुख्य 25 वाट की ट्यूब, 150 वाट की सोडियम 250 वाट सोडियम, 22 25 वाट के सीएफएल लाइटें लगी हुई है।

खबरें और भी हैं...