पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Now The Station Will Hit The Track With Shopping Malls, Hotels And Restaurants

अब स्टेशन के ट्रैक के साथ नजर आएंगे शॉपिंग मॉल, होटल और रेस्तरां

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हिसार. रेलवे स्टेशन के आसपास टै्रक के साथ लगती भूमि पर शॉपिंग मॉल, होटल और रेस्तरां नजर आएंगे। रेलवे बोर्ड ने रेलवे भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) को भूमि और स्टेशन चिह्नित करने की जिम्मेदारी सौंपी है। हिसार रेलवे स्टेशन ऐतिहासिक और मिनिस्टर ऑफ रेलवे का स्टेशन होने के कारण इसका लाभ मिल सकता है।

इस योजना के सिरे चढऩे में करीबन 6-7 महीने का समय लग सकता है। यदि यह योजना कामयाब हो गई तो यात्रियों को ही नहीं बल्कि आसपास रह रहे शहर के लोगों को भी सुविधाओं का लाभ मिलेगा।


यात्रियों को खाने पीने की चीज खरीदने के लिए स्टेशन पर लगने वाली रेहडिय़ों व छुटपुट दुकानों का सहारा लेना पड़ता है। पैसे की लिहाज से भी यहां मिलने वाली अधिकतर चीजों का रेट मार्केट रेट से ज्यादा ही होता है। अब यहां स्थिति देखी जाए तो लोगों ने यहां झोपडिय़ां बनाई हुई हैं और जगह-जगह कूड़े के ढेर लगाए गए हैं।


स्टेशन की खासियत
स्टेशन पर छह प्लेटफार्म हैं। यहां से हर रोज 45 एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन गुजरती हैं। जिनमें रोजाना 10-11 हजार यात्री चढ़ते और उतरते हैं। जम्मू-बांद्रा (विवेक एक्सप्रेस) और हिसार-गोरखपुर (गोरखधाम एक्सप्रेस) जैसी लंबी दूरी की ट्रेनों का ठहराव भी है। लंबी दूरी की पैसेंजर ट्रेनों में बीकानेर, जयपुर, बठिंडा और लुधियाना जाने वाली ट्रेनें भी हैं।


ये हैं हालात
रेलवे स्टेशन की दोनों साइड कुछ भूमि पर पार्किंग बना रखी है। गेस्ट हाउस के पास खाली जगह में नई बिल्डिंग बनाने का प्रस्ताव है। इसके बावजूद डाबड़ा चौक पुल, सब्जी मंडी पुल और सूर्यनगर फाटक के आसपास खाली भूमि पड़ी है। विज्ञापन के लिए होर्डिंग्स और यूनीपोल लगाने के अलावा कुछ लोगों ने झुग्गी झोपड़ी बनाकर अतिक्रमण कर रखे हैं।

कूड़ा कर्कट पड़ा है। सूर्यनगर फाटक के आसपास आरपीएफ की मदद से झुग्गी-झोपडिय़ों को अतिक्रमण को हटाया जा चुका है। इस भूमि से रेलवे को कोई अतिरिक्त आमदनी नहीं है।


ऐसे तैयार होगा प्रोजेक्ट
रेलवे भूमि विकास प्राधिकरण के सहयोग से प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप से विकसित करे जाएंगे। आरएलडीए इसकी रिपोर्ट मंडल वार मुख्यालयों को सौंपेगी। यह रिपोर्ट रेलवे बोर्ड मुख्यालय को भेजी जाएगी। उसके आधार पर स्टेशन चिह्नित किए जाएंगे। इन सुविधाओं का फायदा रेलवे यात्रियों के अलावा आसपास के लोग भी उठा सकते हैं।


स्टेशन पर सुविधाएं
यात्रियों के लिए रेलवे स्टेशन पर खाने के लिए कई सालों पुरानी व्यवस्था चल रही है। यहां से गुजरने वाली ट्रेनों में पेंट्री कार नहीं है। सिर्फ प्लेटफार्म पर ही उतरकर चलती-फिरती स्टॉलों पर ही खाने और नाश्ते का इंतजाम है। इस खाने की गुणवत्ता न होने के कारण यात्री बाहर से खाना मंगाते हैं।