पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • धुंध में हाइवे पर दुर्घटनाओं को रोकेगी पुलिस

धुंध में हाइवे पर दुर्घटनाओं को रोकेगी पुलिस

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाहनचालकों को धुंध में होने वाली परेशानियों को काफी कम करने के लिए पुलिस एक नई योजना पर विचार कर रही है। अगर याेजना सफल रहती है तो पुलिस के वाहन धुंध में वाहनों को सही दिशा देने का कार्य करते नजर आएंगे।

योजना के चलाने का प्रमुख उद्देश्य हाइवे पर धुंध में होने वाली दुर्घटनाओं को रोकना है। योजना जल्द ही धरातल पर दिखाई देगी। वाहनों के आगे पीछे पुलिस के वाहन चलेंगे। जिससे दुर्घटना होने का डर के बराबर रहेगा। पुलिस के वाहनों पर फॉग लाइट लगी होगी। वाहनों के साथ क्रेन भी चला करेंगी। ताकि अगर कोई असंभावित दुर्घटना होती है तो तुरंत मदद पहुंचाई जा सके। आईजी राजबीर देसवाल ने बताया कि फतेहाबाद की तर्ज पर हाइवे पर नई योजना बनाने पर विचार किया जा रहा है। योजना लगभग तैयार है। बस कुछ सुधार की जरूरत है। जो जल्द ही पुरा कर लिए जाएगे।

पानीपतसे शाहबाद तक का क्षेत्र उनके पास

उन्होंनेकहा कि हाइवे पर पानीपत से शाहबाद तक का क्षेत्र उनके अंतर्गत ही आता है। इस क्षेत्र में कोई असंभावित दुर्घटना होती है तो उसके बारे में उन्हें ही कोई एक्शन लेना है। दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ही नई योजना बनाई जा रही है।

चालीस से पचास वाहनों को एक साथ चलवाएंगे

उन्होंनेकहा कि किसी निश्चित क्षेत्र से चालीस से पचास वाहनों को एक साथ एक लेन में चलाया जाएगा। इन वाहनों के आगे पीछे पुलिस का वाहन होगा। जो वाहनों को निर्धारित स्पीड पर चलवाकर उनके गंतव्य पर छोड़ेगा। वाहन जैसे ही एक साइड से वाहनों को लेकर जाएंगे, तो दूसरी साइड से आते ही वहां से अन्य वाहनों के आगे पीछे चलकर आएंगे। ताकि सड़क दुर्घटना होने का कोई भी चांस बिल्कुल ही रहे और बढ़ रही दुर्घटनाओं को रोका जा सके।

फतेहाबादमें नहीं हुई थी कोई भी सड़क दुर्घटना

आईजीराजबीर देसवाल ने बताया कि यह योजना फतेहाबाद में लागू की गई थी। योजना लागू होने से वहां पर हाइवे पर कोई भी दुर्घटना नहीं हुई। योजना अनुसार जब तक एक साथ चालीस से पचास वाहन नहीं होते, तब तक वाहन चालकों को यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। चाहे कितना भी टाइम लगे। उन्होंने वाहन चालकों से आग्रह किया है वे हाइवे पर एक ही लेन में वाहनों को चलाएं।

उन्होंने कहा कि साल में हाइवे पर करीब पांच से छह हजार लोगों की जान जाती है। पिछले दिनों में तो उनकी संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। इन दुर्घटनाओं को रोकने