• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • डीजी ने होमगार्ड भर्ती पर लगाई रोक, मांगे थे 1000, मिले 594

डीजी ने होमगार्ड भर्ती पर लगाई रोक, मांगे थे 1000, मिले 594

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हिसार | जाटआरक्षण आंदोलन के दौरान व्यवस्थाओं को संभालने के लिए प्रशासन ने गृहरक्षी विभाग से 1000 होमगार्ड की डिमांड की थी। सोमवार तक 594 होमगार्डों को ही ड्यूटी मिल सकी है। वहीं गृह रक्षा विभाग के डीजी ने फिलहाल नई भर्तियों पर रोक लगने के निर्देश दिए हैं। गृहरक्षियों की नई भर्तियों राइफल ट्रेनिंग को लेकर गृहरक्षी विभाग के डीजी के आदेश पर रोक लगी है। वहीं नए लाइसेंस बनवाने से पहले असलाह चलाने का प्रशिक्षण गृहरक्षी विभाग नहीं दे सकेगा, हालांकि इन फैसलों को लेकर उच्चाधिकारियों ने मंशा जाहिर नहीं की है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो जिला कमांडेंट ही गृह रक्षियों की भर्तियां करते रहे हैं। पहले होमगार्ड को 300 रुपए प्रतिदिन भुगतान मिलता रहा है, अब शासन ने बढ़ाकर 572 रुपये कर दिया है। भत्ता बढ़ने पर भर्तियों में धांधली हो सके, इसके लिए शासन से रोक लगाने के साथ भर्ती की नई प्रक्रिया को बनाया जा रहा है।



एक माह में 3 हजार कारतूसों से लेते हैं प्रशिक्षण

होमगार्ड विभाग लाेगों को रायफल चलाने का प्रशिक्षण देता है। इसमें महीने की 1 से लेकर 5 तारीख तक पंजीकरण होता है। पिछले माह होने वाले पंजीकरणों पर गौर करें तो औसतन 300 लोग प्रतिमाह प्रशिक्षण लेते हैं। एक प्रशिक्षणार्थी कम से कम 10 कारतूस चलाता है। इस हिसाब से प्रत्येक माह 3000 कारतूसों की खपत गृहरक्षी विभाग करता है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो कारतूसों को मंगा पाने के कारण प्रशिक्षण पर रोक लगा दी है।

जिले में गृहरक्षियों की स्थिति

होमगार्ड-1170

यातायात या अन्य विभागों में ड्यूटी करने वाले - 224

जाट आरक्षण में लगे - 594

खबरें और भी हैं...