पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • विभाग एमएसपी से बच्चों के स्वास्थ्य पर रखेगा नजर

विभाग एमएसपी से बच्चों के स्वास्थ्य पर रखेगा नजर

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शून्यसे पांच साल से कम उम्र के बच्चों का स्वास्थ्य बेहतर बनाए रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा माइक्रो न्यूट्रिएंट सप्लीमेंट्स अर्थात एमएसपी नामक योजना तैयार की है। योजना 12 नवंबर से प्रभावी हो जाएगी। नई योजना के तहत स्वास्थ्य विभाग शून्य से पांच साल से कम आयु वर्ग के बच्चों के स्वास्थ्य पर विशेष नजर रखेगा। उनमें पाई जाने वाली बीमारियों को आरंभिक स्तर पर खत्म करने की कोशिश करेगा, ताकि बच्चे बडे़ होकर तंदुरूस्त हो। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में पहली बार एमएसपी नामक नई योजना शुरू की गई है। योजना बडे़ पैमाने पर 12 नवंबर से जिले में शुरू हो रही है। सभी को इस योजना में पूरा सहयोग करना चाहिए। तीसरा प्वाइंट आयोडीन को चेक करना शामिल है। महिलाओं को एएनएम की सहायता से दो कीट दी जाएगी। चौथे पांचवें प्वाइंट में बच्चों को कीड़े मारने की दवा दी जाएगी। ताकि उन्हें एनीमिया से बचाया जा सके। इसी प्रकार पांचवां प्वाइंट विटामिन एक की कमी को दूर करना रहेगा।

ऐसे चलेगा प्रोग्राम

सीएमओने बताया कि हर बुधवार शनिवार को टीका करण कार्यक्रम चलाया जाता है। टीका करण कार्यक्रम काफी सफल रहा है। इस अभियान के साथ ही एमएसपी भी चलाया जाएगा। यहां पर सभी माताएं अपने शिशुओं बच्चों को लेकर आती है। वहीं पर उन्हें दवा उपलब्ध करवाई जाएगी। ताकि बच्चों को शुरू से ही रोगों से लड़ने की दवा दी सके। बच्चों को स्वास्थ्य तंदुरूस्त हो।

पांच प्वाइंट पर रहेगा विशेष ध्यान

सीएमओवंदना भाटिया ने बताया कि आयरन की कमी से एनीमिया होता है। पिछली बार सर्वे करवाया गया था। सर्वे में 16 से 25 साल की उम्र तक की लड़कियों में से 75 प्रतिशत में खून की कमी पाई गई थी। खून की कमी के कारण मातृ मृत्यु दर शिशु मृत्यु दर में काफी इजाफा होता है। इस नुकसान को रोकने के लिए विभाग द्वारा माताओं को आयरन की दवा देंगे। जो बच्चों को छह माह से पांच साल तक देनी होगी। इससे बच्चें दुरुस्त होगे। इसी प्रकार विभाग द्वारा फोलिक एक्सीड पर भी विशेष फोक्स किया जाएगा।

साफ सफाई से पचास प्रतिशत बीमारियां दूर

उन्होंनेकहा कि एमएसपी नामक प्रोग्राम के साथ ही महिलाओं को साफ सफाई के महत्व के बारे में बताया जाएगा। सीएमओ ने कहा कि साफ सफाई से तीस से पचास प्रतिशत बीमारियां तो अपने आप ही दूर हो जाती है। व्यक्ति अपने आसपास कुछ सफाई रखकर