पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • प्रदेश में महिलाओं की स्थिति चिंताजनक

प्रदेश में महिलाओं की स्थिति चिंताजनक

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल. महिला एवं बाल विकास मंत्री हरियाणा कविता जैन ने नारी निकेतन का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जहां कई खामियां नजर आई। संवासिनों ने अपनी पीड़ा बताते हुए निकेतन को कैद खाना बताते हुए आजादी की मांग की।
इस पर श्रीमती जैन ने कहा कि हम आजादी के पक्षधर है लेकिन इसके लिए संवासिनों को भी अपने में बदलाव लाने की जरूरत है। उन्होंने निकेतन की खामियों को तत्काल दुरुस्त कराने के निर्देश दिए।

सुबह करीब दस बजे नारी निकेतन पहुंची बाल विकास मंत्री ने वहां पर एक एक घंटे से अधिक का समय बिताया। इस दौरान उन्होंने संवासिनों एवं लोकल स्टाफ से बातचीत भी की और वहां अंत:वासियों को मिल रहीं सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की। जिसमें भोजन से लेकर सफाई व्यवस्था सहित अलग-अलग तरह की समस्या सामने आईं।
इस पर उन्होंने वार्डन तथा संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जो भी खामियां यहां पर हैं उन्हें चिन्हित करके तत्काल दुरुस्त कर ली जाएं। स्टाफ एवं फंड की कमी की बात सामने आने पर उन्होंने जोर देकर कहा कि शासन स्तर से ऐसी कोई भी दिक्कत नहीं आने पाएगी।

मानसिक रूप से स्वस्थ रखने को लगाई जाएंगी वर्कशॉप

निरीक्षण के दौरान कई लड़कियों के कमरे की दीवार पर तमाम तरह की बातें लिखी हुई मिली। इनमें ज्यादातर किसी के प्रति प्रेम के इजहार से संबंधित कोटेशन एवं भावनाएं एवं कांटेक्ट नंबर थे। इस पर उन्होंने वार्डन से बात की। अपनी प्रतिक्रिया में कविता जैन से कहा कि यह लड़कियों की निजी भावनाएं हो सकती हैं जिसे चेंज करना मुश्किल है। संवासिनों को मानसिक तौर पर स्वस्थ रखने के लिए उन्होंने वर्कशॉप आदि का प्रबंध किए जाने के निर्देश दिए।

ऐसी आई शिकायत : निरीक्षण के दौरान रानी नामक संवासिन ने समय से राशन मिलने की शिकायत की। कुछ लड़कियों ने पिटाई किए जाने की बात करते हुए सुरक्षा का मसला उठाया। कई लड़कियों ने मैडम से मोबाइल दिलाने का अनुरोध करते हुए कहा कि यहां पर फोन की सुविधा नहीं हैं। जिससे परिजनों से बात नहीं हो पाती है। श्रीमती जैन ने मोबाइल की मांग खारिज करते हुए टेलीफोन की व्यवस्था करने को कहा। साथ ही यह निर्देशित किया कि एक शेड्यूल तय करके संवासिनियों की उनके परिजनों से बात कराने की सुविधा की जाए।