पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शादी में दादी का गोत्र टालने की तैयारी में खाप पंचायतें

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जींद . खाप पंचायतें अब शादी के लिए दादी के गोत्र को टालने और खाप क्षेत्र में भी शादी को सहमति देने की तैयारी में हैं। इसको लेकर जल्द खापों की महापंचायत भी बुलाई जाएगी।
इसकी जानकारी मंगलवार को जाट धर्मशाला में प्रेस वार्ता करते हुए सर्व खाप पंचायत हरियाणा संयोजक कुलदीप सिंह ढांडा ने दी। इस दौरान विभिन्न खाप प्रतिनिधि मौजूद रहे। इस अवसर पर खापों की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश किए गए दावों के बाद खापों के हक में फैसला आने की उम्मीद भी जताई गई है।
दादी के गोत्र से भी हट सकती है रोक
खाप प्रतिनिधियों ने कहा कि आज सामाजिक परिवेश तेजी से बदल रहा है। ऐसे में सामाजिक ढांचे में भी बदलाव की जरूरत है। समय-समय पर खापों ने इन बदलावों पर सहमति जताई है। शादी के दौरान पहले वर व वधू का नानी का गोत्र मिलता था तो शादी नहीं होती थी। बाद में उसे टाल दिया गया। अब वर व वधू की मां और दादी के गोत्र शादी के लिए एक जैसे नहीं होने चाहिएं।
खाप पंचायतें अब दादी के गोत्र को भी टालने का मन बना रही हैं। इससे शादियां करने में आसानी होगी। साथ ही अभी तक बारहा, तपा और खाप क्षेत्र के गांवों में शादियां नहीं हो रही हैं। इसे भी बदलकर शादी करने की अनुमति का प्रस्ताव रखा गया है। कई खापों ने तो यह शुरू भी कर दिया है, लेकिन सामूहिक फैसला लेने के लिए जल्द ही खापों की पंचायत बुलाई जाएगी।
सुप्रीम कोर्ट में हरियाणा से दस दावे
कुलदीप ढांडा ने बताया कि ऑनर किलिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा जवाब-तलब करने पर सर्व खाप पंचायत हरियाणा ने सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब-दावा सेवानिवृत ले. जनरल डीपी वत्स के माध्यम से तर्को व तथ्यों पर आधारित पेश किया है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश की ओर से एक, दिल्ली की तरफ से दो व हरियाणा की ओर से दस जवाब दावे विभिन्न जातियों-वर्गो की खापों ने पेश किए हैं।
आपसी सहमति से सुलझाएं मुद्दे
कुलदीप ढांडा ने कहा कि ऑनर किलिंग में खापों का कोई हाथ नहीं रहा। खापों ने हमेशा आपसी सहमति से मामले निपटाए हैं। उन्होंने उम्मीद जताई है कि सुप्रीम कोर्ट खापों की महत्ता को समझते हुए उन्हें महत्व देगा। इस दौरान खाप प्रतिनिधि केके मिश्रा, टेकराम कंडेला, इंद्रसिंह ढुल, ओमप्रकाश मान, राजबीर ढांडा, कटार सिंह सांगवान, होशियार सिंह दलाल, सुभाष कुंडू, अमरनाथ शर्मा, दलीप चहल, धनपत नंबरदार, राजेश धनाना आदि मौजूद थे।