• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • सेना, हरियाणा पुलिस, बीएसएफ, सीआरपीएफ, की टुकड़ियां करेंगी परेड, साहसिक करतब भी दिखाएंगे

सेना, हरियाणा पुलिस, बीएसएफ, सीआरपीएफ, की टुकड़ियां करेंगी परेड, साहसिक करतब भी दिखाएंगे

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | राजधानी हरियाणा

हिसारके महावीर स्टेडियम में 31 अक्टूबर को दिल्ली के राजपथ जैसा नजारा दिखेगा। सेना, हरियाणा पुलिस, बीएसएफ, सीआरपीएफ, आईटीबीपी की परेड करती टुकड़ियां। साथ में मनमोहक धुन बजाते बैंड। मोटर साइकिल पर साहसिक करतब दिखाते जवान और सरकार की उपलब्धियों से लेकर हरियाणा के विभिन्न अंचलों की पारंपरिक वेशभूषा और संस्कृति साकार करती झांकियां निकलती दिखाई देंगी। एयरफोर्स की आकाशगंगा और सूर्य किरण विग के हवाई करतब भी देखने को मिल सकते हैं। रंग-बिरंगे गुब्बारों के साथ लगभग 500 छात्राओं के सामूहिक नृत्य के साथ-साथ सर्किल कबड्डी का आनंद लिया जा सकेगा। यह सब तैयारियां हरियाणा की स्वर्ण जयंती और खेल महाकुंभ के समापन समारोह के लिए चल रही हैं।

उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि में सुबह 11 से दोपहर 1 बजे तक चलने वाले इस भव्य समारोह में और भी कई नई प्रस्तुतियां देखने को मिल सकती हैं। खेल एवं युवा मामले विभाग और हरियाणा स्वर्ण जयंती समारोह समिति इन दिनों आयोजन की तैयारियों में जुटी है। राज्य सरकार ने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था। लेकिन अब उनका आना संभव नहीं हो पा रहा है। इस भव्य समापन समारोह कार्यक्रम में करीब 10 हजार खिलाड़ी और इनसे तीन-चार गुना संख्या में प्रदेश के विभिन्न अंचलों से आए लोग शामिल होंगे।

समापन नहीं, महा शुभारंभ होगा : के के खंडेलवाल

^हिसारमें होने वाले खेल महाकुंभ और स्वर्ण जयंती कार्यक्रमों की सीरीज के समापन को भले ही महा समापन नाम दिया जा रहा है, लेकिन वास्तव में यह महा शुभारंभ होगा, क्योंकि इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से चलाए जा रहे संकल्प से सिद्धि अभियान के सभी 6 प्रकल्पों की शपथ दिलाई जाएगी। -केकेखंडेलवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव।

अहीर वाल, बागड़ी, देशवाली, मेवात आदि अंचलों की झलक

हरियाणाके विभिन्न अंचलों जैसे अहीर वाल, बागड़ी, देशवाली, मेवात, कुरुक्षेत्र आदि अंचलों की पारंपरिक वेशभूषा, रीति-रिवाज, भाषा, बोली, लोकगीत और लोक परंपराओं का प्रदर्शन होगा। इन्हें दर्शाने वाली झांकियां निकाली जाएंगी। साथ ही आंचलिक परंपरा को दर्शाने और राज्य सरकार की विभिन्न उपलब्धियों को लेकर प्रदर्शनी भी लगाई जाएंगी। कार्यक्रम को भव्य बनाने के लिए पूरा जोर लगाया जा रहा है।

उप राष्ट्रपति होंगे मुख्य अतिथि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शामिल होना मुश्किल

खबरें और भी हैं...