पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • प्रदेश में 1.44लाखलोगों के पास शस्त्र लाइसेंस

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रदेश में 1.44लाखलोगों के पास शस्त्र लाइसेंस

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अपनों से झगड़ा किया तो रद्द होगा हथियार का लाइसेंस

आपनेआत्मसुरक्षा के लिए हथियार का लाइसेंस लिया हुआ है और उसे बरकरार रखना चाहते हैं तो आपको अपने परिजनों संबंधियों से प्रेम बढ़ाना होगा। आपने झगड़ा किया तो आपका लाइसेंस रद्द किया जा सकता है। यह फैसला जिला पुलिस ने हत्या, हत्या प्रयास लड़ाई झगड़ों के मामलों की समीक्षा करने के बाद लिया है। इस समीक्षा के बाद पुलिस अधीक्षक ने हथियारों के करीब 20 लाइसेंस रद्द करने की भी सिफारिश कर दी है और ऐसे मामले से जुड़े अन्य पर कार्रवाई की तैयारी जारी है।

पुलिस ने अपनी इस समीक्षा में इस वर्ष अब तक हुई कुल 31 हत्याओं, 27 हत्या प्रयास के मामलों के अलावा हवाई फायरिंग के नौ मामलों को शामिल किया। पुलिस जांच में सामने आया है कि 31 हत्याओं में से दस हत्याओं का कारण पारिवारिक विवाद रहा है, जो पुलिस के समक्ष भी आया और एफआईआर भी दर्ज हुई। इनमें से पांच मामलों में विवाद ऐसा रहा है जो पुलिस के पास पंजीकृत भी हुआ था। एक में लाइसेंसी हथियार का तथा पांच में अवैध हथियार का प्रयोग किया गया। यदि समय रहते इन हथियारों के लाइसेंस रद्द कर दिए जाते और अवैध हथियारों को पकड़ा जाता तो पांच हत्याएं रोकी जा सकती थी। इसी के मद्देनजर पुलिस ने यह फैसला लिया है।

इसी प्रकार हत्या प्रयास के 27 मामलों में से छह मामलों का कारण पुरानी रंजिश रही तथा 18 मामलों में अवैध हथियारों का प्रयोग किया गया। हवाई फायरिंग के अब तक हुए कुल 9 मामलों में से सात में अवैध हथियार और दो में लाइसेंसी हथियारों का प्रयोग किया गया है। उधर, पुलिस ने अब जांच शुरू कर दी है कि पारिवारिक झगड़ों के कौन-कौन से मामले आगे बढ़ सकते हैं। उन झगड़ों से संबंधित लोगों में से किन-किन के पास लाइसेंसी हथियार है।

20 लाइसेंसरद्द करने की चल रही है प्रक्रिया

^आपसीझगड़ों के कारण इस वर्ष जिले में दस हत्याएं हो चुकी हैं, जो कुल हत्याओं का 33 प्रतिशत है। यदि इन झगड़ों की शुरुआत पर ही कुछ रक्षात्मक कदम उठा लिए जाए तो नौबत हत्या तक नहीं पहुंचती। पारिवारिक झगड़ों के मामले में जिन लोगों के पास लाइसेंसी हथियार है, उन मामलों में गंभीर अपराध की संभावना रहती है। इसी कारण 20 के करीब लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश कर दी है और अन्य की प्रक्रिया चल रही है। -अश्विनशैणवी, पुलिस अधीक्षक, हिसार।

आपसी झगड़े के बाद शराब और लेनदेन है हत्या के मुख्य कारण

हिसारमें इस वर्ष हुई 31 हत्याओं की बात करें तो सबसे ज्यादा दस हत्याएं आपसी झगड़ा पुरानी रंजिश के कारण हुई। इसके बाद शराब के नशे तस्करी के कारण तथा रुपये के लेनदेन के कारण तीन-तीन हत्याएं हुई हैं। अन्य कारणों की बात करें तो मानसिक परेशानी, आर्थिक तंगी और अवैध संबंधों तथा जमीन के विवाद के कारण दो-दो हत्याएं हुई हैं। एक हत्या दुष्कर्म करने के बाद हुई और पांच मामलों में कारण अभी अज्ञात है।

{ निजीशस्त्र लाइसेंस के आंकड़ों की बात करें तो प्रदेश में एक लाख, 44 हजार, 543 लोगों के पास यह है। उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 11.23 लाख लोगों के पास शस्त्र लाइसेंस हैं।

{ राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2008 से लेकर 2013 तक देश में कुल 2012 हत्याएं लाइसेंसी हथियारों से हुई हैं।

एक्शन

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें